Sunday, November 27, 2022

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री को लिखा पत्र.. लॉकडाउन की वजह से वित्तीय कठिनाइयों से कराया अवगत..

रायपुर– मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखा है। उन्होंने 22 मार्च से लागू लॉकडाउन के कारण राज्य के सामने आ रही वित्तीय कठिनाईयों की ओर उनका ध्यान दिलाते हुए, प्रदेश में जरूरतमंद लोगों को राहत देने, और राज्य के कामकाज के संचालन और विकास गतिविधियों के लिए अधिक आर्थिक संसाधन जुटाने के उद्देश्य से राज्य को इस वर्ष उधार की सीमा जीएसडीपी के 6 प्रतिशत तक शिथिल करने, और राज्य का वित्तीय घाटा इस साल जीएसडीपी का 5 प्रतिशत के बराबर रखने की सहमति प्रदान करने का अनुरोध किया है।

पढ़िए सीएम का पत्र

मुख्यमंत्री ने उम्मीद जताई है कि सम्पूर्ण देश तथा छत्तीसगढ़ में आयी इस आपदा के कठिन समय में केन्द्र सरकार द्वारा राज्य की इन न्यायोचित मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार किया जाएगा।

GiONews Team
Editor In Chief

1 COMMENT

  1. Hello, I dօ think your ѕite might be having web
    browser compаtibility problemѕ. Whenever I take a look
    at your website in Safari, iit looks fine however, when opening іn Inrernet Explorer, it has some overlappijng issues.
    I just wanted to give you a quick headѕ up! Other than that, great site!

    Look intߋ my web blog – gta togel

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

रायपुर– मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखा है। उन्होंने 22 मार्च से लागू लॉकडाउन के कारण राज्य के सामने आ रही वित्तीय कठिनाईयों की ओर उनका ध्यान दिलाते हुए, प्रदेश में जरूरतमंद लोगों को राहत देने, और राज्य के कामकाज के संचालन और विकास गतिविधियों के लिए अधिक आर्थिक संसाधन जुटाने के उद्देश्य से राज्य को इस वर्ष उधार की सीमा जीएसडीपी के 6 प्रतिशत तक शिथिल करने, और राज्य का वित्तीय घाटा इस साल जीएसडीपी का 5 प्रतिशत के बराबर रखने की सहमति प्रदान करने का अनुरोध किया है।

पढ़िए सीएम का पत्र

मुख्यमंत्री ने उम्मीद जताई है कि सम्पूर्ण देश तथा छत्तीसगढ़ में आयी इस आपदा के कठिन समय में केन्द्र सरकार द्वारा राज्य की इन न्यायोचित मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार किया जाएगा।