Tuesday, August 16, 2022

महिला दिवस विशेष: तखतपुर क्षेत्र में महिलाओं का प्रतिनिधित्व

तखतपुर (टेकचंद कारड़ा)- इन दिनों तखतपुर विधानसभा में महिलाओं की ही प्रतिनिधित्व है, जिसमें विधायक जनपद अध्यक्ष उपाध्यक्ष नगरपालिका अध्यक्ष उपाध्यक्ष सहित अन्य क्षेत्रों में दमदारी के साथ अपनी स्थिति दर्ज करा रही है प्रतिवर्ष 8 मार्च को महिला को समर्पित करते हुए अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। इस अवसर पर महिलाओं ने अपना विचार रखा विधायक रश्मि सिंह ने कहा, कि आज महिलाओं के लिए परिस्थितियां बहुत बेहतर हुई है उन्हें वह दर्जा मिला है जिसे कल तक असंभव सा समझा जाता था अब तो ग्रामीण इलाकों की महिलाएं भी आत्मनिर्भर हुई है, यह एक समाज में सकारात्मक बदलाव है राष्ट्रीय महिला आयोग सलाहकार हर्षिता पांडे ने कहा, कि आधी आबादी के लिए अभी भी बड़ा बदलाव होना बाकी है जब तक सभी महिलाएं अपने निर्णय खुद नहीं ले पाएंगे उन्हें पूरा आदर सम्मान नहीं मिलता तब तक पूरी तरह सशक्तिकरण होने की बात नहीं कही जा सकती है नगर पालिका अध्यक्ष पुष्पा श्रीवास ने कहा, कि महिलाएं यदि कामयाब होना चाहती हैं तो उन्हें अपने आप को मजबूत करना होगा संघर्ष करना होगा और उसे पूरा करने के लिए प्रयास करना होगा सफलता जरूर मिलेगी और यह आज महिलाएं बखूबी सिद्ध कर रही हैं, नगर पालिका उपाध्यक्ष वंदना सिंह ने कहा, कि महिलाओं को अपने हुनर को पहचानना चाहिए और उसे निहारते हुए आगे बढ़ना चाहिए जब ऐसा होगा तो निश्चित रूप से महिलाओं के जीवन में एक बहुत बड़ा बदलाव होगा और यह तभी संभव होगा जब स्वयं हम अपने विचार को सकारात्मक रखेंगे शिक्षिका श्रीमती प्रतिभा शुक्ला ने कहा कि महिलाओं के जीवन में बहुत कुछ बदला है अब पढ़ लिखकर हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं जिसमें कभी सिर्फ पुरुषों का वर्चस्व हुआ करता था इस परिवर्तन की आंधी में कम से कम लोग अब बेटी और बेटों के बीच मतभेद नहीं कर रहे हैं अब लोग बेटी को भी उतना ही शिक्षित और आत्मनिर्भर बनाना चाहते हैं जितना बेटों को जनपद अध्यक्ष श्रीमती राजेश्वरी कौशिक ने कहा कि महिलाओं की बदलती भूमिका का सबसे बड़ा उदाहरण मैं स्वयं हूं मैं केवल ग्रहणी हुआ करती थी लेकिन परिवार और समाज की सहयोग सहयोग से एक जनप्रतिनिधि बन गइ हूं और यह तभी संभव हुआ है जब लोगों का सोच बदला है जनपद उपाध्यक्ष श्रीमती दिव्या मिश्रा ने कहा कि आज महिलाएं हर क्षेत्र में अपना हुनर दिखा रही हैं अब घर की चारदीवारी से निकलकर उन्होंने अपना लोहा हर क्षेत्र में मनाया है और अब हर सेक्टर में महिलाएं अपना योगदान देकर एक स्वस्थ समाज के निर्माण में योगदान दे रहे हैं
जिला पंचायत सदस्य श्रीमती ममता क्षत्री ने कहा कि जहां आज बड़े शहरों में महिलाएं पुरुषों से कंधे से कंधा मिलाकर चल रहे हैं वही अभी भी छोटे शहर और गांव में महिलाओं के जीवन में कई समस्याएं मौजूद है जिससे हमें हल करने के लिए प्रयास करना होगा । गृहणी श्रीमती अनुपमा पाण्डेय ने कहा कि महिलाएं चाहे आज की हो या पिछली पीढ़ियों कि उन्होंने हमेशा अपने दायित्व बखूबी निभाया है हां यह जरूर है कि अब महिलाएं बंदिशों से आजाद हैं और स्वाभिमान से सिर उठाकर चल रही है।
विमला जांगड़े ने कहा, कि विश्व स्तर पर अब नारी ने अपनी पहचान बना ली है अब नारी शक्ति को कम नहीं आंका जाता और बेटियां भी अब हर मोर्चे पर सफल हो रही हैं आज महिलाओं को जो सम्मान मिल रहा है वह आगे भी जब मिलेगा तब महिलाओं को हर क्षेत्र में कार्य करने का अवसर प्राप्त होगा
पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष सुरेंद्र कौर मक्कड़ ने कहा, कि अब हर क्षेत्र में महिलाएं कार्य कर अपना हुनर दिखा सकती है पूर्व जनपद अध्यक्ष श्रीमती नूरिता कौशिक ने कहा कि महिलाओं ने हर क्षेत्र में कार्य कर दिखाया है कि वह किसी से भी कम नहीं है आज जमीन से लेकर आसमान तक महिलाओं का कार्यक्षेत्र में होना यह बताता है कि महिलाओं में भी हुनर है केवल उसे तराशने की जरूरत है

पार्षद लवली हूरा ने कहा, कि हर संघर्ष की स्थिति में महिलाएं निपटना जानते हैं आज महिलाएं हर परिस्थिति में हर क्षेत्र में कार्य कर अपना नाम रोशन कर रहे है पलकों को चाहिए कि वे अपने घर की बच्चियों को अवसर प्रदान करें ताकि वे भी अपना हुनर दिखा सके

GiONews Team
Editor In Chief

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

तखतपुर (टेकचंद कारड़ा)- इन दिनों तखतपुर विधानसभा में महिलाओं की ही प्रतिनिधित्व है, जिसमें विधायक जनपद अध्यक्ष उपाध्यक्ष नगरपालिका अध्यक्ष उपाध्यक्ष सहित अन्य क्षेत्रों में दमदारी के साथ अपनी स्थिति दर्ज करा रही है प्रतिवर्ष 8 मार्च को महिला को समर्पित करते हुए अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। इस अवसर पर महिलाओं ने अपना विचार रखा विधायक रश्मि सिंह ने कहा, कि आज महिलाओं के लिए परिस्थितियां बहुत बेहतर हुई है उन्हें वह दर्जा मिला है जिसे कल तक असंभव सा समझा जाता था अब तो ग्रामीण इलाकों की महिलाएं भी आत्मनिर्भर हुई है, यह एक समाज में सकारात्मक बदलाव है राष्ट्रीय महिला आयोग सलाहकार हर्षिता पांडे ने कहा, कि आधी आबादी के लिए अभी भी बड़ा बदलाव होना बाकी है जब तक सभी महिलाएं अपने निर्णय खुद नहीं ले पाएंगे उन्हें पूरा आदर सम्मान नहीं मिलता तब तक पूरी तरह सशक्तिकरण होने की बात नहीं कही जा सकती है नगर पालिका अध्यक्ष पुष्पा श्रीवास ने कहा, कि महिलाएं यदि कामयाब होना चाहती हैं तो उन्हें अपने आप को मजबूत करना होगा संघर्ष करना होगा और उसे पूरा करने के लिए प्रयास करना होगा सफलता जरूर मिलेगी और यह आज महिलाएं बखूबी सिद्ध कर रही हैं, नगर पालिका उपाध्यक्ष वंदना सिंह ने कहा, कि महिलाओं को अपने हुनर को पहचानना चाहिए और उसे निहारते हुए आगे बढ़ना चाहिए जब ऐसा होगा तो निश्चित रूप से महिलाओं के जीवन में एक बहुत बड़ा बदलाव होगा और यह तभी संभव होगा जब स्वयं हम अपने विचार को सकारात्मक रखेंगे शिक्षिका श्रीमती प्रतिभा शुक्ला ने कहा कि महिलाओं के जीवन में बहुत कुछ बदला है अब पढ़ लिखकर हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं जिसमें कभी सिर्फ पुरुषों का वर्चस्व हुआ करता था इस परिवर्तन की आंधी में कम से कम लोग अब बेटी और बेटों के बीच मतभेद नहीं कर रहे हैं अब लोग बेटी को भी उतना ही शिक्षित और आत्मनिर्भर बनाना चाहते हैं जितना बेटों को जनपद अध्यक्ष श्रीमती राजेश्वरी कौशिक ने कहा कि महिलाओं की बदलती भूमिका का सबसे बड़ा उदाहरण मैं स्वयं हूं मैं केवल ग्रहणी हुआ करती थी लेकिन परिवार और समाज की सहयोग सहयोग से एक जनप्रतिनिधि बन गइ हूं और यह तभी संभव हुआ है जब लोगों का सोच बदला है जनपद उपाध्यक्ष श्रीमती दिव्या मिश्रा ने कहा कि आज महिलाएं हर क्षेत्र में अपना हुनर दिखा रही हैं अब घर की चारदीवारी से निकलकर उन्होंने अपना लोहा हर क्षेत्र में मनाया है और अब हर सेक्टर में महिलाएं अपना योगदान देकर एक स्वस्थ समाज के निर्माण में योगदान दे रहे हैं
जिला पंचायत सदस्य श्रीमती ममता क्षत्री ने कहा कि जहां आज बड़े शहरों में महिलाएं पुरुषों से कंधे से कंधा मिलाकर चल रहे हैं वही अभी भी छोटे शहर और गांव में महिलाओं के जीवन में कई समस्याएं मौजूद है जिससे हमें हल करने के लिए प्रयास करना होगा । गृहणी श्रीमती अनुपमा पाण्डेय ने कहा कि महिलाएं चाहे आज की हो या पिछली पीढ़ियों कि उन्होंने हमेशा अपने दायित्व बखूबी निभाया है हां यह जरूर है कि अब महिलाएं बंदिशों से आजाद हैं और स्वाभिमान से सिर उठाकर चल रही है।
विमला जांगड़े ने कहा, कि विश्व स्तर पर अब नारी ने अपनी पहचान बना ली है अब नारी शक्ति को कम नहीं आंका जाता और बेटियां भी अब हर मोर्चे पर सफल हो रही हैं आज महिलाओं को जो सम्मान मिल रहा है वह आगे भी जब मिलेगा तब महिलाओं को हर क्षेत्र में कार्य करने का अवसर प्राप्त होगा
पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष सुरेंद्र कौर मक्कड़ ने कहा, कि अब हर क्षेत्र में महिलाएं कार्य कर अपना हुनर दिखा सकती है पूर्व जनपद अध्यक्ष श्रीमती नूरिता कौशिक ने कहा कि महिलाओं ने हर क्षेत्र में कार्य कर दिखाया है कि वह किसी से भी कम नहीं है आज जमीन से लेकर आसमान तक महिलाओं का कार्यक्षेत्र में होना यह बताता है कि महिलाओं में भी हुनर है केवल उसे तराशने की जरूरत है

पार्षद लवली हूरा ने कहा, कि हर संघर्ष की स्थिति में महिलाएं निपटना जानते हैं आज महिलाएं हर परिस्थिति में हर क्षेत्र में कार्य कर अपना नाम रोशन कर रहे है पलकों को चाहिए कि वे अपने घर की बच्चियों को अवसर प्रदान करें ताकि वे भी अपना हुनर दिखा सके