Saturday, December 3, 2022

नाबालिग की शादी करा 50 हजार में बेचने की तैयारी कर रहे 7 गिरफ्तार, पैसों की लालच में ऑटो चालक ने रची थी साजिश

बिलासपुर– पैसों की लालच में नाबालिग की शादी करा उसे बेचने की तैयारी कर रहे ऑटो चालक समेत 7 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपियों ने संरक्षण देने के नाम पर जबरन 15 साल की नाबालिग लड़की की शादी कराकर उसे 50 हजार रु में ग्वालियर में बेचने वाले थे, लेकिन पुकिस ने उन्हें धरदबोचा।

मामले का खुलासा करते हुए एसपी प्रशांत अग्रवाल ने बताया, कि मंगला चौक के पास रोती मिली नाबालिक किशोरी को बहला-फुसलाकर ऑटो चालक अपने घर ले गया, और फिर गुपचुप उसे बेचने की तैयारी करने लगा, लेकिन इससे पहले कि वह अपने मकसद में कामयाब हो पाता,पुलिस रक्षा टीम ने उसके मंसूबे ध्वस्त कर दिए। करीब पखवाड़े भर पहले ऑटो चालक शशि उर्फ अतुल कुमार चतुर्वेदी को मंगला चौक के पास एक किशोरी रोती हुई मिली। उसे देख कर ऑटो चालक की नियत बिगड़ गई, और वह उसे बहला-फुसलाकर अपने घर ले आया। इस दौरान वह शशि के साथ ही रह रही थी। शातिर ऑटो चालक ने न तो किशोरी के परिजनों से संपर्क करने की कोई कोशिश की, और न ही इसकी सूचना पुलिस को दी, लेकिन इस बीच शशि चतुर्वेदी ने अपने परिवार के साथ मिलकर ग्वालियर में रहने वाले अपने रिश्तेदार देव उर्फ देशराज जाटव के साथ उस किशोरी का सौदा कर लिया। 50,000 रु में सौदा हुआ। इस बीच शशि चतुर्वेदी किशोरी को यह लालच देकर बहलाता फुसलाता रहा, कि उसे अच्छे कपड़े और गहने मिलेंगे , अगर वो शादी के लिए तैयार हो जाये।

इस मामले में पूरी योजना तय कर ली गई थी। 18 फरवरी को देशराज के साथ नाबालिक की शादी होनी थी, लेकिन किशोरी की किस्मत अच्छी थी, कि इसकी खबर रक्षा टीम को लग गई और उसने शशि चतुर्वेदी के घर जाकर किशोरी से पूछताछ की, तो परत दर परत सच्चाई सामने आ गई। इस मामले को पुलिस अधीक्षक ने भी गंभीरता से लिया, और एफआईआर दर्ज करते हुए शशि कुमार चतुर्वेदी और नाबालिक के खरीददार देव उर्फ देशराज जाटव और साजिश का हिस्सा रहे शशि की पत्नी शालिनी चतुर्वेदी, राजाराम चतुर्वेदी, फुलबति राज, चम्पा बाई सिवारे और चित्रलेखा बंजारे को गिरफ्तार कर लिया, और उनके पास से नाबालिग की शादी कराने खरीदे गए जेवर व 7 हजार रु नकद जब्त किए है।

इधर जब पुलिस ने नाबालिक लड़की के संबंध में जानकारी जुटानी शुरू की, तो पता चला, कि वह मुंगेली जिले के फास्टरपुर थाना की रहने वाली है । लड़की रामापुर चौकी कवर्धा से 30 जनवरी से लापता थी। रामापुर चौकी में उसके पिता ने उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट भी दर्ज कराई थी। यह जानकारी जुटाने के बाद पुलिस ने नाबालिग को उसके परिजनों को सौंप दिया। रक्षा टीम की तत्परता से एक नाबालिग किशोरी की जिंदगी तबाह होने से बच गई । रक्षा टीम की कोशिश की हर तरफ सराहना हो रही है। रक्षा टीम को प्रशस्ति पत्र देकर एसपी प्रशांत अग्रवाल ने सम्मानित भी किया है।

GiONews Team
Editor In Chief

685 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

बिलासपुर– पैसों की लालच में नाबालिग की शादी करा उसे बेचने की तैयारी कर रहे ऑटो चालक समेत 7 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपियों ने संरक्षण देने के नाम पर जबरन 15 साल की नाबालिग लड़की की शादी कराकर उसे 50 हजार रु में ग्वालियर में बेचने वाले थे, लेकिन पुकिस ने उन्हें धरदबोचा।

मामले का खुलासा करते हुए एसपी प्रशांत अग्रवाल ने बताया, कि मंगला चौक के पास रोती मिली नाबालिक किशोरी को बहला-फुसलाकर ऑटो चालक अपने घर ले गया, और फिर गुपचुप उसे बेचने की तैयारी करने लगा, लेकिन इससे पहले कि वह अपने मकसद में कामयाब हो पाता,पुलिस रक्षा टीम ने उसके मंसूबे ध्वस्त कर दिए। करीब पखवाड़े भर पहले ऑटो चालक शशि उर्फ अतुल कुमार चतुर्वेदी को मंगला चौक के पास एक किशोरी रोती हुई मिली। उसे देख कर ऑटो चालक की नियत बिगड़ गई, और वह उसे बहला-फुसलाकर अपने घर ले आया। इस दौरान वह शशि के साथ ही रह रही थी। शातिर ऑटो चालक ने न तो किशोरी के परिजनों से संपर्क करने की कोई कोशिश की, और न ही इसकी सूचना पुलिस को दी, लेकिन इस बीच शशि चतुर्वेदी ने अपने परिवार के साथ मिलकर ग्वालियर में रहने वाले अपने रिश्तेदार देव उर्फ देशराज जाटव के साथ उस किशोरी का सौदा कर लिया। 50,000 रु में सौदा हुआ। इस बीच शशि चतुर्वेदी किशोरी को यह लालच देकर बहलाता फुसलाता रहा, कि उसे अच्छे कपड़े और गहने मिलेंगे , अगर वो शादी के लिए तैयार हो जाये।

इस मामले में पूरी योजना तय कर ली गई थी। 18 फरवरी को देशराज के साथ नाबालिक की शादी होनी थी, लेकिन किशोरी की किस्मत अच्छी थी, कि इसकी खबर रक्षा टीम को लग गई और उसने शशि चतुर्वेदी के घर जाकर किशोरी से पूछताछ की, तो परत दर परत सच्चाई सामने आ गई। इस मामले को पुलिस अधीक्षक ने भी गंभीरता से लिया, और एफआईआर दर्ज करते हुए शशि कुमार चतुर्वेदी और नाबालिक के खरीददार देव उर्फ देशराज जाटव और साजिश का हिस्सा रहे शशि की पत्नी शालिनी चतुर्वेदी, राजाराम चतुर्वेदी, फुलबति राज, चम्पा बाई सिवारे और चित्रलेखा बंजारे को गिरफ्तार कर लिया, और उनके पास से नाबालिग की शादी कराने खरीदे गए जेवर व 7 हजार रु नकद जब्त किए है।

इधर जब पुलिस ने नाबालिक लड़की के संबंध में जानकारी जुटानी शुरू की, तो पता चला, कि वह मुंगेली जिले के फास्टरपुर थाना की रहने वाली है । लड़की रामापुर चौकी कवर्धा से 30 जनवरी से लापता थी। रामापुर चौकी में उसके पिता ने उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट भी दर्ज कराई थी। यह जानकारी जुटाने के बाद पुलिस ने नाबालिग को उसके परिजनों को सौंप दिया। रक्षा टीम की तत्परता से एक नाबालिग किशोरी की जिंदगी तबाह होने से बच गई । रक्षा टीम की कोशिश की हर तरफ सराहना हो रही है। रक्षा टीम को प्रशस्ति पत्र देकर एसपी प्रशांत अग्रवाल ने सम्मानित भी किया है।