Monday, September 26, 2022

जेल में फिर एक मौत…..पांच दिन में दूसरे बंदी की संदिग्ध मौत……भाई को पुलिस ने बताया- जेल में कुत्ते ने काटा था।

बिलासपुर। पांच दिन पहले जेल में बंदी छोटेलाल यादव की मौत का मामला अभी थमा नहीं है कि इधर एक और बंदी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। 14 मई को उसे रेलवे पुलिस ने चोरी के आरोप में गिरफ्तार कर जेल भेजा था। 16 को उसे गंभीर हालत में सिम्स लाया गया था। यहां बुधवार की शाम को उसकी मौत हो गई।

सूचना दी गई थी और न ही जेल प्रशासन ने बीमार होने या मौत की जानकारी भेजी है। मूल रूप से कोनी थाना क्षेत्र के ग्राम सेंदरी केंवट पारा निवासी विदेशी राम केंवट पिता चैतराम केंवट (31) वर्तमान में अपने ससुराल जांजगीर चांपा जिले के बलौदा के पास बोकरा मुड़ा चारपारा में पत्नी व बच्चों के साथ रहता था।

यहां से वह अकेले बिलासपुर में आकर मजदूरी करता था। मालगाड़ियों से खाद उतारकर वह ट्रकों में भरता था। रहने के लिए यहां किराए से मकान ले लिया था। 14 मई को रेलवे पुलिस ने चोरी के मामले में उसे गिरफ्तार किया था। उसी दिन उसे जेल दाखिल कराया गया था।

जेल दाखिल कराने से पहले उसका मुलाहिजा हुआ था। इसमें उसे बिल्कुल स्वस्थ्य बताया गया था। जेल जाने के बाद विदेशी राम को जेल हास्पिटल में भर्ती कराया गया था। दो दिन तक वह यहां पर भर्ती रहा। हालत में सुधार नहीं हुआ तो उसे 16 मई को सिम्स लाया गया था।

यहां उसका इलाज चल रहा था। बुधवार 18 मई की शाम को उसकी मौत हो गई। अस्पताल से मर्ग की सूचना सिविल लाइन थाने को भेजी गई। विदेशी राम के भाई मानु केंवट के अनुसार कोनी पुलिस से भाई की मौत की सूचना मिली तो वह सिम्स गया। सिम्स चौकी पुलिस ने उसे बताया कि विदेशी राम की मौत कुत्ता काटने से हुई है। जेल में उसे किसी कुत्ते ने काट लिया था।

न तो गिरफ्तारी की सूचना दी और न ही मौत की
विदेशी राम के परिवार को यह भी पता नहीं कि वह जेल में था। उन्हें लग रहा था कि अभी भी विदेशी राम काम कर रहा है।

न उसकी गिरफ्तारी की सूचना दी गई थी और न ही जेल भेजने की। सिम्स में भर्ती रहा इसकी भी किसी को जानकारी नहीं है। बंदी की मौत की जानकारी सिविल लाइन पुलिस ने कोनी पुलिस को दी। कोनी पुलिस ने सेंदरी में रहने वाले उसके भाई मानू केंवट को सूचना दी है। पत्नी व बच्चों को जानकारी नहीं है। जेल प्रशासन ने किसी को नहीं बताया है।

जेल में मेरे भाई के साथ वही हुआ जो छोटेलाल के साथ हुआ था
मेरा बड़ा भाई ह्ष्ट पुष्ट था। रेलवे में माल लोड अनलोड करता था। वह कभी जिंदगी में बीमार नहीं पड़ा। उसके साथ जेल में मेरे भाई के साथ वही हुआ है जो चार दिन दिन पहले छोटेलाल यादव के साथ हुआ था। मैने उसके बारे में अखबार में पढ़ा था। उसकी दो दो बेटियां है। उनकी पढ़ाई लिखाई और शादी करनी है।

मारपीट की आशंका न्यायिक जांच होगी
जेल सूत्रों के अनुसार विदेशी राम के साथ जेल में मारपीट की गई थी। इसके कारण उसकी तबीयत बिगड़ी और उसे जेल अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। बिल्कुल इसी तरह की घटना छोटेलाल के साथ पांच दिन पहले हुई थी। इस मामले की भी न्यायिक जांच होगी।

आज मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में होगा पंचनामा फिर पीएम
बंदी की जेल में हुई मौत की जानकारी सिविल लाइन पुलिस ने सीजेएम को दी है। यहां से मजिस्ट्रेट की नियुक्ति होगी फिर उनकी उपस्थिति में पंचनामा होगा। इसके बाद पीएम होगा। गुरुवार को पूरी कार्रवाई होगी। इस दौरान विदेशी राम के परिजन भी मौजूद रहेंगे।

अधीक्षक का मोबाइल ऑन-ऑफ
बंदी की मौत की जानकारी लेने जब जेल अधीक्षक एसएस तिग्गा से बातचीत करने की कोशिश की गई तो उनका मोबाइल मोबाइल बंद मिला। पिछले तीन दिनों से अक्सर उनका मोबाइल ऑन ऑफ हो रहा है।

दो बेटियों का पिता था विदेशी राम
विदेशी राम की दो बेटियां है। एक 14 साल और दूसरी 10 साल की है। दोनों की परवरिश हमाली कर करता था। भाई मानू को पता चला तो सेंदरी के ही अपने पड़ोसी सागर पटेल को लेकर भभी चंदा केंवट को लेने गया।

देखने नहीं दिया कहा- सुबह आना
विदेशी राम का भाई मानू केंवट सिम्स गया तो चौकी में उपस्थित पुलिस से वह अपने मृत भाई को देखने की इच्छा जताई। पुलिस ने उसे वापस भेज दिया। कहा वह दूसरे दिन सुबह 10 बजे आएगा तो देखने को मिलेगा।

पांच दिन के भीतर दूसरी मौत
जेल में पांच दिन पहले अवैध शराब के मामले में पकड़े गए पचपेड़ी क्षेत्र के छोटेलाल यादव की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी। उसके पूरे शरीर पर चोंट के निशान पाए गए। गिरफ्तार व जेल में रहने के दौरान उसके साथ बर्बरता से मारपीट की गई थी।

इस मामले में काफी बवाल हो रहा है। एक दिन पहले ही यादव समाज के लोगों ने कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर दोषियों को फांसी देने की मांग की है। इसकी न्यायिक जांच हो रही है। इस बीच फिर से एक बंदी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। लगातार जेल में मौत होने से जेल प्रबंधन कटघरे में आ गया है।

छोटेलाल के केस में आज मजिस्ट्रेट जाएंगे जेल
जेल में छोटेलाल यादव की संदिग्ध मौत के मामले की न्यायिक जांच शुरू हो रही है। शुक्रवार को कोर्ट से नियुक्त मजिस्ट्रेट सेंट्रल जेल जाएंगे। बताया जा रहा है कि जांच शुरू होने से पहले जेल के अधिकारियों ने पूरे जेल में बंदी और कैदियों की क्लास ली है और सभी को किसी तरह से शिकायत नहीं करने की हिदायत दी है।

GiONews Team
Editor In Chief

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

बिलासपुर। पांच दिन पहले जेल में बंदी छोटेलाल यादव की मौत का मामला अभी थमा नहीं है कि इधर एक और बंदी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। 14 मई को उसे रेलवे पुलिस ने चोरी के आरोप में गिरफ्तार कर जेल भेजा था। 16 को उसे गंभीर हालत में सिम्स लाया गया था। यहां बुधवार की शाम को उसकी मौत हो गई।

सूचना दी गई थी और न ही जेल प्रशासन ने बीमार होने या मौत की जानकारी भेजी है। मूल रूप से कोनी थाना क्षेत्र के ग्राम सेंदरी केंवट पारा निवासी विदेशी राम केंवट पिता चैतराम केंवट (31) वर्तमान में अपने ससुराल जांजगीर चांपा जिले के बलौदा के पास बोकरा मुड़ा चारपारा में पत्नी व बच्चों के साथ रहता था।

यहां से वह अकेले बिलासपुर में आकर मजदूरी करता था। मालगाड़ियों से खाद उतारकर वह ट्रकों में भरता था। रहने के लिए यहां किराए से मकान ले लिया था। 14 मई को रेलवे पुलिस ने चोरी के मामले में उसे गिरफ्तार किया था। उसी दिन उसे जेल दाखिल कराया गया था।

जेल दाखिल कराने से पहले उसका मुलाहिजा हुआ था। इसमें उसे बिल्कुल स्वस्थ्य बताया गया था। जेल जाने के बाद विदेशी राम को जेल हास्पिटल में भर्ती कराया गया था। दो दिन तक वह यहां पर भर्ती रहा। हालत में सुधार नहीं हुआ तो उसे 16 मई को सिम्स लाया गया था।

यहां उसका इलाज चल रहा था। बुधवार 18 मई की शाम को उसकी मौत हो गई। अस्पताल से मर्ग की सूचना सिविल लाइन थाने को भेजी गई। विदेशी राम के भाई मानु केंवट के अनुसार कोनी पुलिस से भाई की मौत की सूचना मिली तो वह सिम्स गया। सिम्स चौकी पुलिस ने उसे बताया कि विदेशी राम की मौत कुत्ता काटने से हुई है। जेल में उसे किसी कुत्ते ने काट लिया था।

न तो गिरफ्तारी की सूचना दी और न ही मौत की
विदेशी राम के परिवार को यह भी पता नहीं कि वह जेल में था। उन्हें लग रहा था कि अभी भी विदेशी राम काम कर रहा है।

न उसकी गिरफ्तारी की सूचना दी गई थी और न ही जेल भेजने की। सिम्स में भर्ती रहा इसकी भी किसी को जानकारी नहीं है। बंदी की मौत की जानकारी सिविल लाइन पुलिस ने कोनी पुलिस को दी। कोनी पुलिस ने सेंदरी में रहने वाले उसके भाई मानू केंवट को सूचना दी है। पत्नी व बच्चों को जानकारी नहीं है। जेल प्रशासन ने किसी को नहीं बताया है।

जेल में मेरे भाई के साथ वही हुआ जो छोटेलाल के साथ हुआ था
मेरा बड़ा भाई ह्ष्ट पुष्ट था। रेलवे में माल लोड अनलोड करता था। वह कभी जिंदगी में बीमार नहीं पड़ा। उसके साथ जेल में मेरे भाई के साथ वही हुआ है जो चार दिन दिन पहले छोटेलाल यादव के साथ हुआ था। मैने उसके बारे में अखबार में पढ़ा था। उसकी दो दो बेटियां है। उनकी पढ़ाई लिखाई और शादी करनी है।

मारपीट की आशंका न्यायिक जांच होगी
जेल सूत्रों के अनुसार विदेशी राम के साथ जेल में मारपीट की गई थी। इसके कारण उसकी तबीयत बिगड़ी और उसे जेल अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। बिल्कुल इसी तरह की घटना छोटेलाल के साथ पांच दिन पहले हुई थी। इस मामले की भी न्यायिक जांच होगी।

आज मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में होगा पंचनामा फिर पीएम
बंदी की जेल में हुई मौत की जानकारी सिविल लाइन पुलिस ने सीजेएम को दी है। यहां से मजिस्ट्रेट की नियुक्ति होगी फिर उनकी उपस्थिति में पंचनामा होगा। इसके बाद पीएम होगा। गुरुवार को पूरी कार्रवाई होगी। इस दौरान विदेशी राम के परिजन भी मौजूद रहेंगे।

अधीक्षक का मोबाइल ऑन-ऑफ
बंदी की मौत की जानकारी लेने जब जेल अधीक्षक एसएस तिग्गा से बातचीत करने की कोशिश की गई तो उनका मोबाइल मोबाइल बंद मिला। पिछले तीन दिनों से अक्सर उनका मोबाइल ऑन ऑफ हो रहा है।

दो बेटियों का पिता था विदेशी राम
विदेशी राम की दो बेटियां है। एक 14 साल और दूसरी 10 साल की है। दोनों की परवरिश हमाली कर करता था। भाई मानू को पता चला तो सेंदरी के ही अपने पड़ोसी सागर पटेल को लेकर भभी चंदा केंवट को लेने गया।

देखने नहीं दिया कहा- सुबह आना
विदेशी राम का भाई मानू केंवट सिम्स गया तो चौकी में उपस्थित पुलिस से वह अपने मृत भाई को देखने की इच्छा जताई। पुलिस ने उसे वापस भेज दिया। कहा वह दूसरे दिन सुबह 10 बजे आएगा तो देखने को मिलेगा।

पांच दिन के भीतर दूसरी मौत
जेल में पांच दिन पहले अवैध शराब के मामले में पकड़े गए पचपेड़ी क्षेत्र के छोटेलाल यादव की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी। उसके पूरे शरीर पर चोंट के निशान पाए गए। गिरफ्तार व जेल में रहने के दौरान उसके साथ बर्बरता से मारपीट की गई थी।

इस मामले में काफी बवाल हो रहा है। एक दिन पहले ही यादव समाज के लोगों ने कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर दोषियों को फांसी देने की मांग की है। इसकी न्यायिक जांच हो रही है। इस बीच फिर से एक बंदी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। लगातार जेल में मौत होने से जेल प्रबंधन कटघरे में आ गया है।

छोटेलाल के केस में आज मजिस्ट्रेट जाएंगे जेल
जेल में छोटेलाल यादव की संदिग्ध मौत के मामले की न्यायिक जांच शुरू हो रही है। शुक्रवार को कोर्ट से नियुक्त मजिस्ट्रेट सेंट्रल जेल जाएंगे। बताया जा रहा है कि जांच शुरू होने से पहले जेल के अधिकारियों ने पूरे जेल में बंदी और कैदियों की क्लास ली है और सभी को किसी तरह से शिकायत नहीं करने की हिदायत दी है।