कोरबा में कोरोना बेकाबू : दो कोरोना मरीज ने गवांई जान, दो दिन पहले हुआ था भर्ती, दूसरी और बीमारी से ग्रसित..

कोरबा – छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले में भी कोरोना बेकाबू है। यहां आए दिन मरीजों की संख्या बढ़ रही है। मगर नई परेशानी अब लगातार हो रही मौतों ने बढ़ा दी है। यहां रविवार को फिर से 2 कोरोना मरीजों की मौत हुई है। 45 साल का एक शख्स 2 दिन पहले ही अस्पताल में भर्ती हुआ था। रविवार को उसकी इलाज के दौरान जान चले गई है।

जानकारी के मुताबिक, 45 का शख्स जिले के खरमोरा का रहने वाला था। कुछ दिन पहले उसकी तबीयत खराब थी। उसे कोरोना के लक्षण थे। जिसके बाद 3 दिन पहले उसने टेस्ट कराया था। जिसमें उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। हालत बिगड़ने के चलते 2 दिन पहले ही उसे ESIC अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां उसकी जान चले गई। डॉक्टरों ने बताया कि मरीज को सुगर और बीपी की समस्या भी थी। जिसके चलते उसे ज्यादा परेशानी थी।

वहीं 60 साल के बुजुर्ग को 4 दिन पहले बालको अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जिसके बाद से उसका इलाज अस्पताल में चल रहा था। अस्पताल में भर्ती होने के कुछ दिन पहले उन्होंने कोरोना के लक्षण होने के चलते टेस्ट कराया था। रिपोर्ट पॉजिटिव होने पर बालको अस्पताल में उन्हें भर्ती किया गया था। बुजुर्ग बालको इलाके का रहने वाला था।

जिले में कोरोना की दूसरी लहर में भी कोरोना से हालात खराब हुए थे। उस दौरान भी मरीजों की संख्या बढ़ने के साथ कोरोना से मौत का आकड़ा बढ़ गया था। अब जबकि तीसरी लहर शुरू हो चुकी है तब एक बार फिर से मरीजों की संख्या बढ़ने के साथ लोगों की मौत भी हो रही है। 8 दिन पहले ही हरदीबाजार क्षेत्र के एक 80 साल के बुजुर्ग की मौत हो गई थी। उन्हें ESIC कोविड अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसके 11 दिन पहले ही हरदीबाजार क्षेत्र के एक शख्स की जान गई थी। इस प्रकार तीसरी लहर में जिले में अब तक 4 लोगों की जान जा चुकी है।

GiONews Team
Editor In Chief

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

कोरबा – छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले में भी कोरोना बेकाबू है। यहां आए दिन मरीजों की संख्या बढ़ रही है। मगर नई परेशानी अब लगातार हो रही मौतों ने बढ़ा दी है। यहां रविवार को फिर से 2 कोरोना मरीजों की मौत हुई है। 45 साल का एक शख्स 2 दिन पहले ही अस्पताल में भर्ती हुआ था। रविवार को उसकी इलाज के दौरान जान चले गई है।

जानकारी के मुताबिक, 45 का शख्स जिले के खरमोरा का रहने वाला था। कुछ दिन पहले उसकी तबीयत खराब थी। उसे कोरोना के लक्षण थे। जिसके बाद 3 दिन पहले उसने टेस्ट कराया था। जिसमें उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। हालत बिगड़ने के चलते 2 दिन पहले ही उसे ESIC अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां उसकी जान चले गई। डॉक्टरों ने बताया कि मरीज को सुगर और बीपी की समस्या भी थी। जिसके चलते उसे ज्यादा परेशानी थी।

वहीं 60 साल के बुजुर्ग को 4 दिन पहले बालको अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जिसके बाद से उसका इलाज अस्पताल में चल रहा था। अस्पताल में भर्ती होने के कुछ दिन पहले उन्होंने कोरोना के लक्षण होने के चलते टेस्ट कराया था। रिपोर्ट पॉजिटिव होने पर बालको अस्पताल में उन्हें भर्ती किया गया था। बुजुर्ग बालको इलाके का रहने वाला था।

जिले में कोरोना की दूसरी लहर में भी कोरोना से हालात खराब हुए थे। उस दौरान भी मरीजों की संख्या बढ़ने के साथ कोरोना से मौत का आकड़ा बढ़ गया था। अब जबकि तीसरी लहर शुरू हो चुकी है तब एक बार फिर से मरीजों की संख्या बढ़ने के साथ लोगों की मौत भी हो रही है। 8 दिन पहले ही हरदीबाजार क्षेत्र के एक 80 साल के बुजुर्ग की मौत हो गई थी। उन्हें ESIC कोविड अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसके 11 दिन पहले ही हरदीबाजार क्षेत्र के एक शख्स की जान गई थी। इस प्रकार तीसरी लहर में जिले में अब तक 4 लोगों की जान जा चुकी है।