Thursday, December 8, 2022

छठघाट चौकी के पीछे पेड़ पर लटक रही थी सिम्स कर्मी की लाश, भाई की बाइक लेकर ड्यूटी जाने निकला था मृतक

बिलासपुर– छठघाट चौकी के पीछे पेड़ में सोमवार की रात युवक की लाश संदिग्ध हालत में पेड़ पर लटक रही थी। पुलिस ने आधी रात को शव को उतारकर सिम्स के मरच्यूरी में शिफ्ट करा दिया। इस बीच शव की पहचान सिम्स कर्मी युवक के रूप में की गई। परिजनों के मुताबिक मृतक अपने भाई की बाइक को लेकर ड्यूटी पर गया था। पुलिस इस मामले की जांच कर रही है।

अशोक नगर मुरूम खदान के पास रहने वाला बजरंग वस्त्रकार सिम्स में काम करता था। बीते सोमवार को वह अपने भाई की बाइक को मांग कर ड्यूटी पर गया था, लेकिन देर रात तक वह घर नहीं पहुंचा। इस बीच उसके भाई को मोबाइल से सूचना मिली, कि बजरंग की लाश छठघाट चौकी के पीछे पेड़ पर लटकती मिली है। इस पर भाई अपने पिता को लेकर घटनास्थल पहुंचा। शव की पहचान करने के बाद पुलिस ने शव को फंदे से नीचे उतार दिया, फिर उसे रात में ही सिम्स के मरच्यूरी में शिफ्ट करा दिया। उसके भाई ने बताया, कि बजरंग उसकी बाइक को लेकर ड्यूटी पर गया था, पर वह यहां छठघाट कैसे पहुंचा इसकी जानकारी नहीं है।

GiONews Team
Editor In Chief

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

बिलासपुर– छठघाट चौकी के पीछे पेड़ में सोमवार की रात युवक की लाश संदिग्ध हालत में पेड़ पर लटक रही थी। पुलिस ने आधी रात को शव को उतारकर सिम्स के मरच्यूरी में शिफ्ट करा दिया। इस बीच शव की पहचान सिम्स कर्मी युवक के रूप में की गई। परिजनों के मुताबिक मृतक अपने भाई की बाइक को लेकर ड्यूटी पर गया था। पुलिस इस मामले की जांच कर रही है।

अशोक नगर मुरूम खदान के पास रहने वाला बजरंग वस्त्रकार सिम्स में काम करता था। बीते सोमवार को वह अपने भाई की बाइक को मांग कर ड्यूटी पर गया था, लेकिन देर रात तक वह घर नहीं पहुंचा। इस बीच उसके भाई को मोबाइल से सूचना मिली, कि बजरंग की लाश छठघाट चौकी के पीछे पेड़ पर लटकती मिली है। इस पर भाई अपने पिता को लेकर घटनास्थल पहुंचा। शव की पहचान करने के बाद पुलिस ने शव को फंदे से नीचे उतार दिया, फिर उसे रात में ही सिम्स के मरच्यूरी में शिफ्ट करा दिया। उसके भाई ने बताया, कि बजरंग उसकी बाइक को लेकर ड्यूटी पर गया था, पर वह यहां छठघाट कैसे पहुंचा इसकी जानकारी नहीं है।