Sunday, November 27, 2022

बेकिंग: चीतल के मांस के साथ पुलिस आरक्षक गिरफ्तार, वन विभाग की कार्रवाई

बलौदाबाजार– जिले में वन विभाग ने एक पुलिस आरक्षक को चीतल के कच्चे मांस का परिवहन करते पकड़ा है। आरोपी आरक्षक वर्तमान में बलौदाबाजार पुलिस लाइन में पदस्थ है।

बलौदाबाजार डीएफओ आलोक तिवारी ने बताया, कि पूर्व सूचना के आधार पर बलौदाबाजार वन परिक्षेत्र अधिकारी राकेश चौबे के निर्देशन में आज लगभग 12 बजे दो टीमें अलग-अलग मार्गों पर निगरानी कर रही थीं। इसी दौरान कसडोल बलौदाबाजार मार्ग पर बम्हनमुड़ी गांव के पास मोटर साइकिल चालक चंद्रकुमार बघेल को रोककर तलाशी ली गई। तलाशी करने पर चालक के बैग से वन्य प्राणी का तीन किलो कच्चा मांस बरामद किया गया। डीएफओ आलोक तिवारी ने बताया, कि प्राथमिक तौर से यह मांस चीतल का ही दिखाई पड़ रहा है, परंतु पुष्टि के लिए इसे आगे लैब में भेजा गया है। इसके अलावा सलिहा के पास के वन क्षेत्रों में तलाशी भी की जा रही है। डीएफओ श्री तिवारी ने बताया कि आरोपी चंद्रकुमार बघेल एक पुलिस आरक्षक है। आरोपी के खिलाफ वन्य जीव संरक्षण अधिनियम 1972 की धारा 9, 44(1क), 44(3) व धारा 49 के अंर्तगत अपराध दर्ज कर कार्रवाई की गई है।

GiONews Team
Editor In Chief

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

बलौदाबाजार– जिले में वन विभाग ने एक पुलिस आरक्षक को चीतल के कच्चे मांस का परिवहन करते पकड़ा है। आरोपी आरक्षक वर्तमान में बलौदाबाजार पुलिस लाइन में पदस्थ है।

बलौदाबाजार डीएफओ आलोक तिवारी ने बताया, कि पूर्व सूचना के आधार पर बलौदाबाजार वन परिक्षेत्र अधिकारी राकेश चौबे के निर्देशन में आज लगभग 12 बजे दो टीमें अलग-अलग मार्गों पर निगरानी कर रही थीं। इसी दौरान कसडोल बलौदाबाजार मार्ग पर बम्हनमुड़ी गांव के पास मोटर साइकिल चालक चंद्रकुमार बघेल को रोककर तलाशी ली गई। तलाशी करने पर चालक के बैग से वन्य प्राणी का तीन किलो कच्चा मांस बरामद किया गया। डीएफओ आलोक तिवारी ने बताया, कि प्राथमिक तौर से यह मांस चीतल का ही दिखाई पड़ रहा है, परंतु पुष्टि के लिए इसे आगे लैब में भेजा गया है। इसके अलावा सलिहा के पास के वन क्षेत्रों में तलाशी भी की जा रही है। डीएफओ श्री तिवारी ने बताया कि आरोपी चंद्रकुमार बघेल एक पुलिस आरक्षक है। आरोपी के खिलाफ वन्य जीव संरक्षण अधिनियम 1972 की धारा 9, 44(1क), 44(3) व धारा 49 के अंर्तगत अपराध दर्ज कर कार्रवाई की गई है।