Tuesday, August 16, 2022

भाजपा विधायक पर बिफरे बैजनाथ और प्रमोद, कहा- अजय का बयान छत्तीसगढ़िया और समाज विरोधी

बिलासपुर– भूपेश सरकार के कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विवि का नाम बदलकर चंदूलाल चंद्राकर विवि किये जाने के फैसले को लेकर राजनीति गरमा गई है। भाजपा विधायक अजय चंद्राकर ने कहा है, कि भविष्य में जब कभी भी बीजेपी की सरकार आएगी, तो गांधी-नेहरू खानदान के नाम से एक भी संस्थान छत्तीसगढ़ में नहीं होगा। इस बयान पर पूर्व विधायक बैजनाथ चंद्राकर और शहर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष प्रमोद नायक ने तीखी प्रतिक्रिया दी है।

पूर्व विधायक बैजनाथ चन्द्राकर और जिला शहर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष प्रमोद नायक ने कहा, कि विधायक अजय चंद्राकर के बयान निंदनीय और समाज विरोधी है। उन्होंने कहा, पूर्व केंद्रीय मंत्री और पृथक छत्तीसगढ़ राज्य सर्वदलीय मंच के प्रमुख में से एक चन्दूलाल चन्द्राकर.. जिन्होंने राष्ट्रीय पत्रकारिता को नई दिशा देते हुए छत्तीसगढ़ का नाम राष्ट्रीय परिदृश्य में स्थापित किया। वे प्रतिष्ठित हिंदुस्तान टाइम्स के सम्पादक रहे, उन्होंने समाज के उत्थान के लिए अविस्मरणीय योगदान दिए, वे कुर्मी समाज के गौरव थे। पर दुर्भाग्य है, कि ऐसे छत्तीसगढ़ के महान सपूत चन्दूलाल चन्द्राकर के योगदान को अक्षुण रखने के लिए एवं भावी पीढ़ी के प्रेरणा के लिए छत्तीसगढ़ सरकार ने रायपुर पत्रकारिता विश्वविद्यालय का नाम चन्दूलाल चन्द्राकर के नाम पर करने की घोषणा की, तो कुर्मी समाज के ही विधायक अजय चंद्राकर विरोध कर रहे है, जो समझ से परे है।

दोनों नेताओं ने कहा, अजय चंद्राकर का विरोध भाजपा के चरित्र के अनुकूल है, वे किसी छत्तीसगढ़िया या किसी समाज के प्रमुख व्यक्ति के योगदान को स्थापित करने के विरोधी हैं, जब भाजपा ने अपने कार्यकाल में गुमनाम लोगों के नाम पर किसी संस्था या सरकारी योजनाओं, चौक-चौराहों का नामकरण किया, तब अजय चंद्राकर मंत्री रहते विरोध नहीं कर सके। उन्होंने ऐसा करके छत्तीसगढ़िया का विरोध कर छत्तीसगढ़िया विरोधी चेहरा को उजागर किया है।

GiONews Team
Editor In Chief

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

बिलासपुर– भूपेश सरकार के कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विवि का नाम बदलकर चंदूलाल चंद्राकर विवि किये जाने के फैसले को लेकर राजनीति गरमा गई है। भाजपा विधायक अजय चंद्राकर ने कहा है, कि भविष्य में जब कभी भी बीजेपी की सरकार आएगी, तो गांधी-नेहरू खानदान के नाम से एक भी संस्थान छत्तीसगढ़ में नहीं होगा। इस बयान पर पूर्व विधायक बैजनाथ चंद्राकर और शहर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष प्रमोद नायक ने तीखी प्रतिक्रिया दी है।

पूर्व विधायक बैजनाथ चन्द्राकर और जिला शहर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष प्रमोद नायक ने कहा, कि विधायक अजय चंद्राकर के बयान निंदनीय और समाज विरोधी है। उन्होंने कहा, पूर्व केंद्रीय मंत्री और पृथक छत्तीसगढ़ राज्य सर्वदलीय मंच के प्रमुख में से एक चन्दूलाल चन्द्राकर.. जिन्होंने राष्ट्रीय पत्रकारिता को नई दिशा देते हुए छत्तीसगढ़ का नाम राष्ट्रीय परिदृश्य में स्थापित किया। वे प्रतिष्ठित हिंदुस्तान टाइम्स के सम्पादक रहे, उन्होंने समाज के उत्थान के लिए अविस्मरणीय योगदान दिए, वे कुर्मी समाज के गौरव थे। पर दुर्भाग्य है, कि ऐसे छत्तीसगढ़ के महान सपूत चन्दूलाल चन्द्राकर के योगदान को अक्षुण रखने के लिए एवं भावी पीढ़ी के प्रेरणा के लिए छत्तीसगढ़ सरकार ने रायपुर पत्रकारिता विश्वविद्यालय का नाम चन्दूलाल चन्द्राकर के नाम पर करने की घोषणा की, तो कुर्मी समाज के ही विधायक अजय चंद्राकर विरोध कर रहे है, जो समझ से परे है।

दोनों नेताओं ने कहा, अजय चंद्राकर का विरोध भाजपा के चरित्र के अनुकूल है, वे किसी छत्तीसगढ़िया या किसी समाज के प्रमुख व्यक्ति के योगदान को स्थापित करने के विरोधी हैं, जब भाजपा ने अपने कार्यकाल में गुमनाम लोगों के नाम पर किसी संस्था या सरकारी योजनाओं, चौक-चौराहों का नामकरण किया, तब अजय चंद्राकर मंत्री रहते विरोध नहीं कर सके। उन्होंने ऐसा करके छत्तीसगढ़िया का विरोध कर छत्तीसगढ़िया विरोधी चेहरा को उजागर किया है।