Wednesday, August 10, 2022

पिता की अंतिम इच्छा थी, मृत्यु के बाद पुत्र ने मेडिकल कॉलेज को किया देहदान

तखतपुर (टेकचंद कारड़ा)- पिता की अंतिम इच्छा को पूरा करने के लिए पुत्र ने पिता के मृत्यु होने पर देहदान कर समाज को एक नया संदेश दिया है। देहदान से मेडिकल कालेज में पढने वाले छात्र छात्राएं मानव संरचना के अध्ययन कर सकेंगे।


नगर के वार्ड क्रमांक 7 निवासी फागुनमल नत्थानी पिछले कुछ समय से अस्वस्थ्य थे ईलाज के लिए रायपुर निवासी अपने पुत्र सुनील नत्थानी के साथ रह रहे थे अस्वस्थ् होने पर फागुनमल ने अपने पुत्रों को कहा था कि यदि उसक मृत्यु हो जाती है तो वे अपना देहदान करेंगे। इसी बीच 13 अप्रैल को फागुनमल का निधन हो गया इनके निधन होने पर पुत्र सुनील नत्थानी ने रायपुर के सामाजिक संस्था बढते कदम को सूचना दी। सूचना मिलने पर संस्था के प्रतिनिधि उपस्थित हुए और देहदान की प्रक्रिया पूरी की गई वहीं देहदान के पूर्व अंतिम संस्कार के सभी रस्में पूरी की गई। फागुनमल के तीन पुत्र है जिसमें सुनील नत्थानी रायपुर में हीरा लाल नत्थानी तखतपुर में तथा लक्ष्मण नत्थानी चकरभाठा में रहकर अपना कारोबार चलाते है। देहदान से समाज को भी सिख मिलेगा कि वे अपना जीवन परोपकार में लगाते रहे किंतु निधन होने के बाद भी वे अपना शरीर सिखने के लिए छोड गए देहदान के मिलने से मेडिकल की पढाई कर रहे छात्र छात्राओं को फायदा मिलेगा। वहीं देहदान पर तखतपुर पूज्य सिंधी पंचायत के अध्यक्ष विजय कारडा ने कहा कि यह समाज के लिए एक अच्छा संदेश है अन्य लोगों को भी सिख लेनी चाहिए।

परिजनों को सूचना दी गई

इन दिनों कोरोना वायरस के कारण प्रदेश में लाकडाउन है वहीं शासन का भी निर्देश है कि अंतिम संस्कार में केवल परिवार के कुछ लोग ही प्रक्रिया पूर्ण करें इसको देखते हुए फागुनमल के निधन होने पर परिजनों को सूचना दी गई। निधन डेढ बजे हुआ और तीन घंटे में ही देहदान की प्रक्रिया पूरी कर ली गई। लगभग 5 बजे पूर्ण हो गया है साथ ही इस समय सोशल डिस्टेंस का पालन किया गया

GiONews Team
Editor In Chief

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

तखतपुर (टेकचंद कारड़ा)- पिता की अंतिम इच्छा को पूरा करने के लिए पुत्र ने पिता के मृत्यु होने पर देहदान कर समाज को एक नया संदेश दिया है। देहदान से मेडिकल कालेज में पढने वाले छात्र छात्राएं मानव संरचना के अध्ययन कर सकेंगे।


नगर के वार्ड क्रमांक 7 निवासी फागुनमल नत्थानी पिछले कुछ समय से अस्वस्थ्य थे ईलाज के लिए रायपुर निवासी अपने पुत्र सुनील नत्थानी के साथ रह रहे थे अस्वस्थ् होने पर फागुनमल ने अपने पुत्रों को कहा था कि यदि उसक मृत्यु हो जाती है तो वे अपना देहदान करेंगे। इसी बीच 13 अप्रैल को फागुनमल का निधन हो गया इनके निधन होने पर पुत्र सुनील नत्थानी ने रायपुर के सामाजिक संस्था बढते कदम को सूचना दी। सूचना मिलने पर संस्था के प्रतिनिधि उपस्थित हुए और देहदान की प्रक्रिया पूरी की गई वहीं देहदान के पूर्व अंतिम संस्कार के सभी रस्में पूरी की गई। फागुनमल के तीन पुत्र है जिसमें सुनील नत्थानी रायपुर में हीरा लाल नत्थानी तखतपुर में तथा लक्ष्मण नत्थानी चकरभाठा में रहकर अपना कारोबार चलाते है। देहदान से समाज को भी सिख मिलेगा कि वे अपना जीवन परोपकार में लगाते रहे किंतु निधन होने के बाद भी वे अपना शरीर सिखने के लिए छोड गए देहदान के मिलने से मेडिकल की पढाई कर रहे छात्र छात्राओं को फायदा मिलेगा। वहीं देहदान पर तखतपुर पूज्य सिंधी पंचायत के अध्यक्ष विजय कारडा ने कहा कि यह समाज के लिए एक अच्छा संदेश है अन्य लोगों को भी सिख लेनी चाहिए।

परिजनों को सूचना दी गई

इन दिनों कोरोना वायरस के कारण प्रदेश में लाकडाउन है वहीं शासन का भी निर्देश है कि अंतिम संस्कार में केवल परिवार के कुछ लोग ही प्रक्रिया पूर्ण करें इसको देखते हुए फागुनमल के निधन होने पर परिजनों को सूचना दी गई। निधन डेढ बजे हुआ और तीन घंटे में ही देहदान की प्रक्रिया पूरी कर ली गई। लगभग 5 बजे पूर्ण हो गया है साथ ही इस समय सोशल डिस्टेंस का पालन किया गया