Thursday, October 6, 2022

बड़ी खबर: मंत्री टीएस सिंहदेव ने दिया इस्तीफा.. पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री पद से दिया इस्तीफा.. बने रहेंगे स्वास्थ्य मंत्री..

रायपुर– राजधानी में बीते दिनों सीएम भूपेश बघेल के साथ हुई कैबिनेट मंत्रियों की बैठक के बाद से वरिष्ठ मंत्री टीएस सिंहदेव देव नाराज बताए जा रहे हैं। उनकी नाराजगी का कारण राज्य में चल रही अफसरशाही और सबसे मुख्य ढाई ढाई साल का फार्मूला ही रहा है। हालांकि पार्टी में फूट न पड़े और आपस में कांग्रेस के मंत्री व विधायक ना बिखरे इसके चलते श्री सिंहदेव चुप बैठे थे।

लेकिन आखिरकार बिफरे सिंहदेव का दुख छलक पड़ा और उन्होंने राज्य के पंचायत मंत्री के पद को बाय बाय कहने का फैसला कर अंबिकापुर से कांग्रेस सुप्रीमो सोनिया गांधी और प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को अपना इस्तीफा भेज दिया है। इस बात की पुष्टि उनके करीबी व खास समर्थक पंकज सिंह ने की है।

मिली जानकारी के अनुसार अगर श्री सिंहदेव का इस्तीफा मंजूर हो जाता है तो पंचायत विभाग छोड़कर उनके पास बाकी, सभी विभाग यथावत रहेंगे। सूत्रों की माने तो श्री सिंहदेव ने पंचायत विभाग के अधिकारियों पर आरोप लगाया है, कि अफसरशाही के चलते मंत्री की कोई सुनवाई नहीं हो रही है।

बता दें, कि बीते दिनों प्रदेशभर के करीब 10,000 मनरेगाकर्मी राजधानी में अपनी दो सूत्रीय मांगों को लेकर 63 दिनों से हड़ताल पर थे. इससे सरकार ने APO पर कार्रवाई कर दी थी, जिसमें 21 सहायक परियोजना अधिकारियों को निलंबित किया गया था. फिलहाल सभी अधिकारियों को बहाल कर दिया गया है.

GiONews Team
Editor In Chief

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

रायपुर– राजधानी में बीते दिनों सीएम भूपेश बघेल के साथ हुई कैबिनेट मंत्रियों की बैठक के बाद से वरिष्ठ मंत्री टीएस सिंहदेव देव नाराज बताए जा रहे हैं। उनकी नाराजगी का कारण राज्य में चल रही अफसरशाही और सबसे मुख्य ढाई ढाई साल का फार्मूला ही रहा है। हालांकि पार्टी में फूट न पड़े और आपस में कांग्रेस के मंत्री व विधायक ना बिखरे इसके चलते श्री सिंहदेव चुप बैठे थे।

लेकिन आखिरकार बिफरे सिंहदेव का दुख छलक पड़ा और उन्होंने राज्य के पंचायत मंत्री के पद को बाय बाय कहने का फैसला कर अंबिकापुर से कांग्रेस सुप्रीमो सोनिया गांधी और प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को अपना इस्तीफा भेज दिया है। इस बात की पुष्टि उनके करीबी व खास समर्थक पंकज सिंह ने की है।

मिली जानकारी के अनुसार अगर श्री सिंहदेव का इस्तीफा मंजूर हो जाता है तो पंचायत विभाग छोड़कर उनके पास बाकी, सभी विभाग यथावत रहेंगे। सूत्रों की माने तो श्री सिंहदेव ने पंचायत विभाग के अधिकारियों पर आरोप लगाया है, कि अफसरशाही के चलते मंत्री की कोई सुनवाई नहीं हो रही है।

बता दें, कि बीते दिनों प्रदेशभर के करीब 10,000 मनरेगाकर्मी राजधानी में अपनी दो सूत्रीय मांगों को लेकर 63 दिनों से हड़ताल पर थे. इससे सरकार ने APO पर कार्रवाई कर दी थी, जिसमें 21 सहायक परियोजना अधिकारियों को निलंबित किया गया था. फिलहाल सभी अधिकारियों को बहाल कर दिया गया है.