Home Blog

सरकारी देसी शराब दुकान में चोरी, गल्ला समेत डेढ़ लाख रुपए पार, सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही पुलिस..

जांजगीर-चांपा – जिले में सरकार द्वारा संचालित देसी शराब दुकान का गला उठाकर चोर ले गए गले में डेढ़ लाख रुपए से ज्यादा होने की बात शराब दुकान के कर्मचारी बता रहे हैं इस मामले में पामगढ़ पुलिस मौके पर पहुंचकर जांच कर रही है सीसीटीवी फुटेज खंगालने के बाद मामले के खुलासा होने की उम्मीद जताई जा रही है।

गौरतलब है कि पामगढ़ थाना क्षेत्र के ससहा गांव में देसी शराब दुकान संचालित है जहां बीती देर रात अज्ञात चोर दुकान के दरवाजे का कुंदा तोड़कर रुपयों से भरा गल्ला उठाकर ले गए जिसमें बिक्री का रकम भरा हुआ था। पुलिस के मुताबिक शराब दुकान के कर्मचारियों ने जानकारी दी है कि गल्ले में लगभग डेढ़ लाख रुपए से ज्यादा रकम थी जिसे चोरों ने पार कर दिया और गल्ला शराब दुकान से कुछ दूरी पर छोड़कर फरार हो गए। इस मामले में पामगढ़ पुलिस को सूचना दी गई इसके बाद आज पामगढ़ पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मुआयना किया है। पुलिस के मुताबिक सीसीटीवी फुटेज खंगाले जाएंगे इसके बाद खुलासा होने की उम्मीद है।

पुलिस को मिली बड़ी सफलता : 8 लाख की चोरी मामले में 3 आरोपी गिरफ्तार, 4 लाख 80 हजार रुपये बरामद..

जीपीएम – पुलिस जिले में हुए एक बड़ी चोरी का खुलाशा करने में सफलता हासिल की है। घटना थाना मरवाही के सिवनी ग्राम की है। गल्ला व्यापारी अशोक गुप्ता निवासी सिवनी का थाना में रिपोर्ट दर्ज कराया था कि यह अपने रिस्तेदारी में सपरिवार शादी में गया था। दिनाँक 6/7/21 को जब सुबह वापस आया तो घर के दरवाजे के कुंदा टूटा हुआ था। अंदर जाकर देखा जो आलमारी का दरवाजा भी टूटा था आलमारी में रखे 4 लाख रुपये और सोने, चांदी के जेवर आदि कीमती 4 लाख कुल कीमती 8 लाख को चोरी कर ले गए है। रिपोर्ट पर से थाना मरवाही में अपराध क्रमांक 100/21 धारा 457,380 भादवि कायम कर विवेचना में लिया गया।

थाना प्रभारी मरवाही के द्वारा घटना की सूचना वरिष्ठ अधिकारियों को दिया गया। पुलिस अधीक्षक श्री त्रिलोक बंसल के द्वारा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक गौरेला श्रीमती प्रतिभा तिवारी अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री गौरव मंडल के निर्देशन में थाना प्रभारी मरवाही नरेंद्र सिंह के नेतृत्व में टीम गठित कर मामले की विवेचना हेतु निर्देशित कर लगातार मार्गदर्शन किया गया। थाना मरवाही की टीम के द्वारा मामले में लोकल मुखबिरों को सक्रिय कर तैनात रखी थी। मम्मले में शिवम गुप्ता के ऊपर संदेह होने से शिवम गुप्ता को हिरासत में लेकर मनोवैज्ञानिक तरीके से पूछताछ पर अपने साथी राजकुमार दुबे एवं नीरज द्विवेदी के साथ चोरी करना कबूल किया।

मामले की जांच विवेचना पर पाया गया कि प्रकरण का मुख्य आरोपी शिवम गुप्ता उर्फ रस्सू जो की टी.बी. की बिमारी से ग्रसित है जिसके बारे में उसने घर पर नही बताया था और घर में बिना बताए ईलाज के लिए पैसो की आवश्यकता थी। इसी प्रकार प्रकरण के अन्य आरोपी राजकुमार दुबे उर्फ छोटू जिसकी की जमीन उसके पैतृक गांव दारसागर में है जहां पर उसकी खेती जमीन गिरवी है जिसे वह पैसा देकर छुडाना चाहता है एवं इसी प्रकार प्रकरण के एक और आरोपी नीरज द्विवेदी अपने गाडी का लोन जल्द पूरा कराने के उददेश्य से तीनो आरोपी चोरी की योजना बनाते है। मुख्य आरोपी शिवम को यह पता था कि उसके रिश्तेदार अशोक गुप्ता जो गल्ला व्यापारी है का परिवार शादी में बाहर गये है और गल्ला व्यापारी है उनके घर पैसा होगा घटना दिनांक को शाम के 07.00 बजे आरोपी शिवम गुप्ता जब विजय दुबे की किराना दुकान में गया वहा पर अशोक गुप्ता के यहां रात को सोने जाने वाला चौकीदार मंगल सिह से मिला वही मंगल सिह ने शिवम गुप्ता को कहा कि सेठ ( अशोक गुप्ता ) से बात कर के पूछो वह कब आएगा। इस पर जब शिवम गुप्ता ने फोन पर अशोक गुप्ता के लडके राहुल गुप्ता से फोन से बात करने पर यह पता चला कि अशोक गुप्ता और उसका परिवार आज रात न आकर कल सुबह पहुचने वाले है।

इस बात का पता चलने पर तत्काल चोरी करने की योजना बनाई और अपने साथी राजकुमार दुबे और नीरज द्विवेदी को जरिये मोबाईल से सूचना दिया और यह तय हुआ कि आरोपी शिवम और राजकुमार अंदर जाएगे और नीरज द्विवेदी बाहर निगरानी करेगा। तय समय पर शिवम और राजकुमार दुबे घर के अंदर घुसे और घर के दरवाजे को धक्का देकर तोडा फिर अंदर घुस कर अलमारी के दरवाजे को पंचकरा से तोडा और अंदर रखा नकदी और सोना चांदी के गहने लेकर बाहर आ गए फिर सोसायटी के सामने आकर राजकुमार को 100000 / नकद दिया और बाकी पैसा व सामान वह खुद रखा व घटना के अगले दिन चोरी की राशि में से 100000 / – अन्य आरोपी नीरज द्विवेदी को दिया गया।

पुलिस को मामले की पतासाजी के दौरान मुखबिर से यह सूचना मिली की प्रकरण का एक आरोपी शिवम गुप्ता ( कुछ गहने ) को बेचने का प्रयास कर रहा है इस पर से पुलिस ने पतासाजी कर आरोपी शिवम गुप्ता को उसके घर से अभिरक्षा में लेकर पूछताछ शिवम गुप्ता किया तो आरोपी ने अपना जुर्म स्वीकार किया और चोरी के माल को अपने घर पर छुपा कर रखा जाना बताया। आरोपी शिवम गुप्ता के घर जाकर उसकी निशादेही पर चोरी किए गए सोने चांदी के जेवर कीमत 4 लाख रुपये और नकद 50000 रुपये को बरामद कर विधिवत जप्ती किया। अन्य आरोपी राजकुमार दुबे और नीरज द्विवेदी के द्वारा चोरी के नकद राशि को ग्राम सिवनी मे नीलगिरी प्लांटेशन के पास महुआ पेड के नीचे छिपाकर रखना बताया जो कि 30000 / – की मेमोरेडम जप्ती किया। इस प्रकार मामले में 4,00,000 रुपये के सोने चांदी के जेवर एवं 80,000 रुपये नगद बरामद किया गया है शेष 320000 / – सभी आरोपियो के द्वारा खर्च करना बताया गया है।

प्रकरण के आरोपी 1.शिवम गुप्ता उर्फ ररसु पिता जमुना प्रसाद गुप्ता उम्र 26 साल 2 राजकुमार उर्फ छोटू दुबे पिता रामुदलारे दुबे उग्र 19 साल 3. नीरज द्विवेदी पिता रामशोभित द्विवेदी उम्र 25 साल सभी निवासी पुरानी बस्ती सिवनी थाना गरवाही को गिरफतार कर न्यायिक हिरासत में भेजा गया है।

सरकारी नौकरी: पुलिस विभाग में 25 हजार पदों पर निकली भर्ती, 10वीं पास भी करें अप्लाई, जानें डिटेल्स..

नई दिल्ली – सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहे युवाओं के लिए अच्छी खबर है। कर्मचारी चयन आयोग ने कांस्टेबल और राइफफैन के पदों पर बंपर भर्ती निकाली है। आपको ये जानकारी खुशी होगी कि राइफलमैन भर्ती के लिए 10 पास युवा भी आवेदन कर सकते हैं। इच्छुक उम्मीदवार 31 अगस्त तक आवेदन कर सकते हैं। वेबसाइट के अलावा फोन से ‘UMANG App’ के माध्यम से अप्लाई कर सकते हैं। उम्मीदवार नोटिफिकेशन आधिकारिक वेबसाइट ssc.nic.in पर जाकर देख सकते हैं।

इन पदों पर निकली भर्ती

सीमा सुरक्षा बल, केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल, भारत तिब्बत सीमा पुलिस, सशस्त्र सीमा बल समेत अन्‍य सुरक्षा बलों में कुल 25271 रिक्तियां जारी की गई हैं। इसके लिए नोटिफिकेशन 17 जुलाई को जारी किया गया था जबकि आवेदन दर्ज करने की लास्‍ट डेट 31 अगस्त निर्धारित है।

नौकरी का बड़ा मौका : 10 वीं पास 20,000 कर्मचारियों की नियुक्ति कर रही पेटीएम, 35 हजार से ज्यादा होगी सैलरी..

नई दिल्ली – डिजिटल भुगतान और वित्तीय सेवा कंपनी पेटीएम ने व्यापारियों को डिजिटल माध्यम को अपनाने के बारे में शिक्षित करने के लिए पूरे भारत में करीब 20,000 फील्ड सेल्स कार्यकारियों को नियुक्त करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। इस मामले की जानकारी रखने वाले सूत्रों ने यह जानकारी दी।

नौकरी से जुड़े पेटीएम के एक विज्ञापन के अनुसार, फील्ड सेल्स एक्जिक्यूटिव (एफएसई) के पास मासिक वेतन और कमीशन में 35,000 रुपये और उससे अधिक कमाने का अवसर होगा। कंपनी एफएसई के रूप में युवाओं और स्नातकों को नियुक्त करना चाहती है।

एक स्रोत ने कहा, ‘पेटीएम ने एफएसई को काम पर रखना शुरू कर दिया है। यह अवसर उन लोगों के लिए है जो या तो 10वीं, 12वीं कक्षा पास कर चुके हैं या स्नातक हैं। यह छोटे शहरों और कस्बों में रोजगार सृजन में मदद करेगा, खासकर उन लोगों के लिए जिन्होंने महामारी के दौरान नौकरी खो दी है।’

दो मासूम बच्चों की डूबने से दर्दनाक मौत, खेलने के लिए घर से निकले बच्चों की शव डबरी में मिला.. पूरे गांव में पसरा मातम..

बिलासपुर – सीपत थाना क्षेत्र में 2 मासूम बच्चों की दर्दनाक मौत हो गई है। दोनों शनिवार दोपहर को खेलने के लिए निकले थे, लेकिन वापस नहीं लौटे। दोनों के शव गांव में ही बने एक डबरी में मिले हैं। करीब 3 घंटे की मशक्कत के बाद दोनों के शव निकाले जा सके हैं। मामला सीपत थाना क्षेत्र के सोठी गांव का है।

सोठी निवासी आयुष कुमार यादव (4) और शौर्य कुमार धुलिया (3) शनिवार को खेलने के लिए घर से निकले थे। शौर्य भी आयुष के ही मोहल्ले में रहता था। दोनों साथ में खेलते थे। परिजनों को लगा था कि दोनों आसपास ही खेल रहे होंगे। काफी समय बीतने के बाद भी दोनों वापस नहीं आए तो उन्हें परिवार वालों ने ढूंढा, लेकिन उनका पता नहीं लगा।

करीब 3 घंटे की तलाशी के बाद दोनों का शव गांव में बने डबरी में मिला। ग्रामीण क्षेत्रों में डबरी छोटे क्षेत्र में बने गड्‌ढे में भरे पानी को कहा जाता है। जिसका इस्तेमाल ग्रामीण रोजमर्रा कार्य के लिए करते हैं। शव मिलने के बाद परिजन फूट-फूटकर रोने लगे। वहीं पूरे गांव में मातम पसर गया।

पूरे घटनाक्रम के बाद इस बात की जानकारी सीपत थाने को दी गई है। फिलहाल दोनों के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। इस बात का पता लगाया जा रहा है कि आखिर बच्चे कैसे उस डबरी तक पहुंच गए या किसी और कारणों से बच्चों की मौत हुई है।

फिर वापस लौट सकता है लॉकडाउन?.. इन राज्यों में कोरोना के नए मामलों और पॉजिटिविटी रेट में बढ़ोतरी, केंद्र सरकार ने सख्त पाबंदियों की दी सलाह..

नईदिल्ली – कई राज्यों में कोरोना वायरस के नए मामलों में बढ़तोरी और पॉजिटिविटी रेट में बढ़ोतरी के बाद केंद्र सरकार ने प्रतिबंधों को फिर से लागू करने पर विचार करने के लिए कहा है। कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने शनिवार को 10 राज्यों के साथ एक हाई लेवल बैठक की। स्वास्थ्य सचिव ने केरल, महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु, ओडिशा, असम, मिजोरम, मेघालय, आंध्र प्रदेश और मणिपुर के प्रतिनिधियों से कहा कि पिछले कुछ हफ्तों में 10 प्रतिशत से अधिक की पॉजिटिविटी रेट रिपोर्ट करने वाले सभी जिलों को सख्त प्रतिबंधों पर विचार करने की आवश्यकता है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने अपने बयान में कहा कि पिछले कुछ हफ्तों में 10 फीसदी से अधिक की संक्रमण दर की रिपोर्ट करने वाले सभी जिलों में लोगों की आवाजाही को रोकने / कम करने, भीड़ को और लोगों के आपस में मिलने से रोकने के लिए सख्त प्रतिबंधों पर विचार करने की आवश्यकता है।  स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि प्रभावित राज्यों में 80 फीसदी से अधिक सक्रिय मामले होम आइसोलेशन में बताए गए हैं और इन मामलों की कड़ाई से निगरानी करने की आवश्यकता है ताकि वे अन्य लोगों से न मिलें और न संक्रमण फैलाएं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्यों से यह भी कहा कि वे जिलेवार कोरोना के आंकड़ों के लिए अपने स्वयं के सिरो सर्वे करें, क्योंकि राष्ट्रीय स्तर पर इस तरह का सर्वेक्षण थोड़ा कठिन है।

इन 10 राज्यों में सामने आ रहे कोरोना के मामलों में से 80 फीसदी मामले होम आइसोलेशन के आ रहे हैं। इन राज्यों में जरूरत है कि सख्त कदम उठाए जाएं, ताकि मोहल्ले, कॉलोनियों या आस-पड़ोस में लोगों के मिलने-जुलने पर रोक लगे। समीक्षा बैठक में सलाह दी गई कि अस्पताल में भर्ती मरीजों को समय से इलाज मिले, इसके लिए होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों का इलाज बेहतर तरीके से हो।

राज्य सरकारें भी उन जिलों में ज्यादा जोर दे रही हैं, जहां पॉजिटिविटी रेट 10 फीसदी से ज्यादा है। इसलिए इन जिलों में वैक्सीनेशन की रफ्तार और तेज करनी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि राज्यों को उनकी कंजम्प्शन के मुताबिक ही वैक्सीन आवंटित की जा रही हैं। पिछले दो महीने में केंद्रीय सरकार ने राज्यों को ऑक्सीजन, कंसंट्रेटर, ऑक्सीजन सिलिंडर और PSA प्लांट्स मुहैया कराए। राज्यों को निर्देश दिया गया है कि वो निजी अस्पतालों में हॉस्पिटल बेस्ड PSA प्लांट लगाएं।

इसके अलावा समीक्षा बैठक में राज्य सरकारों को अपने स्तर पर सीरो सर्वे करने की सलाह दी गई है, ताकि जिलास्तर पर कोरोना की स्थिति की जानकारी मिले. इसके अलावा राज्यों को सलाह दी गई है कि 60 साल से ज्यादा उम्र और 45-60 साल के बीच के लोगों को वैक्सीन बढ़ाने पर जोर दिया जाए।

बैठक में मौजूद भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) के महानिदेशक डॉ बलराम भार्गव ने कहा कि प्रतिदिन 40000 ने मामले के साथ समझौते करने की जरूरत नहीं है। भारत में लगभग 46 जिले 10 प्रतिशत से अधिक पॉजिटिविटी रेट रिपोर्ट कर रहे हैं और 53 जिले ऐसे हैं जो कि खतरे की ओर बढ़ रहे हैं। यहां पॉजिटिविटी रेट 5 से 10 प्रतिशत के बीच है। कोरोना के नए मामलों में बढ़ोतरी को देखते हुए मंत्रालय की ओर से इन राज्यों को 4 प्वाइंट में दिशा-निर्देश दिए गए हैं।

दुष्कर्म : 8 साल की बच्ची को पड़ोसी ने बनाया हवस का शिकार, अगवा कर मुंह में कपड़ा ठूंसकर दिया दरिंदगी को अंजाम..

जांजगीर – छत्तीसगढ़ के जांजगीर में 8 साल की बच्ची से 40 साल के पड़ोसी ने ही दुष्कर्म किया है। वह शुक्रवार देर रात दीवार फांदकर घर में घुसा और दादी के पास सो रही बच्ची को उठा ले गया। इस बीच बच्ची की नींद खुल गई और वह चिल्लाने लगी तो दरिंदे ने उसके मुंह में कपड़ा ठूंस दिया। उसने बच्ची को बुरी तरह पीटा भी। रेप के बाद बच्ची को घर के बाहर छोड़कर आरोपी भाग गया। मासूम ने रोते हुए दादी को घटना के बारे में बताया, तब मामला पुलिस तक पहुंचा। पुलिस ने आरोपी को हिरासत में ले लिया है। वह 5 बच्चों का बाप है। बच्ची की हालत गंभीर बताई जा रही है। वह अस्पताल में भर्ती है।

नवागढ़ क्षेत्र में 8 साल की बच्ची अपनी दादी और पिता के साथ रहती है। उस रात वह दादी के पास थी, जबकि पिता दूसरे कमरे में सोए थे। तभी करीब 12 बजे रात में पड़ोस में रहने वाला सुरेश सूर्यवंशी (40) घर में घुस आया। उस समय दादी व बच्ची के पिता को कुछ नहीं पता चल पाया। रास्ते में बच्ची की नींद खुल गई तो उसने शोर मचाना शुरू कर दिया। इस पर आरोपी ने उससे मारपीट की और मुंह में कपड़ा ठूंस दिया। नहर किनारे जाकर उसने बच्ची से दरिंदगी की। घर आकर बच्ची ने किसी तरह दरवाजा खुलवाया और दादी को घटना के बारे में जानकारी दी। सुबह होने पर वारदात की सूचना नवागढ़ थाने को दी गई।

सूचना मिलने पर पुलिस ने दोपहर बाद आरोपी को हिरासत में ले लिया है। उससे पूछताछ की जा रही है। पुलिस इस मामले को दबाने के प्रयास में जुटी थी। फिलहाल वह अभी भी कुछ बोलने को तैयार नहीं है। बच्ची को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। हालांकि पुलिस इतना जरूर कह रही है कि आरोपी ने बच्ची को इतनी बुरी तरह से पीटा है कि उसका मुंह तक सूज गया है।

मासूमों को अपनों ने बनाया शिकार

30 जुलाई : बलौदाबाजार में 18 साल की बेटी से उसके ही पिता ने दुष्कर्म किया। आरोपी अपनी बेटी को अच्छी पढ़ाई का झांसा देकर रायपुर से लेकर आया था।

29 जुलाई : बिलासपुर में 6 साल की बच्ची से उसके ही मौसा ने दुष्कर्म किया। माता-पिता की मौत के बाद बच्ची अपने मौसा-मौसी के साथ रहती थी।

21 जुलाई : अंबिकापुर में 12 साल की बच्ची से उसके बड़े पापा (ताऊ) और पिता ने ही दुष्कर्म किया। बदनामी के डर से पहले तो बच्ची की मां चुप रही, लेकिन जब पिता ने ही बेटी से हैवानियत की तो उसने जानकारी मायके वालों को दी।

29 जून : कवर्धा में पड़ोसी युवक ने घर में घुसकर किशोरी से दुष्कर्म किया। फिर धमकी देकर संबंध बनाता रहा। जब किशोरी गर्भवती हो गई तो मामला खुला।

29 जून : कवर्धा में ही एक अन्य मामले में एक किशोरी को शादी का झांसा देकर दुष्कर्म किया गया। घर से भी भगा ले गया और डेढ़ साल तक उससे संबंध बनाता रहा। फिर शादी से इनकार कर दिया और भगा दिया।

21 जून : बिलासपुर में पड़ोसी अधेड़ ने 3 साल की बच्ची से दुष्कर्म किया। बच्ची को टीवी पर कार्टून दिखाने के बहाने अपने घर ले गया था।

18 जून : अंबिकापुर में दो किशोरियों से 4 लड़कों ने गैंगरेप किया। किशोरियां शादी समारोह में शामिल होने के लिए बारात में आई थीं। वहां दुल्हन के भाई ने घुमाने के बहाने दोस्तों के साथ मिलकर दुष्कर्म किया।

घोंघा जलाशय में मिली सीनियर रीडर तैरती लाश, आत्महत्या करने की जताई जा रही आशंका, पुलिस हत्या या आत्महत्या की कर रही पतासाजी..

बिलासपुर – जिला कोर्ट के सीनियर रीडर की पानी मे तैरती लाश मिली है, बिलासपुर जिला कोर्ट में सीनियर रीडर के पोस्ट पर पदस्थ शिवकुमार श्रीवास्तव उम्र 60 वर्ष निवासी राजकिशोर नगर 29 जुलाई को अपने घर से न्यायालय काम पर जाने के लिए निकला था, जो देर शाम तक घर नहीं पहुंचा जिसके बाद परिजनों ने इसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट सरकंडा थाना में लिखाई थी,

जहाँ शनिवार सुबह कोटा स्थित घोंघा जलाशय कोरिडेम में डैम के चौकीदार ने एक लाश को तैरती हुई देखा, इसके बाद इसकी सूचना कोटा पुलिस को दी गई, सूचना के बाद तत्काल कोटा पुलिस द्वारा मौके पर पहुंच कर तैरती हुई लाश को पानी से बाहर निकलवाया, जिसके बाद लाश की फ़ोटो ग्राफी सोशलमीडिया के माध्यम से शिनाख्त के लिए संबंधित आस पास थाना में भेजा, जिसके बाद सरकंडा थाना क्षेत्र में एक गुमशुदा की रिपोर्ट के आधार पर शिनाख्त परिजनों से कराई गई जिसकी पहचान जिला कोर्ट के सीनियर रीडर शिवकुमार श्रीवास्तव के रूप में हुई है। वही इस मामले में परिजनों ने आरोप लगाया है कि मृतक शिवकुमार कुछ दिनों से अपने कोर्ट कार्यालय के काम को लेकर परेशान चल रहे थे।

रीडर के ऊपर अधिकारियों का काम करने को लेकर दबाओ बनाया जा रहा था। इससे मृतक काफी परेशान था इसी को लेकर सीनियर रीडर ने कोटा घोंघा जलाशय में आत्महत्या जैसे कदम उठाये जाने की आशंका व्यक्त की जा रही है। बहरहाल कोटा पुलिस द्वारा मर्ग कायम कर पंचनामा कार्यवाही कर पोस्टमार्टम के बाद शव को परिजनों को सौंप दिया गया है, पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही पता चल पाएगा कि मृतक ने आत्महत्या की है या कोई और वजह है।

मोहल्ला क्लास बनी बच्चे के लिए जानलेवा, क्लास के दौरान सर्प दंश का हुआ शिकार..अस्पताल पहुंचाने के पहले हुई मौत..

अंबागढ़ – मोहल्ला क्लास एक स्कूली बच्चे के लिए जानलेवा बन गया। मोहल्ला क्लास में गये एक स्कूली बच्चे को जहरीले सांप ने डंस लिया। इस घटना के बाद बच्चे की मौत हो गयी। घटना राजनांदगांव के अंबगढ़ चौकी बतायी जा रही है। अंबागढ़ चौकी के परसाटोला के आश्रित गांव खुर्सीटिकुल में मोहल्ला क्लास का संचालन हो रहा है। इस मोहल्ला क्लास में 8 काल का चंद्रेंश भुआर्य भी पढ़ने जाता था। इसी दौरान वो सर्पदंश का शिकार हो गया।

परिजनों के मुताबिक मोहल्ला क्लास के दौरान सुबह 10 बजे के आसपास ये घटना हुई है। घटना के बाद क्लास के दौरान चंद्रेश को बेहोशी आने लगी, जिसके बाद तत्काल परिजनों को सूचना दी गयी। करीब 2 घंटे तक स्थानीय तौर पर ही इलाज होता रहा। दोपहर करीब 12 बजे परिजनों ने बच्चो को अस्पताल पहुंचाया, जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

चंद्रेश तीसरी क्लास में पढ़ता था। पुलिस ने घटना को लेकर मर्ग कायम कर लिया है। दरअसल कोरोना की वजह से स्कूलों में क्लास नहीं लग रहे हैं, स्थानीय स्तर पर और बिना सुरक्षा का ख्याल किये ही क्लास लगायी जा रही है, जिसकी वजह से आये दिन कुछ ना कुछ परेशानियां आ रही है। ये घटना भी इसी वजह से बतायी जा रही है, जिसे लेकर विभाग की तरफ से कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

ज़मीन विवाद को लेकर भाई ने भाई को फावड़े और डंडे मारकर उतारा मौत के घाट, पुलिस जांच में जुटी..

सूरजपुर – छत्तीसगढ़ के सूरजपुर जिले में जमीन विवाद को लेकर 2 भाईयों में जमकर मारपीट हो गई है। जिसमें एक भाई की मौत हुई है। वहीं मृतक के 2 बेटे भी घायल हुए हैं। बताया गया है कि पीड़ित को फावड़े और डंडे से इतनी बुरी तरह पीटा गया था कि देर रात उसने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया है। पूरा मामला जिले के रामकोला थाना के छतौरी गांव का है। फिलहाल दोनों पक्षों के खिलाफ पुलिस ने केस दर्ज किया है। मृतक का नाम मंगलसाय है।

जानकारी के मुताबिक पूरा मामला जिले के रामकोला थाना के छतौरी गांव का है। जहां हीरासाय पंडो गुरुवार की दोपहर 12 बजे अपने खेत की मेड को फावड़ा से काट रहा था। उसी दौरान हीरासाय का चाचा जयराम उसका बेटा और अन्य लोग मौके पर पहुंच गए। जयराम ने आरोप लगाया कि ये जमीन उसकी है। इसके बाद जयराम, उसका बेटा और अन्य लोग हीरासाय से गाली गलौज करने लगे और मारपीट भी की।

मारपीट में मृतक के 2 बेटे भी घायल

इस बीच बढ़ते विवाद के बीच उसका पिता मंगलसाय वहां पहुंच गया और बीच-बचाव करने लगा। लेकिन मंगलसाय के ही भाई जयराम और उसके साथियों ने फावड़ा व डंडे से उस पर भी हमला कर दिया। जिससे मंगलसाय बुरी तरह घायल हो गया । इसके बाद मंगलसाय को अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। जहां उसने शुक्रवार देर रात को इलाज के दौरान दम तोड़ दिया है।

घायल हीरासाय पंडो ने बताया कि पिता जी के बाद मेरा भाई रवि भी मौके पर पहुंचा था। आरोपियों ने उसे भी पीटा है और वो भी घायल हुआ है। पूरे मामले को लेकर जयराम की रिपोर्ट पर रामकोला थाना ने हीरासाय और रवि के खिलाफ मारपीट का केस दर्ज किया है। वहीं मंगलसाय की मौत के बाद मेडिकल कॉलेज के पास स्थित मणीपुर चौकी ने आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया है। इस मामले में जांच जारी है। शव को पोस्टमॉर्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया गया है।