Wednesday, August 10, 2022

मुख्यमंत्री का निर्देश: पुलिसकर्मियों के नाश्ता और भोजन दर में 7 साल बाद हुई बढ़ोतरी..

रायपुर– मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश पर लगातार ड्यूटी कर रहे पुलिस कर्मियों की नाश्ता और भोजन की दर में बढ़ोतरी की गई है।

लॉकडाउन के दौरान लगातार ड्यूटी कर कानून-व्यवस्था बनाए रखने में पुलिसकर्मी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। इनके समर्पण को देखते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पहल कर गृह विभाग से नाश्ता, दोपहर और रात्रि के भोजन की पूर्व स्वीकृत दरों में वृद्धि करने के निर्देश गृह विभाग को दिए थे। इस निर्देश पर त्वरित अमल करते हुए गृह विभाग ने पुलिस कर्मियों के नाश्ता की पूर्व स्वीकृत दर 15 रुपए प्रति प्लेट से बढ़ाकर 20 रुपए प्रति प्लेट कर दिया है।

इसी तरह दोपहर के भोजन की पूर्व स्वीकृत दर 30 रुपए प्रति प्लेट से बढ़ाकर 50 रुपए प्रति प्लेट और रात्रि के भोजन की पूर्व स्वीकृत दर 30 रुपए प्रति प्लेट को बढ़ाकर दैनिक व्यय सीमा 70 रुपए किया गया है. पुलिस कर्मियों के लिए नाश्ता और भोजन के लिए पूर्व स्वीकृत दरें 8 फरवरी 2013 से लागू थी, जिसमें सात साल बाद बदलाव किया गया है।

GiONews Team
Editor In Chief

18 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

रायपुर– मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश पर लगातार ड्यूटी कर रहे पुलिस कर्मियों की नाश्ता और भोजन की दर में बढ़ोतरी की गई है।

लॉकडाउन के दौरान लगातार ड्यूटी कर कानून-व्यवस्था बनाए रखने में पुलिसकर्मी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। इनके समर्पण को देखते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पहल कर गृह विभाग से नाश्ता, दोपहर और रात्रि के भोजन की पूर्व स्वीकृत दरों में वृद्धि करने के निर्देश गृह विभाग को दिए थे। इस निर्देश पर त्वरित अमल करते हुए गृह विभाग ने पुलिस कर्मियों के नाश्ता की पूर्व स्वीकृत दर 15 रुपए प्रति प्लेट से बढ़ाकर 20 रुपए प्रति प्लेट कर दिया है।

इसी तरह दोपहर के भोजन की पूर्व स्वीकृत दर 30 रुपए प्रति प्लेट से बढ़ाकर 50 रुपए प्रति प्लेट और रात्रि के भोजन की पूर्व स्वीकृत दर 30 रुपए प्रति प्लेट को बढ़ाकर दैनिक व्यय सीमा 70 रुपए किया गया है. पुलिस कर्मियों के लिए नाश्ता और भोजन के लिए पूर्व स्वीकृत दरें 8 फरवरी 2013 से लागू थी, जिसमें सात साल बाद बदलाव किया गया है।