Tuesday, December 6, 2022

रायपुर, बिलासपुर, दुर्ग, रायगढ़ समेत प्रदेश के 8 निगमों में कांग्रेस का कब्जा

बिलासपुर– प्रदेश के दस नगर निगमों में से आठ पर कांग्रेस का कब्जा हो गया है, अधिकतर निगमों में निर्दलीय प्रत्यशियों ने बीजेपी के बजाय कांग्रेस को समर्थन दिया, जिससे बीजेपी का गणित गड़बड़ा गया, और सोमवार को पांच नगर निगमों में कांग्रेस का कब्जा कर लिया। पांचों नगर निगमों में कांग्रेस के प्रत्याशियों ने जीत दर्ज कर नया रिकार्ड कायम किया है।

रायपुर निगम

सोमवार को चुनाव के बाद एजाज ढेबर रायपुर नगर निगम के नये महापौर चुन लिये गये हैं। वोटिंग के बाद हुई मतगणना में कांग्रेस के महापौर प्रत्याशी एजाज ढेबर ने मृत्युंजय दुबे को हरा दिया है। एजाज ढेबर को 41 वोट मिले, सभी निर्दलीय प्रत्याशियों ने कांग्रेस के पक्ष में मतदान किया। इस जीत के साथ कांग्रेस ने महापौर पद पर रायपुर में जीत की हैट्रिक पूरी कर ली है। किरणमयी नायक, प्रमोद दुबे के बाद एजाज ढेबर कांग्रेस के महापौर बने हैं।

दुर्ग निगम

नगर निगम दुर्ग में भी कांग्रेस का परचम लहराया है, कांग्रेस के धीरज बाकलीवाल महापौर बने हैं। कांग्रेस के धीरज बाकलीवाल को 60 में से 40 वोट मिले हैं। जबकि यहां कुल 30 ही कांग्रेसी पार्षद हैं, 16 बीजेपी पार्षद हैं वहीं 14 पार्षद अन्य थे।

धमतरी निगम

धमतरी में 135 साल का रिकॉर्ड टूटा है, जहां नगरीय निकाय बनने के बाद पहली बार कांग्रेस ने जीत हासिल की है। यहां कांग्रेस प्रत्याशी विजय देवांगन को 40 में से 22 वोट मिले हैं, सभापति के पद पर भी कांग्रेस का कब्जा हुआ है। कांग्रेस प्रत्याशी अनुराग मसीह 40 में से 25 वोट मिले हैं।

रायगढ़ निगम

रायगढ़ में भी कांग्रेस की जानकी काटजू ने जीत दर्ज की। यहां भी वोटिंग के बाद कांग्रेस का पलड़ा भारी दिखाई दिया। निर्दलीय पार्षदों ने कांग्रेस का समर्थन कर उसकी जीत सुनिश्चित कर दी। जानकी बाई काटजू के पक्ष में 26 पार्षदों ने वोट दिया, तो वहीं उनकी प्रतिद्वंद्वी बीजेपी की नवधा मिरी को 22 वोट मिले। सभापति के रूप में कांग्रेस के पूर्व जिलाध्यक्ष व कद्दावर नेता जयंत ठेठवार को चुन लिया गया। यहाँ भी उन्होनें अपना लोहा मनवा ही लिया। सभागृह में जयंत के पक्ष में 30 पार्षदों ने वोट डाले तो इनके प्रतिद्वंद्वी बीजेपी के महेश कंकरवाल को मात्र 18 वोट से ही संतुष्ट होना पड़ा।

चिरमिरी निगम

चिरमिरी में भी नगर निगम में महापौर और सभापति पद पर कांग्रेस काबिज हुई। महापौर के लिए कंचन जायसवाल तो सभापति पद पर गायत्री बिरहा निर्विरोध निर्वाचित हुईं।

बिलासपुर, राजनांदगांव, जगदलपुर में जीत चुकी है कांग्रेस

इसके पूर्व बिलासपुर, जगदलपुर और राजनांदगांव नगर निगम में कांग्रेस ने अपना परचम लहरा कर बीजेपी को सकते में डाल दिया है।

GiONews Team
Editor In Chief

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

बिलासपुर– प्रदेश के दस नगर निगमों में से आठ पर कांग्रेस का कब्जा हो गया है, अधिकतर निगमों में निर्दलीय प्रत्यशियों ने बीजेपी के बजाय कांग्रेस को समर्थन दिया, जिससे बीजेपी का गणित गड़बड़ा गया, और सोमवार को पांच नगर निगमों में कांग्रेस का कब्जा कर लिया। पांचों नगर निगमों में कांग्रेस के प्रत्याशियों ने जीत दर्ज कर नया रिकार्ड कायम किया है।

रायपुर निगम

सोमवार को चुनाव के बाद एजाज ढेबर रायपुर नगर निगम के नये महापौर चुन लिये गये हैं। वोटिंग के बाद हुई मतगणना में कांग्रेस के महापौर प्रत्याशी एजाज ढेबर ने मृत्युंजय दुबे को हरा दिया है। एजाज ढेबर को 41 वोट मिले, सभी निर्दलीय प्रत्याशियों ने कांग्रेस के पक्ष में मतदान किया। इस जीत के साथ कांग्रेस ने महापौर पद पर रायपुर में जीत की हैट्रिक पूरी कर ली है। किरणमयी नायक, प्रमोद दुबे के बाद एजाज ढेबर कांग्रेस के महापौर बने हैं।

दुर्ग निगम

नगर निगम दुर्ग में भी कांग्रेस का परचम लहराया है, कांग्रेस के धीरज बाकलीवाल महापौर बने हैं। कांग्रेस के धीरज बाकलीवाल को 60 में से 40 वोट मिले हैं। जबकि यहां कुल 30 ही कांग्रेसी पार्षद हैं, 16 बीजेपी पार्षद हैं वहीं 14 पार्षद अन्य थे।

धमतरी निगम

धमतरी में 135 साल का रिकॉर्ड टूटा है, जहां नगरीय निकाय बनने के बाद पहली बार कांग्रेस ने जीत हासिल की है। यहां कांग्रेस प्रत्याशी विजय देवांगन को 40 में से 22 वोट मिले हैं, सभापति के पद पर भी कांग्रेस का कब्जा हुआ है। कांग्रेस प्रत्याशी अनुराग मसीह 40 में से 25 वोट मिले हैं।

रायगढ़ निगम

रायगढ़ में भी कांग्रेस की जानकी काटजू ने जीत दर्ज की। यहां भी वोटिंग के बाद कांग्रेस का पलड़ा भारी दिखाई दिया। निर्दलीय पार्षदों ने कांग्रेस का समर्थन कर उसकी जीत सुनिश्चित कर दी। जानकी बाई काटजू के पक्ष में 26 पार्षदों ने वोट दिया, तो वहीं उनकी प्रतिद्वंद्वी बीजेपी की नवधा मिरी को 22 वोट मिले। सभापति के रूप में कांग्रेस के पूर्व जिलाध्यक्ष व कद्दावर नेता जयंत ठेठवार को चुन लिया गया। यहाँ भी उन्होनें अपना लोहा मनवा ही लिया। सभागृह में जयंत के पक्ष में 30 पार्षदों ने वोट डाले तो इनके प्रतिद्वंद्वी बीजेपी के महेश कंकरवाल को मात्र 18 वोट से ही संतुष्ट होना पड़ा।

चिरमिरी निगम

चिरमिरी में भी नगर निगम में महापौर और सभापति पद पर कांग्रेस काबिज हुई। महापौर के लिए कंचन जायसवाल तो सभापति पद पर गायत्री बिरहा निर्विरोध निर्वाचित हुईं।

बिलासपुर, राजनांदगांव, जगदलपुर में जीत चुकी है कांग्रेस

इसके पूर्व बिलासपुर, जगदलपुर और राजनांदगांव नगर निगम में कांग्रेस ने अपना परचम लहरा कर बीजेपी को सकते में डाल दिया है।