Saturday, December 3, 2022

झीरम मामले में राज्य सरकार की याचिका हाईकोर्ट ने की खारिज, 5 लोगों की गवाही को दी थी चुनौती

बिलासपुर– झीरम आयोग के फैसले को चुनौती देने वाली राज्य सरकार की याचिका हाईकोर्ट ने खारिज कर दिया है। याचिका 5 लोगों की गवाही को चुनौती देने के लिए लगाई गई थी। एक टेक्निकल एक्सपर्ट की गवाही सहित तीन आवेदनों को निरस्त किए जाने को भी चुनौती दी गई थी।

इस मामले में हाईकोर्ट की सिंगल बेंच द्वारा पहले ही याचिका खारिज हो चुकी थी, जिसके बाद शासन ने डिवीजन बेंच में याचिका लगाई गई थी। हाईकोर्ट की चीफ जस्टिस की डिवीजन बेंच ने मामले पर सुनवाई कर फैसला सुनाया है।

GiONews Team
Editor In Chief

23 COMMENTS

  1. คาสิโนออนไลน์เรียกว่ายุคนี้ใครๆจำเป็นจะต้องรู้จักเนื่องจากกระแสตอบรับดีเยี่ยมๆในกลุ่มนักพนันแบบใหม่ด้วยเหตุว่าเป็นที่รู้ๆกันอยู่ว่าคาสิโนออนไลน์ง่าย สบาย ไม่เป็นอันตรายสุดๆยิ่ง UFABETที่เป็นเว็บเชื่อถือได้ยิ่งเชื่อมั่นได้ว่า จ่ายจริงไม่มีกั๊กเลยครับ

  2. I blog quite often and I truly thank you for your information. The article has truly peaked my interest. I’m going to bookmark your blog and keep checking for new information about once a week. I subscribed to your RSS feed too.

  3. I’m not sure where you’re getting your information, butgood topic. I needs to spend some time learning more or understanding more.Thanks for excellent info I was looking for this information for my mission.

  4. I am not sure where you are getting your info, but good topic. I needs to spend some time learning more or understanding more. Thanks for great info I was looking for this info for my mission.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

बिलासपुर– झीरम आयोग के फैसले को चुनौती देने वाली राज्य सरकार की याचिका हाईकोर्ट ने खारिज कर दिया है। याचिका 5 लोगों की गवाही को चुनौती देने के लिए लगाई गई थी। एक टेक्निकल एक्सपर्ट की गवाही सहित तीन आवेदनों को निरस्त किए जाने को भी चुनौती दी गई थी।

इस मामले में हाईकोर्ट की सिंगल बेंच द्वारा पहले ही याचिका खारिज हो चुकी थी, जिसके बाद शासन ने डिवीजन बेंच में याचिका लगाई गई थी। हाईकोर्ट की चीफ जस्टिस की डिवीजन बेंच ने मामले पर सुनवाई कर फैसला सुनाया है।