Saturday, December 3, 2022

स्टेशन से लगे पहाड का अवैध खनन के मामले में अब तक नही हुई कोई कार्यवाही, खनिज विभाग ने मारा था छापा

कोटा– नगर के पर्यावरण को नष्ट करने का काम बेखौफ होकर चल रहा था जो सबके सामने था आते जाते सबकी नजर पढती थी लेकिन फेक्ट्री प्रबंधन इसे रेल्वे का काम और रेल्वे की परमिशन का झांसा देकर पहाडों को काटता रहा ।नगर में रेलवे के लिए स्लीपर बनाने के नाम पर रेलव ट्रेक के बाजू में लगभग बीस साल पहले रायल सीमा फैक्ट्रि ने काम शुरू किया था । उस समय ये जगह पर्यावरण के लिहाज से स्वर्ग था । चारों तरफ उंचे उंचे पहाड़ , पेड़ पौधे कोटा स्टेशन का नैसर्गिक सौंदर्य खुबसुरत बना रहे थे । लेकिन रायल सीमा फैक्ट्रि लगने के बाद पर्यावरण धीरे धीरे खराब होता गया ।स्थिति ये है कि शहर में हर तरफ खामोशी शोर है तो सिर्फ पहाड के चिरते सिने का बडी बडी पोकलैंड मशीनों से कई महिनों से बदस्तूर पहाड का अवैध खनन पाटिल ग्रुप करता रहा लेकिन खनिज विभाग इससे अनजान रहे जब नगर के कुछ लोग जागरूक नेताओ नें कलेक्टर से इसकी शिकायत की तब जाकर खनिज विभाग नें आंखे खोली और अवैध खनन पर 18 दिसंबर को छापा मारा और चार हाईवा जब्त कर कंपनी के खिलाफ छ ग खनिज अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज किया था।

रायल सीमा कब पाटिल इंफ्रास्ट्रक्चर हो गया पता नहीं । लोग आज भी इसे रायल सीमा ही कहते हैं फैक्ट्रि लगने बाद से उसने धीरे धीरे शहर के पर्यावरण को नुकसान पहुंचाना शुरू कर दिया और उसका खतरनाक परिणाम आज सामने आ रहा है

कुछ दिन पहले जिले से खनिज विभाग के कुछ अधिकारी आए फैक्ट्रि का दौरा किया और जांच में पाया कि यहां पहाडो को काटकर अवैध खनीज का परिवहन भी हो रहा है और अवैध खनन भी हो रहा है जिसपर फेक्ट्री के जीएम बलजीत सिंह से इस अवैध खनन की जानकारी चाही तो मैनेजर साहब प्रस्तुत नही कर पाए तो खनिज विभाग के सहायक अधिकारी अनिल कुमार साहू, खनिज निरिछक राहुल गुलाटी की टीम ने खनन में लगे चार हाईवा जब्त कर कंपनी के खिलाफ प्रकरण बनाया था तो वही फैक्ट्री के मैनेजर नें दस्तावेज प्रस्तुत करने की बात कही थी जिस पर खनिज विभाग नें 26 दिसंबर तक जवाब देने की तिथि निर्धारित की थी जिसका कंपनी ने आज तक जवाब प्रस्तुत नही किया है वहीं इस प्रकरण पर खनिज विभाग की मेहरबानी नजर आ रही है।

इसके पहले भी पहाडों को नुकसान पहुंचाने की शिकायत पर कोटा एसडीएम और नयाब तहसीलदार नें फेक्ट्री का मुआयना किया था और अवैध खनन के बारे में जानकारी चाही तो फैक्ट्री प्रबंधन नें गोल मोल जवाब देकर घुमाते रहे और अंत तक रेल्वे के परमिशन का दस्तावेज प्रस्तुत नही कर सके वही प्रक्रिया खनिज विभाग के साथ दोहराई जा रही है ।

डंके की चोट वाली कहावत यहां पर चरितार्थ हो रही है कि हमारा क्या होगा सही भी है खनिज विभाग अभी तक इन पर क्या कार्यवाही किया ? वही खनिज विभाग रेत मुरूम का परिवहन करने वाले ट्रेक्टरों पर ही तुरंत कार्यवाही और चलान हो जाता है

बहरहाल अब देखना होगा कि पाटिल इंफ्रास्ट्रक्चर पहाडों का अवैध खनन करने का दस्तावेज कब तक प्रस्तुत करता है और खनिज विभाग कब तक इनपर मेहरबान रहता है अगर कार्यवाही होती है तो क्या ?

इस पूरे मामले पर खनिज विभाग के अधिकारी- अनिल साहू का कहना था फैक्ट्री ने अपना जवाब तो प्रस्तुत किया है लेकिन फाईल साहब के पास है । एक खनिज इंस्पेक्टर फाईल का अध्ययन कर रहे हैं उनकी रिपोर्ट के बाद ही आगे क्या निर्देश होता है उस अनुसार कार्यवाही होगी ।

GiONews Team
Editor In Chief

247 COMMENTS

  1. An outstanding share! I have just forwarded this onto a co-worker who has been doing a little homework on this. And he in fact bought me dinner because I found it for him… lol. So let me reword this…. Thanks for the meal!! But yeah, thanx for spending time to discuss this matter here on your web site.

  2. Right here is the right website for anyone who wants to understand this topic. You realize so much its almost tough to argue with you (not that I really will need to…HaHa). You certainly put a new spin on a topic which has been written about for decades. Excellent stuff, just excellent.

  3. Oh my goodness! Awesome article dude! Thanks, However I am experiencing difficulties with your RSS. I don’t know the reason why I am unable to join it. Is there anyone else getting identical RSS problems? Anyone that knows the answer can you kindly respond? Thanks.

  4. I absolutely love your website.. Pleasant colors & theme. Did you build this web site yourself? Please reply back as I’m hoping to create my very own site and would like to know where you got this from or exactly what the theme is named. Appreciate it!

  5. Hi there! This blog post could not be written any better! Going through this article reminds me of my previous roommate! He constantly kept preaching about this. I am going to send this information to him. Fairly certain he will have a very good read. Thanks for sharing!

  6. I blog quite often and I seriously thank you for your content. This article has truly peaked my interest. I will bookmark your website and keep checking for new details about once per week. I opted in for your Feed as well.

  7. Hello there! I could have sworn I’ve been to this blog before but after going through some of the articles I realized it’s new to me. Nonetheless, I’m certainly happy I discovered it and I’ll be bookmarking it and checking back often.

  8. Oh my goodness! Amazing article dude! Thank you, However I am having issues with your RSS. I donít know why I am unable to join it. Is there anyone else having identical RSS problems? Anyone who knows the solution will you kindly respond? Thanx!!

  9. A fascinating discussion is definitely worth comment. I think that you need to write more on this subject, it may not be a taboo matter but generally folks don’t talk about such issues. To the next! Many thanks!!

  10. I was pretty pleased to find this site. I want to to thank you for your time for this particularly fantastic read!! I definitely savored every part of it and I have you bookmarked to look at new things on your blog.

  11. Iím impressed, I must say. Seldom do I encounter a blog thatís both educative and amusing, and let me tell you, you have hit the nail on the head. The problem is an issue that not enough folks are speaking intelligently about. I’m very happy that I stumbled across this in my search for something concerning this.

  12. Next time I read a blog, I hope that it doesn’t disappoint me as much as this one. I mean, I know it was my choice to read, nonetheless I truly believed you would probably have something helpful to say. All I hear is a bunch of whining about something you could possibly fix if you were not too busy searching for attention.

  13. Having read this I believed it was very enlightening. I appreciate you spending some time and effort to put this information together. I once again find myself personally spending a lot of time both reading and leaving comments. But so what, it was still worthwhile!

  14. Hello there! This post couldnít be written much better! Reading through this post reminds me of my previous roommate! He constantly kept talking about this. I most certainly will send this information to him. Pretty sure he’s going to have a great read. Thanks for sharing!

  15. Oh my goodness! Impressive article dude! Many thanks, However I am going through difficulties with your RSS. I donít know the reason why I am unable to join it. Is there anybody getting the same RSS problems? Anyone who knows the solution can you kindly respond? Thanx!!

  16. An outstanding share! I have just forwarded this onto a coworker who was conducting a little research on this. And he actually bought me dinner due to the fact that I discovered it for him… lol. So allow me to reword this…. Thanks for the meal!! But yeah, thanx for spending the time to discuss this topic here on your internet site.

  17. I’d like to thank you for the efforts you have put in writing this website. I’m hoping to see the same high-grade content by you in the future as well. In truth, your creative writing abilities has motivated me to get my own website now ;)

  18. Having read this I thought it was extremely informative. I appreciate you spending some time and energy to put this article together. I once again find myself spending way too much time both reading and leaving comments. But so what, it was still worth it!

  19. I blog frequently and I really appreciate your content. The article has really peaked my interest. I’m going to take a note of your website and keep checking for new information about once a week. I subscribed to your RSS feed too.

  20. Howdy! This article couldn’t be written any better! Looking through this article reminds me of my previous roommate! He continually kept preaching about this. I most certainly will forward this information to him. Fairly certain he’ll have a great read. Thanks for sharing!

  21. I was pretty pleased to uncover this website. I need to to thank you for ones time for this particularly wonderful read!! I definitely savored every little bit of it and i also have you saved as a favorite to see new information on your website.

  22. I was excited to find this website. I need to to thank you for ones time for this particularly fantastic read!! I definitely really liked every little bit of it and I have you bookmarked to check out new things in your site.

  23. Hi, I do think this is a great website. I stumbledupon it ;) I may come back once again since I saved as a favorite it. Money and freedom is the best way to change, may you be rich and continue to help other people.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

कोटा– नगर के पर्यावरण को नष्ट करने का काम बेखौफ होकर चल रहा था जो सबके सामने था आते जाते सबकी नजर पढती थी लेकिन फेक्ट्री प्रबंधन इसे रेल्वे का काम और रेल्वे की परमिशन का झांसा देकर पहाडों को काटता रहा ।नगर में रेलवे के लिए स्लीपर बनाने के नाम पर रेलव ट्रेक के बाजू में लगभग बीस साल पहले रायल सीमा फैक्ट्रि ने काम शुरू किया था । उस समय ये जगह पर्यावरण के लिहाज से स्वर्ग था । चारों तरफ उंचे उंचे पहाड़ , पेड़ पौधे कोटा स्टेशन का नैसर्गिक सौंदर्य खुबसुरत बना रहे थे । लेकिन रायल सीमा फैक्ट्रि लगने के बाद पर्यावरण धीरे धीरे खराब होता गया ।स्थिति ये है कि शहर में हर तरफ खामोशी शोर है तो सिर्फ पहाड के चिरते सिने का बडी बडी पोकलैंड मशीनों से कई महिनों से बदस्तूर पहाड का अवैध खनन पाटिल ग्रुप करता रहा लेकिन खनिज विभाग इससे अनजान रहे जब नगर के कुछ लोग जागरूक नेताओ नें कलेक्टर से इसकी शिकायत की तब जाकर खनिज विभाग नें आंखे खोली और अवैध खनन पर 18 दिसंबर को छापा मारा और चार हाईवा जब्त कर कंपनी के खिलाफ छ ग खनिज अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज किया था।

रायल सीमा कब पाटिल इंफ्रास्ट्रक्चर हो गया पता नहीं । लोग आज भी इसे रायल सीमा ही कहते हैं फैक्ट्रि लगने बाद से उसने धीरे धीरे शहर के पर्यावरण को नुकसान पहुंचाना शुरू कर दिया और उसका खतरनाक परिणाम आज सामने आ रहा है

कुछ दिन पहले जिले से खनिज विभाग के कुछ अधिकारी आए फैक्ट्रि का दौरा किया और जांच में पाया कि यहां पहाडो को काटकर अवैध खनीज का परिवहन भी हो रहा है और अवैध खनन भी हो रहा है जिसपर फेक्ट्री के जीएम बलजीत सिंह से इस अवैध खनन की जानकारी चाही तो मैनेजर साहब प्रस्तुत नही कर पाए तो खनिज विभाग के सहायक अधिकारी अनिल कुमार साहू, खनिज निरिछक राहुल गुलाटी की टीम ने खनन में लगे चार हाईवा जब्त कर कंपनी के खिलाफ प्रकरण बनाया था तो वही फैक्ट्री के मैनेजर नें दस्तावेज प्रस्तुत करने की बात कही थी जिस पर खनिज विभाग नें 26 दिसंबर तक जवाब देने की तिथि निर्धारित की थी जिसका कंपनी ने आज तक जवाब प्रस्तुत नही किया है वहीं इस प्रकरण पर खनिज विभाग की मेहरबानी नजर आ रही है।

इसके पहले भी पहाडों को नुकसान पहुंचाने की शिकायत पर कोटा एसडीएम और नयाब तहसीलदार नें फेक्ट्री का मुआयना किया था और अवैध खनन के बारे में जानकारी चाही तो फैक्ट्री प्रबंधन नें गोल मोल जवाब देकर घुमाते रहे और अंत तक रेल्वे के परमिशन का दस्तावेज प्रस्तुत नही कर सके वही प्रक्रिया खनिज विभाग के साथ दोहराई जा रही है ।

डंके की चोट वाली कहावत यहां पर चरितार्थ हो रही है कि हमारा क्या होगा सही भी है खनिज विभाग अभी तक इन पर क्या कार्यवाही किया ? वही खनिज विभाग रेत मुरूम का परिवहन करने वाले ट्रेक्टरों पर ही तुरंत कार्यवाही और चलान हो जाता है

बहरहाल अब देखना होगा कि पाटिल इंफ्रास्ट्रक्चर पहाडों का अवैध खनन करने का दस्तावेज कब तक प्रस्तुत करता है और खनिज विभाग कब तक इनपर मेहरबान रहता है अगर कार्यवाही होती है तो क्या ?

इस पूरे मामले पर खनिज विभाग के अधिकारी- अनिल साहू का कहना था फैक्ट्री ने अपना जवाब तो प्रस्तुत किया है लेकिन फाईल साहब के पास है । एक खनिज इंस्पेक्टर फाईल का अध्ययन कर रहे हैं उनकी रिपोर्ट के बाद ही आगे क्या निर्देश होता है उस अनुसार कार्यवाही होगी ।