Tuesday, September 27, 2022

चिन्मयानंद बापू बोले- सभी धर्म समान.. हम अगर  किसी की मस्जिद में अजान को सुनने बाध्य हो रहे हैं.. तो फिर उन्हें भी हमारी हनुमान चालीसा सुनने बाध्य होना चाहिए…

बिलासपुर– महाराष्ट्र में हनुमान चालीसा को लेकर मचे बवाल को लेकर चिन्मयानंद बापू ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है, कि हम अगर  किसी की मस्जिद में अजान को सुनने बाध्य हो रहे हैं, तो फिर उन्हें भी हमारी हनुमान चालीसा सुनने बाध्य होना चाहिए, या तो सभी जगह से साउंड हटा दिए जाएं या फिर सभी जगह साउंड लगाने की अनुमति दी जाए।

बता दें, कि सीएमडी कॉलेज ग्राउंड में भागवत कथा करने चिन्मयानंद बापू इन दिनों बिलासपुर आये हुए हैं। उन्होंने मीडिया से चर्चा कर हुए कई अहम मुद्दों पर अपनी बात रखी। महाराष्ट्र में हनुमान चालीसा विवाद पर चिन्मयानंद ने कहा, कि अगर हम किसी की मस्जिद में अजान को सुनने बाध्य हो रहे हैं, तो फिर उन्हें भी हमारी हनुमान चालीसा सुनने बाध्य होना चाहिए, उन्हें हनुमान चालीसा पाठ का स्वागत करना चाहिए.. या तो सभी जगह से साउंड हटा दिए जाएं, या फिर सभी जगह साउंड लगाने की अनुमति दी जाए। ये अच्छी बात है, कि अपने धर्म को लेकर लोगों में जागरूकता आ रही है।

उन्होंने आगे कहा, कि धर्म मे राजनीति नहीं होनी चाहिए, लेकिन राजनीति में धर्म अनिवार्य है। धर्म की जागृति या जन जागरण के लिए सत्ता का प्रवेश राजनीति में होता है, तो उसका स्वागत होना चाहिए। महिलाओं के भागवत कथा करने को लेकर विवाद पर उन्होंने कहा, कि स्त्री पुरुष में कोई भेद नहीं है, धर्म को जानने वाली स्त्री भागवत कथा करती है, तो इस पर कोई टिप्पणी नहीं करनी चाहिए। 

GiONews Team
Editor In Chief

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

बिलासपुर– महाराष्ट्र में हनुमान चालीसा को लेकर मचे बवाल को लेकर चिन्मयानंद बापू ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है, कि हम अगर  किसी की मस्जिद में अजान को सुनने बाध्य हो रहे हैं, तो फिर उन्हें भी हमारी हनुमान चालीसा सुनने बाध्य होना चाहिए, या तो सभी जगह से साउंड हटा दिए जाएं या फिर सभी जगह साउंड लगाने की अनुमति दी जाए।

बता दें, कि सीएमडी कॉलेज ग्राउंड में भागवत कथा करने चिन्मयानंद बापू इन दिनों बिलासपुर आये हुए हैं। उन्होंने मीडिया से चर्चा कर हुए कई अहम मुद्दों पर अपनी बात रखी। महाराष्ट्र में हनुमान चालीसा विवाद पर चिन्मयानंद ने कहा, कि अगर हम किसी की मस्जिद में अजान को सुनने बाध्य हो रहे हैं, तो फिर उन्हें भी हमारी हनुमान चालीसा सुनने बाध्य होना चाहिए, उन्हें हनुमान चालीसा पाठ का स्वागत करना चाहिए.. या तो सभी जगह से साउंड हटा दिए जाएं, या फिर सभी जगह साउंड लगाने की अनुमति दी जाए। ये अच्छी बात है, कि अपने धर्म को लेकर लोगों में जागरूकता आ रही है।

उन्होंने आगे कहा, कि धर्म मे राजनीति नहीं होनी चाहिए, लेकिन राजनीति में धर्म अनिवार्य है। धर्म की जागृति या जन जागरण के लिए सत्ता का प्रवेश राजनीति में होता है, तो उसका स्वागत होना चाहिए। महिलाओं के भागवत कथा करने को लेकर विवाद पर उन्होंने कहा, कि स्त्री पुरुष में कोई भेद नहीं है, धर्म को जानने वाली स्त्री भागवत कथा करती है, तो इस पर कोई टिप्पणी नहीं करनी चाहिए।