Tuesday, August 16, 2022

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की नेक पहल, झारखंड के लोग बोले- “छत्तीसगढ़िया सबले बढ़िया”

बिलासपुर– प्रदेश के लोग अपने मुखिया भूपेश बघेल की सहृदयता के तो कायल हैं ही..आज बिलासपुर में फंसे झारखंड के 150 मजदूर यात्रियों को उनके घर तक पहुंचाकर पड़ोसी राज्य के लोगों को भी अपना कायल बना लिया..

कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए सभी सार्वजनिक जगह बंद कर दिए गये हैं। इस बीच बिलासपुर के रेलवे स्टेशन में झारखण्ड के लगभग 150 लोग फंसे हुए थे, झारखंड के सीएम हेमन्त सोरेन ने छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल को ट्वीट किया, जिसके जवाब में उन्हें आश्वस्त किया, कि उन मजदूरों को कोई दिक्कत नही होगी, और उनके रहने खाने और झारखंड पहुंचाने की जिम्मेदारी हमारी.. और सीएम भूपेश बघेल के निर्देश के बाद मजदूरों को झारखंड रवाना किया गया है।

झारखंड और छत्तीसगढ़ के सीएम का ट्वीट

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने बिलासपुर में फंसे लोगों की मदद के लिए ट्वीट कर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से अपील की। इसके जवाब में सीएम भूपेश बघेल ने रीट्वीट करते हुए कहा है कि- ‘उनके भोजन आदि का इंतज़ाम कर दिया है। जब तक बिलासपुर में हैं उनका हम ध्यान रखेंगे। अधिकारी उन्हें झारखंड सीमा तक पहुंचाने की व्यवस्था कर रहे हैं।’

इस बीच पीसीसी उपाध्यक्ष अटल श्रीवास्तव ने सीएम को इस बारे में जानकारी दी, जिसके बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल खुद लगातार स्थानीय प्रशासन और नेताओं के संपर्क में रहे, और झारखंड के मजदूर यात्रियों के रहने खाने और सकुशल उनके घर पहुँचाने की व्यवस्था की जानकारी लेते रहे।
छत्तीसगढ़िया मुख्यमंत्री की इस नेक पहल पर झारखंड के लोग भी बोल पड़े..छत्तीसगढ़िया सबले बढ़िया..

अटल श्रीवास्तव ने दिखाई सक्रियता

इस बात की खबर जब पीसीसी के उपाध्यक्ष अटल श्रीवास्तव को लगी, तो उन्होंने अपनी टीम को अलर्ट किया, जिसके बाद कांग्रेस के पार्षद, स्थानीय युवा नेताओ की टीम उनकी देखभाल में जुट गया। उनके नाश्ते की व्यवस्था कराई। इधर अटल श्रीवास्तव ने इस बात की जानकारी सीएम भूपेश बघेल को दी, जिसके बाद मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को अलर्ट किया, और प्रशासनिक अमला हरकत में आया।

यात्रियों की जुबानी

स्टेशन में फंसे लोगों ने बताया कि- ‘हम कल रात को 9:30 बजे स्टेशन में उतरे थे, वहां से बस स्टैंड गये, लेकिन बसें नहीं चल रही है, इसलिए हमें वापस भेज दिया गया। सुबह कुछ स्थानीय लोग आए और उन्होंने हमारे नाश्ता दिया, और हमें अपने भेजने इंतजाम करने की बात कही।

GiONews Team
Editor In Chief

46 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

बिलासपुर– प्रदेश के लोग अपने मुखिया भूपेश बघेल की सहृदयता के तो कायल हैं ही..आज बिलासपुर में फंसे झारखंड के 150 मजदूर यात्रियों को उनके घर तक पहुंचाकर पड़ोसी राज्य के लोगों को भी अपना कायल बना लिया..

कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए सभी सार्वजनिक जगह बंद कर दिए गये हैं। इस बीच बिलासपुर के रेलवे स्टेशन में झारखण्ड के लगभग 150 लोग फंसे हुए थे, झारखंड के सीएम हेमन्त सोरेन ने छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल को ट्वीट किया, जिसके जवाब में उन्हें आश्वस्त किया, कि उन मजदूरों को कोई दिक्कत नही होगी, और उनके रहने खाने और झारखंड पहुंचाने की जिम्मेदारी हमारी.. और सीएम भूपेश बघेल के निर्देश के बाद मजदूरों को झारखंड रवाना किया गया है।

झारखंड और छत्तीसगढ़ के सीएम का ट्वीट

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने बिलासपुर में फंसे लोगों की मदद के लिए ट्वीट कर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से अपील की। इसके जवाब में सीएम भूपेश बघेल ने रीट्वीट करते हुए कहा है कि- ‘उनके भोजन आदि का इंतज़ाम कर दिया है। जब तक बिलासपुर में हैं उनका हम ध्यान रखेंगे। अधिकारी उन्हें झारखंड सीमा तक पहुंचाने की व्यवस्था कर रहे हैं।’

इस बीच पीसीसी उपाध्यक्ष अटल श्रीवास्तव ने सीएम को इस बारे में जानकारी दी, जिसके बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल खुद लगातार स्थानीय प्रशासन और नेताओं के संपर्क में रहे, और झारखंड के मजदूर यात्रियों के रहने खाने और सकुशल उनके घर पहुँचाने की व्यवस्था की जानकारी लेते रहे।
छत्तीसगढ़िया मुख्यमंत्री की इस नेक पहल पर झारखंड के लोग भी बोल पड़े..छत्तीसगढ़िया सबले बढ़िया..

अटल श्रीवास्तव ने दिखाई सक्रियता

इस बात की खबर जब पीसीसी के उपाध्यक्ष अटल श्रीवास्तव को लगी, तो उन्होंने अपनी टीम को अलर्ट किया, जिसके बाद कांग्रेस के पार्षद, स्थानीय युवा नेताओ की टीम उनकी देखभाल में जुट गया। उनके नाश्ते की व्यवस्था कराई। इधर अटल श्रीवास्तव ने इस बात की जानकारी सीएम भूपेश बघेल को दी, जिसके बाद मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को अलर्ट किया, और प्रशासनिक अमला हरकत में आया।

यात्रियों की जुबानी

स्टेशन में फंसे लोगों ने बताया कि- ‘हम कल रात को 9:30 बजे स्टेशन में उतरे थे, वहां से बस स्टैंड गये, लेकिन बसें नहीं चल रही है, इसलिए हमें वापस भेज दिया गया। सुबह कुछ स्थानीय लोग आए और उन्होंने हमारे नाश्ता दिया, और हमें अपने भेजने इंतजाम करने की बात कही।