Thursday, December 8, 2022

निकाय चुनाव में अमानत के लिए दिए गए 3 हजार के सिक्के, जीतने के बाद प्रशासन ने लौटाए

तखतपुर– नगरपालिका चुनाव में नामांकन फार्म लेते वक्त अमानत राशि के रूप में जमा करा गए 3 हजार रूपए के सिक्के को प्रत्याशी जब चुनाव जीतने के बाद अमानत राशि वापस लेने गया तब वहीं 3 हजार रूपए के सिक्के तहसील कार्यालय में वापस अमानत राशि के रूप में लौटा दिए।
नगरपालिका तखतपुर का चुनाव पार्षद चुनाव से लेकर अध्यक्ष उपाध्यक्ष के चयन तक सुर्खियों में रहा। वहीं इस चुनाव में नामांकन फार्म लेते वक्त नगरपालिका के चार बार पार्षद रहे टेकचंद कारडा ने जब नामांकन लिया तब 3 हजार रूपए के सिक्के जमा कर नामांकन फार्म लिया था और नामांकन फार्म लेते वक्त 3 हजार रूपए के सिक्के चल जाने की खुशी थी और यह खुशी उस वक्त और बढ गई जब नगरपालिका चुनाव के परिणाम आए और 243 मतों से जीत दर्ज की। जीत दर्ज होने के एक माह पश्चात तहसील कार्यालय से सूचना आयी कि ऐसे प्रत्याशी जिन्होंने अपनी जमानत बचा ली है और चुनाव में जीत दर्ज की है वे सभी अपनी अमानत राशि वापस ले जाए। नगरपालिका में चुनाव में 45 प्रत्याशी मैदान में थे 15 प्रत्याशी चुनाव जीते थे 6 की जमानत जप्त हुई थी। 24 प्रत्याशी चुनाव में पराजित हुए थे पर ये भी जमानत बचाने में सफल हो गए थे जिसके चलते 39 प्रत्याशी अमानत राशि तहसील कार्यालय से पाना है। सूचना के बाद सभी प्रत्याशी तहसील का कार्यालय पहुंचकर अपनी जमा अमानत राशि लेने पहुंच रहे है और इसी क्रम में आज वार्ड क्रमांक 9 के प्रत्याशी दिलीप तोलानी और वार्ड क्रमांक 4 के प्रत्याशी टेकचंद कारडा जब अपनी अमानत राशि लेने पहुंचें तो तहसील कार्यालय में लिपिक देवी प्रसाद गुप्ता ने श्री कारडा को वहीं 1 और 2 रूपए के सिक्के अमानत के रूप में वापस किए जो उन्होंने अमानत राशि के रूप में जमा कर आए थे। तहसील कार्यालय में सिक्के वापस लेते वक्त उनके साथ अधिवक्ता अजय सोनकर ने कहा कि ये सिक्के तो सरकारी खजाने में जमा हो जाने थे पर उन्हीं सिक्कों को वापस करना यह पता चलता है कि ट्रेजडी में ये सिक्के जमा ही नही हुए इसे वापस देने के लिए ही रखा गया था। इसी बात पर दिलीप तोलानी ने कहा कि मेरे द्वारा दो दो सौ के नोट जिस सिरियल के जमा कराए थे उसी नोट को वापस किया जाए वहीं सिक्के वापस मिलने पर तहसील कार्यालय में भी श्री कारडा एवं अन्य अधिवक्ता साथीयों के बीच माहौल खुशनुमा और ठाहको से भरा हो गया था।

GiONews Team
Editor In Chief

10 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

तखतपुर– नगरपालिका चुनाव में नामांकन फार्म लेते वक्त अमानत राशि के रूप में जमा करा गए 3 हजार रूपए के सिक्के को प्रत्याशी जब चुनाव जीतने के बाद अमानत राशि वापस लेने गया तब वहीं 3 हजार रूपए के सिक्के तहसील कार्यालय में वापस अमानत राशि के रूप में लौटा दिए।
नगरपालिका तखतपुर का चुनाव पार्षद चुनाव से लेकर अध्यक्ष उपाध्यक्ष के चयन तक सुर्खियों में रहा। वहीं इस चुनाव में नामांकन फार्म लेते वक्त नगरपालिका के चार बार पार्षद रहे टेकचंद कारडा ने जब नामांकन लिया तब 3 हजार रूपए के सिक्के जमा कर नामांकन फार्म लिया था और नामांकन फार्म लेते वक्त 3 हजार रूपए के सिक्के चल जाने की खुशी थी और यह खुशी उस वक्त और बढ गई जब नगरपालिका चुनाव के परिणाम आए और 243 मतों से जीत दर्ज की। जीत दर्ज होने के एक माह पश्चात तहसील कार्यालय से सूचना आयी कि ऐसे प्रत्याशी जिन्होंने अपनी जमानत बचा ली है और चुनाव में जीत दर्ज की है वे सभी अपनी अमानत राशि वापस ले जाए। नगरपालिका में चुनाव में 45 प्रत्याशी मैदान में थे 15 प्रत्याशी चुनाव जीते थे 6 की जमानत जप्त हुई थी। 24 प्रत्याशी चुनाव में पराजित हुए थे पर ये भी जमानत बचाने में सफल हो गए थे जिसके चलते 39 प्रत्याशी अमानत राशि तहसील कार्यालय से पाना है। सूचना के बाद सभी प्रत्याशी तहसील का कार्यालय पहुंचकर अपनी जमा अमानत राशि लेने पहुंच रहे है और इसी क्रम में आज वार्ड क्रमांक 9 के प्रत्याशी दिलीप तोलानी और वार्ड क्रमांक 4 के प्रत्याशी टेकचंद कारडा जब अपनी अमानत राशि लेने पहुंचें तो तहसील कार्यालय में लिपिक देवी प्रसाद गुप्ता ने श्री कारडा को वहीं 1 और 2 रूपए के सिक्के अमानत के रूप में वापस किए जो उन्होंने अमानत राशि के रूप में जमा कर आए थे। तहसील कार्यालय में सिक्के वापस लेते वक्त उनके साथ अधिवक्ता अजय सोनकर ने कहा कि ये सिक्के तो सरकारी खजाने में जमा हो जाने थे पर उन्हीं सिक्कों को वापस करना यह पता चलता है कि ट्रेजडी में ये सिक्के जमा ही नही हुए इसे वापस देने के लिए ही रखा गया था। इसी बात पर दिलीप तोलानी ने कहा कि मेरे द्वारा दो दो सौ के नोट जिस सिरियल के जमा कराए थे उसी नोट को वापस किया जाए वहीं सिक्के वापस मिलने पर तहसील कार्यालय में भी श्री कारडा एवं अन्य अधिवक्ता साथीयों के बीच माहौल खुशनुमा और ठाहको से भरा हो गया था।