Thursday, December 8, 2022

पीपरतराई में अवैध तरीके से चल रहा मुर्गी दाना बनाने का कारोबार

कोटा– कोटा से लगे हुए ग्राम पंचायत पीपरतराई स्थित मुर्गी दाना बनाने का गोरखधंधा जोरों पर है।बता दें, कोटा में स्थित वेलकम डिस्टलरी शराब फैक्ट्री से वेटेज बदबूदार मैटेरियल को लाकर मजदूरों से सुखवाया जाता है, जिसके बाद केमिकल मिक्स करके पैकिंग कर मार्केट में बेचा जा रहा है।
जिसके बाद भी इस पर संबंधित अधिकारियों की नजर नहीं पड़ रही है, जानकारी के मुताबिक अवैध मुर्गी दाना बनाने का कार्य बिना परमिशन के पर्यावरण को प्रदूषित करने का काम विगत कई वर्षों से चलते आ रहा है, जिसके बाद भी अधिकारी इस ओर ध्यान नही दे रहे हैं।
हालांकि मुर्गी दाना फैक्ट्री के सुपरवाइजर का कहना है, कि ग्राम पंचायत से इसका अनुमति ली गई है। वहीं स्थानीय लोगों का आरोप है, कि फैक्ट्री की वजह से प्रदूषण फैल रहा है, लेकिन लंबे समय से चल रही इस फैक्ट्री पर लगाम कसने कोई ध्यान नही दिया जा रहा। जिससे उनका जीना दूभर हो गया है।
GiONews Team
Editor In Chief

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

कोटा– कोटा से लगे हुए ग्राम पंचायत पीपरतराई स्थित मुर्गी दाना बनाने का गोरखधंधा जोरों पर है।बता दें, कोटा में स्थित वेलकम डिस्टलरी शराब फैक्ट्री से वेटेज बदबूदार मैटेरियल को लाकर मजदूरों से सुखवाया जाता है, जिसके बाद केमिकल मिक्स करके पैकिंग कर मार्केट में बेचा जा रहा है।
जिसके बाद भी इस पर संबंधित अधिकारियों की नजर नहीं पड़ रही है, जानकारी के मुताबिक अवैध मुर्गी दाना बनाने का कार्य बिना परमिशन के पर्यावरण को प्रदूषित करने का काम विगत कई वर्षों से चलते आ रहा है, जिसके बाद भी अधिकारी इस ओर ध्यान नही दे रहे हैं।
हालांकि मुर्गी दाना फैक्ट्री के सुपरवाइजर का कहना है, कि ग्राम पंचायत से इसका अनुमति ली गई है। वहीं स्थानीय लोगों का आरोप है, कि फैक्ट्री की वजह से प्रदूषण फैल रहा है, लेकिन लंबे समय से चल रही इस फैक्ट्री पर लगाम कसने कोई ध्यान नही दिया जा रहा। जिससे उनका जीना दूभर हो गया है।