Thursday, October 6, 2022

बड़ी ख़बर: पुलिस पब्लिक स्कूल को मिली सीबीएसई की मान्यता..
नर्सरी से 12वीं तक कम फीस में ही पढ़ सकेंगे स्टूडेंट्स..

रायपुर– मुख्यमंत्री भूपेश बघेल राज्य में शिक्षा के स्तर को बढ़ाने के लिए सदैव प्रयासरत रहते हैं। इसी क्रम में विशेष प्रयास से पेंशनबाड़ा स्थित पुलिस पब्लिक स्कूल को सीबीएसई ने 12वीं कक्षा तक मान्यता प्रदान कर दी है।

उल्लेखनीय है, कि स्कूल भवन कई वर्षों से खाली पड़ा जर्जर हो रहा था। नई सरकार आने के बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इसकी मरम्मत कराकर स्कूल को अच्छे से संचालित करने के निर्देश दिए थे। जिसके बाद से नए सिरे से योजना बनाकर स्कूल को संचालित किया जा रहा है।

सीबीएसई की विशेष टीम के निरीक्षण में सभी मानक पूरे पाए गए, जिसके बाद मान्यता प्रदान की गई। अभी तक स्कूल आठवीं कक्षा तक संचालित हो रहा था। इस सत्र से यहां के छात्र-छात्राएं 9वीं में एडमिशन ले सकेंगे। स्कूल में पुलिसकर्मियों के अलावा आम नागरिकों के बच्चों को भी प्रवेश दिया जाता है।

डीजीपी डीएम अवस्थी ने बताया, कि इस स्कूल की खास बात है, कि यहां पुलिसकर्मी ही शिक्षक की भूमिका निभाते हैं। सभी योग्यताएं पूरी करने वाले ही पुलिसकर्मियों को यहां पदस्थ किया गया है। यहां पढ़ाई के साथ-साथ बच्चों को एक्स्ट्रा करिकुलर एक्टिविटी भी सिखाई जाती है। इसके अलावा खेलकूद और अन्य गतिविधियां भी लगातार संचालित होती रहती हैं। स्कूल में कम्प्यूटर लैब, प्ले ग्राउंड, म्यूजिक क्लास जैसी सुविधाएं उपलब्ध हैं। वर्तमान में स्कूल बिना किसी व्यवसायिक लाभ की अपेक्षा से संचालित किया जा रहा है। यही वजह है कि पुलिस पब्लिक स्कूल में फीस अन्य स्कूलों की अपेक्षा बहुत ही कम है। पिछले वर्ष स्कूल में 185 बच्चे अध्ययनरत थे।

GiONews Team
Editor In Chief

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

रायपुर– मुख्यमंत्री भूपेश बघेल राज्य में शिक्षा के स्तर को बढ़ाने के लिए सदैव प्रयासरत रहते हैं। इसी क्रम में विशेष प्रयास से पेंशनबाड़ा स्थित पुलिस पब्लिक स्कूल को सीबीएसई ने 12वीं कक्षा तक मान्यता प्रदान कर दी है।

उल्लेखनीय है, कि स्कूल भवन कई वर्षों से खाली पड़ा जर्जर हो रहा था। नई सरकार आने के बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इसकी मरम्मत कराकर स्कूल को अच्छे से संचालित करने के निर्देश दिए थे। जिसके बाद से नए सिरे से योजना बनाकर स्कूल को संचालित किया जा रहा है।

सीबीएसई की विशेष टीम के निरीक्षण में सभी मानक पूरे पाए गए, जिसके बाद मान्यता प्रदान की गई। अभी तक स्कूल आठवीं कक्षा तक संचालित हो रहा था। इस सत्र से यहां के छात्र-छात्राएं 9वीं में एडमिशन ले सकेंगे। स्कूल में पुलिसकर्मियों के अलावा आम नागरिकों के बच्चों को भी प्रवेश दिया जाता है।

डीजीपी डीएम अवस्थी ने बताया, कि इस स्कूल की खास बात है, कि यहां पुलिसकर्मी ही शिक्षक की भूमिका निभाते हैं। सभी योग्यताएं पूरी करने वाले ही पुलिसकर्मियों को यहां पदस्थ किया गया है। यहां पढ़ाई के साथ-साथ बच्चों को एक्स्ट्रा करिकुलर एक्टिविटी भी सिखाई जाती है। इसके अलावा खेलकूद और अन्य गतिविधियां भी लगातार संचालित होती रहती हैं। स्कूल में कम्प्यूटर लैब, प्ले ग्राउंड, म्यूजिक क्लास जैसी सुविधाएं उपलब्ध हैं। वर्तमान में स्कूल बिना किसी व्यवसायिक लाभ की अपेक्षा से संचालित किया जा रहा है। यही वजह है कि पुलिस पब्लिक स्कूल में फीस अन्य स्कूलों की अपेक्षा बहुत ही कम है। पिछले वर्ष स्कूल में 185 बच्चे अध्ययनरत थे।