Saturday, December 3, 2022

सेमरताल स्कूल के आनंद मेला में बच्चों ने छत्तीसों पकवानों के स्टाल लगाए

बिलासपुर – शा.उ.मा.वि. सेमरताल में आज आनंद मेला का आयोजन किया गया है। मेला में कक्षा पहली से लेकर कक्षा बारहवी तक के विघार्थियों भाग लिया। मेले में छत्तीसगढ़ी व्यंजनों के साथ ही अलग अलग राज्यों के प्रसिद्ध भोज्य सामाग्रियों के स्टाल लगाए गए। संकुल प्राचार्य सुनीता शुक्ला ने फीता काटकर मेला का शुभारंभ किया। मेले के प्रारंभ में शा. कन्या पूर्व मा. शाला के प्रधान पाठक रामकुमार मानिकपुरी, बालक शाला के प्रधान पाठक बलराम पटेल, शा. प्रा. शाला के प्रधान पाठक धन्नुलाल बरगाह, संकुल समन्वयक ओमप्रकाश वर्मा और आनंद मेला के संयोजक अनिल कुमार वर्मा बच्चों को बधाई दी। प्राथमिक शाला व कन्या पूर्व माध्यमिक विघालय की विघार्थियों ने छत्तीसगढ़ी खाघ सामाग्रियों का स्टाल लगाया, जिसमें बरा, बोबरा, चीला, भजिया, देहरौरी, हलुआ, खीर, पूरी, चना चर्पटी, रसगुल्ला सहित छत्तीस प्रकार के पकवानों की प्रदर्शनी लगाई गई। वही नवमी से बारहवी तक के बच्चों ने गरमागरम पूड़ी सब्जी, फरा, गुपचुप, ढोकला, चाट, मोमोज, मुर्रा लाडु, समोसा, मिर्ची भजिया, बीही, पुलाव व कई क्षेत्रीय पकवान बनाए थे। आनंद मेले में बच्चों सहित संकुल के सभी शिक्षक शिक्षिकाओं ने जमकर खरीदारी की। वृहद स्तर पर होने वाले इस मेले में मनोरंजन के लिए निशानेबाजी, किस्मत आजमाओं, करेंट रिंग, रिेग फेकों ईनाम जीतो आदि खेल कराया गया। मेले में छोटे बच्चांे ने मनमोहक लोक नृत्य प्रस्तुत किया। आनंद मेला में ग्राम गतौरी, बरपाली, जलसो, सेमरताल, नहरीभाठा के बच्चे अपने छोटे भाई बहनों के साथ भाग लिए थे। उच्चतर माध्यमिक शाला की ओर से 24 स्टाल, कन्या पूर्व शाला से 12 स्टाल, बालक पूर्व से 6 स्टाल और प्राथमिक शाला के द्वारा 10 स्टाल लगाए गए थे। आनंद मेला में बच्चों ने पाँच हजार की बिक्री की। 12 बजे से शुरु हुए मेले की अधिकांश सामाग्री शुरुवात में ही बिक गए। आयोजन में बच्चे बहुत खुश नजर आ रहे थे। आनंद मेले के सफल आयोजन पर शाला प्रबंध समिति के अध्यक्ष इंजीनियर लक्ष्मी कुमार गहवईसेमरताल स्कूल के आनंद मेला में बच्चों ने छत्तीसों पकवानों के स्टाल लगाए
सेमरताल – शा.उ.मा.वि. सेमरताल में दिनांक 18 नवंबर को आनंद मेला का आयोजन किया गया है। मेला में कक्षा पहली से लेकर कक्षा बारहवी तक के विघार्थियों भाग लिया। मेले में छत्तीसगढ़ी व्यंजनों के साथ ही अलग अलग राज्यों के प्रसिद्ध भोज्य सामाग्रियों के स्टाल लगाए गए। संकुल प्राचार्य सुनीता शुक्ला ने फीता काटकर मेला का शुभारंभ किया। मेले के प्रारंभ में शा. कन्या पूर्व मा. शाला के प्रधान पाठक रामकुमार मानिकपुरी, बालक शाला के प्रधान पाठक बलराम पटेल, शा. प्रा. शाला के प्रधान पाठक धन्नुलाल बरगाह, संकुल समन्वयक ओमप्रकाश वर्मा और आनंद मेला के संयोजक अनिल कुमार वर्मा बच्चों को बधाई दी। प्राथमिक शाला व कन्या पूर्व माध्यमिक विघालय की विघार्थियों ने छत्तीसगढ़ी खाघ सामाग्रियों का स्टाल लगाया, जिसमें बरा, बोबरा, चीला, भजिया, देहरौरी, हलुआ, खीर, पूरी, चना चर्पटी, रसगुल्ला सहित छत्तीस प्रकार के पकवानों की प्रदर्शनी लगाई गई। वही नवमी से बारहवी तक के बच्चों ने गरमागरम पूड़ी सब्जी, फरा, गुपचुप, ढोकला, चाट, मोमोज, मुर्रा लाडु, समोसा, मिर्ची भजिया, बीही, पुलाव व कई क्षेत्रीय पकवान बनाए थे। आनंद मेले में बच्चों सहित संकुल के सभी शिक्षक शिक्षिकाओं ने जमकर खरीदारी की। वृहद स्तर पर होने वाले इस मेले में मनोरंजन के लिए निशानेबाजी, किस्मत आजमाओं, करेंट रिंग, रिेग फेकों ईनाम जीतो आदि खेल कराया गया। मेले में छोटे बच्चांे ने मनमोहक लोक नृत्य प्रस्तुत किया। आनंद मेला में ग्राम गतौरी, बरपाली, जलसो, सेमरताल, नहरीभाठा के बच्चे अपने छोटे भाई बहनों के साथ भाग लिए थे। उच्चतर माध्यमिक शाला की ओर से 24 स्टाल, कन्या पूर्व शाला से 12 स्टाल, बालक पूर्व से 6 स्टाल और प्राथमिक शाला के द्वारा 10 स्टाल लगाए गए थे। आनंद मेला में बच्चों ने पाँच हजार की बिक्री की। 12 बजे से शुरु हुए मेले की अधिकांश सामाग्री शुरुवात में ही बिक गए। आयोजन में बच्चे बहुत खुश नजर आ रहे थे। आनंद मेले के सफल आयोजन पर शाला प्रबंध समिति के अध्यक्ष इंजीनियर लक्ष्मी कुमार गहवई ने बच्चों को बधाई दी है।

GiONews Team
Editor In Chief

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

बिलासपुर – शा.उ.मा.वि. सेमरताल में आज आनंद मेला का आयोजन किया गया है। मेला में कक्षा पहली से लेकर कक्षा बारहवी तक के विघार्थियों भाग लिया। मेले में छत्तीसगढ़ी व्यंजनों के साथ ही अलग अलग राज्यों के प्रसिद्ध भोज्य सामाग्रियों के स्टाल लगाए गए। संकुल प्राचार्य सुनीता शुक्ला ने फीता काटकर मेला का शुभारंभ किया। मेले के प्रारंभ में शा. कन्या पूर्व मा. शाला के प्रधान पाठक रामकुमार मानिकपुरी, बालक शाला के प्रधान पाठक बलराम पटेल, शा. प्रा. शाला के प्रधान पाठक धन्नुलाल बरगाह, संकुल समन्वयक ओमप्रकाश वर्मा और आनंद मेला के संयोजक अनिल कुमार वर्मा बच्चों को बधाई दी। प्राथमिक शाला व कन्या पूर्व माध्यमिक विघालय की विघार्थियों ने छत्तीसगढ़ी खाघ सामाग्रियों का स्टाल लगाया, जिसमें बरा, बोबरा, चीला, भजिया, देहरौरी, हलुआ, खीर, पूरी, चना चर्पटी, रसगुल्ला सहित छत्तीस प्रकार के पकवानों की प्रदर्शनी लगाई गई। वही नवमी से बारहवी तक के बच्चों ने गरमागरम पूड़ी सब्जी, फरा, गुपचुप, ढोकला, चाट, मोमोज, मुर्रा लाडु, समोसा, मिर्ची भजिया, बीही, पुलाव व कई क्षेत्रीय पकवान बनाए थे। आनंद मेले में बच्चों सहित संकुल के सभी शिक्षक शिक्षिकाओं ने जमकर खरीदारी की। वृहद स्तर पर होने वाले इस मेले में मनोरंजन के लिए निशानेबाजी, किस्मत आजमाओं, करेंट रिंग, रिेग फेकों ईनाम जीतो आदि खेल कराया गया। मेले में छोटे बच्चांे ने मनमोहक लोक नृत्य प्रस्तुत किया। आनंद मेला में ग्राम गतौरी, बरपाली, जलसो, सेमरताल, नहरीभाठा के बच्चे अपने छोटे भाई बहनों के साथ भाग लिए थे। उच्चतर माध्यमिक शाला की ओर से 24 स्टाल, कन्या पूर्व शाला से 12 स्टाल, बालक पूर्व से 6 स्टाल और प्राथमिक शाला के द्वारा 10 स्टाल लगाए गए थे। आनंद मेला में बच्चों ने पाँच हजार की बिक्री की। 12 बजे से शुरु हुए मेले की अधिकांश सामाग्री शुरुवात में ही बिक गए। आयोजन में बच्चे बहुत खुश नजर आ रहे थे। आनंद मेले के सफल आयोजन पर शाला प्रबंध समिति के अध्यक्ष इंजीनियर लक्ष्मी कुमार गहवईसेमरताल स्कूल के आनंद मेला में बच्चों ने छत्तीसों पकवानों के स्टाल लगाए
सेमरताल – शा.उ.मा.वि. सेमरताल में दिनांक 18 नवंबर को आनंद मेला का आयोजन किया गया है। मेला में कक्षा पहली से लेकर कक्षा बारहवी तक के विघार्थियों भाग लिया। मेले में छत्तीसगढ़ी व्यंजनों के साथ ही अलग अलग राज्यों के प्रसिद्ध भोज्य सामाग्रियों के स्टाल लगाए गए। संकुल प्राचार्य सुनीता शुक्ला ने फीता काटकर मेला का शुभारंभ किया। मेले के प्रारंभ में शा. कन्या पूर्व मा. शाला के प्रधान पाठक रामकुमार मानिकपुरी, बालक शाला के प्रधान पाठक बलराम पटेल, शा. प्रा. शाला के प्रधान पाठक धन्नुलाल बरगाह, संकुल समन्वयक ओमप्रकाश वर्मा और आनंद मेला के संयोजक अनिल कुमार वर्मा बच्चों को बधाई दी। प्राथमिक शाला व कन्या पूर्व माध्यमिक विघालय की विघार्थियों ने छत्तीसगढ़ी खाघ सामाग्रियों का स्टाल लगाया, जिसमें बरा, बोबरा, चीला, भजिया, देहरौरी, हलुआ, खीर, पूरी, चना चर्पटी, रसगुल्ला सहित छत्तीस प्रकार के पकवानों की प्रदर्शनी लगाई गई। वही नवमी से बारहवी तक के बच्चों ने गरमागरम पूड़ी सब्जी, फरा, गुपचुप, ढोकला, चाट, मोमोज, मुर्रा लाडु, समोसा, मिर्ची भजिया, बीही, पुलाव व कई क्षेत्रीय पकवान बनाए थे। आनंद मेले में बच्चों सहित संकुल के सभी शिक्षक शिक्षिकाओं ने जमकर खरीदारी की। वृहद स्तर पर होने वाले इस मेले में मनोरंजन के लिए निशानेबाजी, किस्मत आजमाओं, करेंट रिंग, रिेग फेकों ईनाम जीतो आदि खेल कराया गया। मेले में छोटे बच्चांे ने मनमोहक लोक नृत्य प्रस्तुत किया। आनंद मेला में ग्राम गतौरी, बरपाली, जलसो, सेमरताल, नहरीभाठा के बच्चे अपने छोटे भाई बहनों के साथ भाग लिए थे। उच्चतर माध्यमिक शाला की ओर से 24 स्टाल, कन्या पूर्व शाला से 12 स्टाल, बालक पूर्व से 6 स्टाल और प्राथमिक शाला के द्वारा 10 स्टाल लगाए गए थे। आनंद मेला में बच्चों ने पाँच हजार की बिक्री की। 12 बजे से शुरु हुए मेले की अधिकांश सामाग्री शुरुवात में ही बिक गए। आयोजन में बच्चे बहुत खुश नजर आ रहे थे। आनंद मेले के सफल आयोजन पर शाला प्रबंध समिति के अध्यक्ष इंजीनियर लक्ष्मी कुमार गहवई ने बच्चों को बधाई दी है।