Saturday, August 13, 2022

पेण्ड्रा-गौरेला-मरवाही जिले को लेकर प्रशासनिक कवायद तेज, अधिकारियों ने भवनों का किया निरीक्षण

पेण्ड्रा– छत्तीसगढ़ के 28 वें जिले गौरेला पेंड्रा मरवाही को लेकर प्रशासनिक कवायद तेज हो चुकी है। नए जिले की ओएसडी बनाई गई शिखा राजपूत तिवारी और पुलिस विभाग के ओएसडी सूरज सिंह परिहार सहित आला अधिकारियों ने आज गौरेला पेंड्रा और मरवाही के विभिन्न कार्यालयों और भवनों में पहुंचकर वस्तु स्थिति से अवगत हुए, उन्होंने सबसे पहले पेंड्रा के तहसील भवन और अन्य दूसरे शासकीय कार्यालयों का मुआयना किया, और स्थापना से अवगत हुए स्थानीय अधिकारियों से पदस्थ कर्मचारी अधिकारियों के संबंध में जानकारी ली गई, तथा सेटअप देखा गया। पेंड्रा में आईटीआई भवन, डाइट भवन, फिजिकल कॉलेज सहित कुछ अन्य भवन भी चिन्हित किए गए हैं । इसके बाद अधिकारियों की टीम मरवाही पहुंचकर मरवाही के तहसील कार्यालय, जनपद कार्यालय सहित अन्य शासकीय कार्यालयों का निरीक्षण किया गया साथ ही साथ सामुदायिक भवनों को देखा गया, तथा अधिकारियों की टीम के द्वारा आने वाले 10 फरवरी से नए जिले की स्थापना को लेकर संभावित कार्यालयों के संबंध में मुआयना किया गया, और उपयोगिता तथा और औचित्यता की जांच की गई। वहीं पुलिस विभाग के ओएसडी सूरज सिंह और शिखा राजपूत तिवारी दोनो ने मरवाही थाने का भ्रमण किया स्टाफ की जानकारी ली, साथ ही साथ मरवाही थाना क्षेत्र से लगने वाले मध्य प्रदेश की सीमाओं के बारे में जानकारी ली।
ज्ञात हो, कि नए जिले में 3 नए थाने प्रस्तावित है, जिनमें मरवाही से अलग होकर सिवनी पेंड्रा से अलग होकर कोडगार और गौरेला से अलग होकर खोडरी में नए थाना खोले जाने की प्रस्ताव शासन को भेजा गया है, हालांकि इसकी अभी मंजूरी नहीं मिली है, पर यह माना जा रहा है, कि जिला बनने के साथ ही साथ यह नए थाने भी अस्तित्व में आ सकते हैं। इस दौरान उनके साथ अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रतिभा तिवारी, तहसीलदार पेंड्रा घनश्याम तंवर, मरवाही तहसीलदार सुनील अग्रवाल सहित अन्य अधिकारी तथा थाना प्रभारी शामिल रहे।

नए जिले के लिए गौरेला पेंड्रा मरवाही में अभी तक केवल गौरेला में ही अनुविभागीय अधिकारी राजस्व का पद है, वहीं नए सेटअप के अनुसार शासन को मरवाही में भी एक एसडीएम के पद का सृजन करने के लिए प्रस्ताव भेजा गया है। यह भी कयास लगाए जा रहे हैं, कि नए सेटअप के अस्तित्व में आने के साथ ही साथ मरवाही में अलग से एसडीएम हम होंगे, जिससे मरवाही वासियों को काफी हद तक राहत मिलने की संभावना है। मरवाही के सीमांत गांव के लोगों को अब तक गौरेला एसडीएम कार्यालय पहुंचने के लिए काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता था जबकि मरवाही में ही एसडीएम बैठने लगेंगे तो लोगों की दिक्कतें काफी हद तक कम हो सकेंगी।

GiONews Team
Editor In Chief

24 COMMENTS

  1. I like the helpful info you provide in your articles. I’ll bookmark your blog and check again here frequently. I’m quite certain I will learn plenty of new stuff right here! Good luck for the next!|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

पेण्ड्रा– छत्तीसगढ़ के 28 वें जिले गौरेला पेंड्रा मरवाही को लेकर प्रशासनिक कवायद तेज हो चुकी है। नए जिले की ओएसडी बनाई गई शिखा राजपूत तिवारी और पुलिस विभाग के ओएसडी सूरज सिंह परिहार सहित आला अधिकारियों ने आज गौरेला पेंड्रा और मरवाही के विभिन्न कार्यालयों और भवनों में पहुंचकर वस्तु स्थिति से अवगत हुए, उन्होंने सबसे पहले पेंड्रा के तहसील भवन और अन्य दूसरे शासकीय कार्यालयों का मुआयना किया, और स्थापना से अवगत हुए स्थानीय अधिकारियों से पदस्थ कर्मचारी अधिकारियों के संबंध में जानकारी ली गई, तथा सेटअप देखा गया। पेंड्रा में आईटीआई भवन, डाइट भवन, फिजिकल कॉलेज सहित कुछ अन्य भवन भी चिन्हित किए गए हैं । इसके बाद अधिकारियों की टीम मरवाही पहुंचकर मरवाही के तहसील कार्यालय, जनपद कार्यालय सहित अन्य शासकीय कार्यालयों का निरीक्षण किया गया साथ ही साथ सामुदायिक भवनों को देखा गया, तथा अधिकारियों की टीम के द्वारा आने वाले 10 फरवरी से नए जिले की स्थापना को लेकर संभावित कार्यालयों के संबंध में मुआयना किया गया, और उपयोगिता तथा और औचित्यता की जांच की गई। वहीं पुलिस विभाग के ओएसडी सूरज सिंह और शिखा राजपूत तिवारी दोनो ने मरवाही थाने का भ्रमण किया स्टाफ की जानकारी ली, साथ ही साथ मरवाही थाना क्षेत्र से लगने वाले मध्य प्रदेश की सीमाओं के बारे में जानकारी ली।
ज्ञात हो, कि नए जिले में 3 नए थाने प्रस्तावित है, जिनमें मरवाही से अलग होकर सिवनी पेंड्रा से अलग होकर कोडगार और गौरेला से अलग होकर खोडरी में नए थाना खोले जाने की प्रस्ताव शासन को भेजा गया है, हालांकि इसकी अभी मंजूरी नहीं मिली है, पर यह माना जा रहा है, कि जिला बनने के साथ ही साथ यह नए थाने भी अस्तित्व में आ सकते हैं। इस दौरान उनके साथ अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रतिभा तिवारी, तहसीलदार पेंड्रा घनश्याम तंवर, मरवाही तहसीलदार सुनील अग्रवाल सहित अन्य अधिकारी तथा थाना प्रभारी शामिल रहे।

नए जिले के लिए गौरेला पेंड्रा मरवाही में अभी तक केवल गौरेला में ही अनुविभागीय अधिकारी राजस्व का पद है, वहीं नए सेटअप के अनुसार शासन को मरवाही में भी एक एसडीएम के पद का सृजन करने के लिए प्रस्ताव भेजा गया है। यह भी कयास लगाए जा रहे हैं, कि नए सेटअप के अस्तित्व में आने के साथ ही साथ मरवाही में अलग से एसडीएम हम होंगे, जिससे मरवाही वासियों को काफी हद तक राहत मिलने की संभावना है। मरवाही के सीमांत गांव के लोगों को अब तक गौरेला एसडीएम कार्यालय पहुंचने के लिए काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता था जबकि मरवाही में ही एसडीएम बैठने लगेंगे तो लोगों की दिक्कतें काफी हद तक कम हो सकेंगी।