Thursday, December 8, 2022

पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी और उनके बेटे अमित जोगी के खिलाफ जुर्म दर्ज, कर्मचारी को आत्महत्या करने के लिए मजबूर करने का आरोप

बिलासपुर– पूर्व मुख्यमंत्री के निवास मरवाही सदन में बुधवार को कर्मचारी की आत्महत्या के मामले में पुलिस ने पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी और उनके पुत्र अमित जोगी के खिलाफ भादवि की धारा 306, 34 के तहत आत्महत्या के लिए प्रेरित करने का मामला दर्ज कर लिया है।

परिजनों ने लगाया जोगी परिवार पर आरोप

जोगी निवास मरवाही सदन में चोरी का आरोप लगने के बाद बंगले की देखरेख करने वाले को ने क्षेत्र के रमतला निवासी कर्मचारी मनवा और संतोष कौशिक ने बुधवार की शाम 4:00 बजे के आसपास फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी, घटना के बाद मौके पर पहुंचे मृतक के भाई कृष्ण कुमार सहित परिजनों ने आरोप लगाया, कि बंगले के मालिकों ने उसे जेल भेजने की धमकी दी थी, जिससे वह सहमा हुआ था, जिसके चलते संतोष को आत्महत्या के लिए मजबूर होना पड़ा। पुलिस इस मामले में मर्ग कायम जांच कर रही थी। संतोष के परिजनों ने इस पूरे मसले को लेकर जोगी परिवार को सवालों में ला दिया था। जोगी परिवार से आशय अजित प्रमोद जोगी और अमित जोगी है, जिन्हें लेकर मृतक संतोष कौशिक के बड़े भाई कृष्ण कुमार कौशिक ने रिपोर्ट दर्ज कराते हुए अपने भाई की ख़ुदकुशी के लिए उन्हें जवाबदेह ठहराया है।

मृतक संतोष कौशिक पिछले 4 साल से जोगी बंगले में काम कर रहा था, और बंगले की देखरेख करता था, बुधवार की शाम उसने फांसी लगा ली संतोष की लाश बंगले में फांसी पर लटकी मिली, इससे पहले उसने अपनी पत्नी कविता को फोन कर कहा, कि उसके ऊपर बंगले में चोरी का आरोप लगाया जा रहा है, बंगले में मौजूद कर्मचारियों ने चांदी के बर्तन चोरी होने की बात कही, लेकिन इस बीच उसका बड़ा भाई कृष्ण कुमार सहित अन्य परिजन बंगला पहुंचे, तब उसकी मौत हो गई थी, इस घटना के बाद परिजन ने आरोप लगाना शुरू कर दिया, मृतक के साले सरोज ने उसे बंगले के बाहर रोकने बात करते हुए बताया था, कि बंगले के कमर्चारियों ने उसके जीजा से पूछताछ करने की बात कहते हुए उसे बाहर रोक दिया गया था।

शॉर्ट पीएम रिपोर्ट में आत्महत्या की पुष्टि

शॉर्ट पीएम रिपोर्ट से पुष्टि हुई है, कि संतोष की मौत फांसी लगाने से हुई है, लेकिन परिजनों के द्वारा जोगी परिवार पर आरोप लगाए गए, उनके बयान आधार पर पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी और उनके बेटे अमित जोगी पर धारा 306, 34 के तहत अपराध दर्ज कर लिया गया है।

GiONews Team
Editor In Chief

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

बिलासपुर– पूर्व मुख्यमंत्री के निवास मरवाही सदन में बुधवार को कर्मचारी की आत्महत्या के मामले में पुलिस ने पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी और उनके पुत्र अमित जोगी के खिलाफ भादवि की धारा 306, 34 के तहत आत्महत्या के लिए प्रेरित करने का मामला दर्ज कर लिया है।

परिजनों ने लगाया जोगी परिवार पर आरोप

जोगी निवास मरवाही सदन में चोरी का आरोप लगने के बाद बंगले की देखरेख करने वाले को ने क्षेत्र के रमतला निवासी कर्मचारी मनवा और संतोष कौशिक ने बुधवार की शाम 4:00 बजे के आसपास फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी, घटना के बाद मौके पर पहुंचे मृतक के भाई कृष्ण कुमार सहित परिजनों ने आरोप लगाया, कि बंगले के मालिकों ने उसे जेल भेजने की धमकी दी थी, जिससे वह सहमा हुआ था, जिसके चलते संतोष को आत्महत्या के लिए मजबूर होना पड़ा। पुलिस इस मामले में मर्ग कायम जांच कर रही थी। संतोष के परिजनों ने इस पूरे मसले को लेकर जोगी परिवार को सवालों में ला दिया था। जोगी परिवार से आशय अजित प्रमोद जोगी और अमित जोगी है, जिन्हें लेकर मृतक संतोष कौशिक के बड़े भाई कृष्ण कुमार कौशिक ने रिपोर्ट दर्ज कराते हुए अपने भाई की ख़ुदकुशी के लिए उन्हें जवाबदेह ठहराया है।

मृतक संतोष कौशिक पिछले 4 साल से जोगी बंगले में काम कर रहा था, और बंगले की देखरेख करता था, बुधवार की शाम उसने फांसी लगा ली संतोष की लाश बंगले में फांसी पर लटकी मिली, इससे पहले उसने अपनी पत्नी कविता को फोन कर कहा, कि उसके ऊपर बंगले में चोरी का आरोप लगाया जा रहा है, बंगले में मौजूद कर्मचारियों ने चांदी के बर्तन चोरी होने की बात कही, लेकिन इस बीच उसका बड़ा भाई कृष्ण कुमार सहित अन्य परिजन बंगला पहुंचे, तब उसकी मौत हो गई थी, इस घटना के बाद परिजन ने आरोप लगाना शुरू कर दिया, मृतक के साले सरोज ने उसे बंगले के बाहर रोकने बात करते हुए बताया था, कि बंगले के कमर्चारियों ने उसके जीजा से पूछताछ करने की बात कहते हुए उसे बाहर रोक दिया गया था।

शॉर्ट पीएम रिपोर्ट में आत्महत्या की पुष्टि

शॉर्ट पीएम रिपोर्ट से पुष्टि हुई है, कि संतोष की मौत फांसी लगाने से हुई है, लेकिन परिजनों के द्वारा जोगी परिवार पर आरोप लगाए गए, उनके बयान आधार पर पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी और उनके बेटे अमित जोगी पर धारा 306, 34 के तहत अपराध दर्ज कर लिया गया है।