Tuesday, December 6, 2022

सरस्वती शिशु मंदिर के 1987 बैच के स्टूडेंट्स ने मनाया री-यूनियन, स्कूल के दिनों को याद कर दोस्तों के साथ की मस्ती

बिलासपुर– सरस्वती शिशु मंदिर के 1987 बैच के छात्रों ने तीन दिवसीय दूसरा रीयूनियन मनाया, बीते 17 से 19 जनवरी को सरस्वती शिशु मंदिर के 87 बैच के 10 पास छात्रों ने 30 साल बाद अपना दूसरा रीयूनियन तीन दिनों तक बड़े ही भावनात्मक वातावरण में मनाया।


कार्यक्रम के पहले दिन स्कूल में पढ़ाये आचार्य एवं बहन जी से आशीर्वाद लेकर तथा दिये संस्कारो के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित कर कार्यक्रम की शुरुवात की गई। सभी शिक्षकों ने एक साथ दीप प्रज्वलन तथा माँ सरस्वती के छाया चित्रों पर माल्यार्पण किया। स्कूल की तरह कक्षा में आचार्य जी आने ही उनको सबसे पहले नमस्ते आचार्य जी कहकर पुकारा गया।
पुरानी स्कूल की यादें ताजा की गई। श्लोक और गीत गाये गये। वरिष्ठ बहनजी विरमानी ने कहा, कि सरस्वती स्कूल से निकले छात्र समाज मे अपना विशेष स्थान रखते है, चाहे वे जिस भी क्षेत्र में रहे अपनी पहचान बना लेते है।

उन्होंने कहा, कि ये रीयूनियन की परंपरा से पुराने छात्रों को फिर से पहले सीखे गए संस्करों की याद ताजा करने में बड़ी ही मदत मिल रही है जिससे कि वे अपने बच्चों को भी अच्छे संस्कार दे पा रहे है। आचार्य नेतराम विश्वकर्मा ने कहा, कि सभी छात्र अपने उम्र के चढ़ाव पर है, सभी बढ़िया मेहनत करे , मौज करे और जीवन के आखिरी समय तक व्यस्त रहे।

उमेश काले और राजेश दुबे ने स्कूल से मिले संस्कारो और शिक्षा को याद कर सबको भावुक कर दिया। आचार्य जी एवं बहन जी को स्मृति चिन्ह देकर विदा किया गया। उसके बाद छात्रा श्रीमती पारुल मिश्रा ने गीत प्रस्तुत किया। अक्षय जैन ने व्हाट्सएप्प को धन्यवाद दिया जिसके कारण सभी छात्र एक ग्रुप में जुड़ गए तथा अपने विचार प्रकट करते रहते है।

इसी को ध्यान में रखते हुए व्हाट्सप्प अवार्ड्स की घोषणा की गई। जिसमें करीब 10 कैटेगरी में अवार्ड्स वितरित किये गए। सबसे पहले बर्थडे विश करने वाला, सबसे पहले गुड मॉर्निंग करने वाला, हमेशा अच्छी सलाह देने वाला, जो सिर्फ अपने बर्थडे का रिप्लाई कण्व वाल, बेस्ट एक्टिव मेंबर, इत्यादि अवार्ड्स विटी किये है। इस कार्यक्रम को सभी ने बड़े ही उत्साह से भाग लिया। दूसरे दिन सभी छात्र नेचर कैम्प के लिए शिवतराई में ट्रेकिंग , अर्चारिस , आदिवासी नृत्य , खेल कूद , अंताक्षरी , का आनंद उठाये तथा पुरस्कार वितरण किया गया।

अंतिम दिन जंगल सफारी कर पर्यावरण के संरक्षण को बढ़ावा देने हेतु कार्य योजना बनायी गयी। इस रीयूनियन को सफल बनाने हेतु सीए समीर सिंह , अक्षय जैन , मोहन होनप , संतोष शर्मा , शीलू अग्रवाल , रूबी सलूजा , रश्मि पटेरिया ,अर्चना अग्रवाल,अंजली पांडे, विक्की खंडेलवाल , काफी दिनों से कार्य कर रहे थे। इस रीयूनियन में मुम्बई से मीनाक्षी श्रीवास्तव , आसावरी दांडेकर , मृदुला जोशी , नासिक से अर्चना अनिवाल ,पुणे से रेणुका हस्तक , अकोला से स्मिता कुण्डले , दिल्ली से नम्रता शेंडे , नोएडा से हेमा , मथुरा से जितेंद सिंह , बंगलोर से अनुभा श्रीवास्तव , इंदौर से उमेश काले ,नागपुर से सरिता कोल्हे, रायगढ़ से पारुल मिश्रा, दुर्ग से रश्मि नामदेव, रश्मि विरमानी, भिलाई से प्रशांत देशपांडे, श्रद्धा , रायपुर से राजेश दुबे , डॉ रितु ठाकुर, धनेंद्र चंद्राकर, हरजीत कौर, बिलासपुर से इंद्रजीत चौधरी, केशव बाजपाई, सुनील सलूजा, संदीप अग्रवाल, डॉ गिरीश दिग्रसकर , आनंद तांबे , अक्षय सिन्हा, नरगिस , अनिता तिवारी, उर्मिला शुक्ला उपस्थित थे। कार्यक्रम का सफल संचालन संतोष शर्मा ने किया।अंत मे समीर सिंह ने सभी सदस्यों का आभार व्यक्त किया तथा कार्यक्रम सफल बनाने के लिए धन्यवाद ज्ञापित किया।

GiONews Team
Editor In Chief

21 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

बिलासपुर– सरस्वती शिशु मंदिर के 1987 बैच के छात्रों ने तीन दिवसीय दूसरा रीयूनियन मनाया, बीते 17 से 19 जनवरी को सरस्वती शिशु मंदिर के 87 बैच के 10 पास छात्रों ने 30 साल बाद अपना दूसरा रीयूनियन तीन दिनों तक बड़े ही भावनात्मक वातावरण में मनाया।


कार्यक्रम के पहले दिन स्कूल में पढ़ाये आचार्य एवं बहन जी से आशीर्वाद लेकर तथा दिये संस्कारो के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित कर कार्यक्रम की शुरुवात की गई। सभी शिक्षकों ने एक साथ दीप प्रज्वलन तथा माँ सरस्वती के छाया चित्रों पर माल्यार्पण किया। स्कूल की तरह कक्षा में आचार्य जी आने ही उनको सबसे पहले नमस्ते आचार्य जी कहकर पुकारा गया।
पुरानी स्कूल की यादें ताजा की गई। श्लोक और गीत गाये गये। वरिष्ठ बहनजी विरमानी ने कहा, कि सरस्वती स्कूल से निकले छात्र समाज मे अपना विशेष स्थान रखते है, चाहे वे जिस भी क्षेत्र में रहे अपनी पहचान बना लेते है।

उन्होंने कहा, कि ये रीयूनियन की परंपरा से पुराने छात्रों को फिर से पहले सीखे गए संस्करों की याद ताजा करने में बड़ी ही मदत मिल रही है जिससे कि वे अपने बच्चों को भी अच्छे संस्कार दे पा रहे है। आचार्य नेतराम विश्वकर्मा ने कहा, कि सभी छात्र अपने उम्र के चढ़ाव पर है, सभी बढ़िया मेहनत करे , मौज करे और जीवन के आखिरी समय तक व्यस्त रहे।

उमेश काले और राजेश दुबे ने स्कूल से मिले संस्कारो और शिक्षा को याद कर सबको भावुक कर दिया। आचार्य जी एवं बहन जी को स्मृति चिन्ह देकर विदा किया गया। उसके बाद छात्रा श्रीमती पारुल मिश्रा ने गीत प्रस्तुत किया। अक्षय जैन ने व्हाट्सएप्प को धन्यवाद दिया जिसके कारण सभी छात्र एक ग्रुप में जुड़ गए तथा अपने विचार प्रकट करते रहते है।

इसी को ध्यान में रखते हुए व्हाट्सप्प अवार्ड्स की घोषणा की गई। जिसमें करीब 10 कैटेगरी में अवार्ड्स वितरित किये गए। सबसे पहले बर्थडे विश करने वाला, सबसे पहले गुड मॉर्निंग करने वाला, हमेशा अच्छी सलाह देने वाला, जो सिर्फ अपने बर्थडे का रिप्लाई कण्व वाल, बेस्ट एक्टिव मेंबर, इत्यादि अवार्ड्स विटी किये है। इस कार्यक्रम को सभी ने बड़े ही उत्साह से भाग लिया। दूसरे दिन सभी छात्र नेचर कैम्प के लिए शिवतराई में ट्रेकिंग , अर्चारिस , आदिवासी नृत्य , खेल कूद , अंताक्षरी , का आनंद उठाये तथा पुरस्कार वितरण किया गया।

अंतिम दिन जंगल सफारी कर पर्यावरण के संरक्षण को बढ़ावा देने हेतु कार्य योजना बनायी गयी। इस रीयूनियन को सफल बनाने हेतु सीए समीर सिंह , अक्षय जैन , मोहन होनप , संतोष शर्मा , शीलू अग्रवाल , रूबी सलूजा , रश्मि पटेरिया ,अर्चना अग्रवाल,अंजली पांडे, विक्की खंडेलवाल , काफी दिनों से कार्य कर रहे थे। इस रीयूनियन में मुम्बई से मीनाक्षी श्रीवास्तव , आसावरी दांडेकर , मृदुला जोशी , नासिक से अर्चना अनिवाल ,पुणे से रेणुका हस्तक , अकोला से स्मिता कुण्डले , दिल्ली से नम्रता शेंडे , नोएडा से हेमा , मथुरा से जितेंद सिंह , बंगलोर से अनुभा श्रीवास्तव , इंदौर से उमेश काले ,नागपुर से सरिता कोल्हे, रायगढ़ से पारुल मिश्रा, दुर्ग से रश्मि नामदेव, रश्मि विरमानी, भिलाई से प्रशांत देशपांडे, श्रद्धा , रायपुर से राजेश दुबे , डॉ रितु ठाकुर, धनेंद्र चंद्राकर, हरजीत कौर, बिलासपुर से इंद्रजीत चौधरी, केशव बाजपाई, सुनील सलूजा, संदीप अग्रवाल, डॉ गिरीश दिग्रसकर , आनंद तांबे , अक्षय सिन्हा, नरगिस , अनिता तिवारी, उर्मिला शुक्ला उपस्थित थे। कार्यक्रम का सफल संचालन संतोष शर्मा ने किया।अंत मे समीर सिंह ने सभी सदस्यों का आभार व्यक्त किया तथा कार्यक्रम सफल बनाने के लिए धन्यवाद ज्ञापित किया।