Tuesday, September 27, 2022

किसान समृद्धि मेले के समापन में शामिल हुए सीएम भूपेश.. अधिकारियों से कहा- दूसरी फसलों के लिए किसानों को आसानी से मिले ऋण.. देखिए वीडियो..

बिलासपुर– राज्य स्तरीय कृषि समृद्धि मेले के समापन में पहुंचे सीएम भूपेश बघेल ने विपक्ष पर निशाना साधा कहा, 15 साल भाजपा ने किसानों के लिए कुछ नहीं किया, कुछ नहीं सोचा। सबसे ज्यादा किसानों ने आत्महत्या की, भूख से मरे। हमारी सरकार में किसानों के सिर से ऋण का बोझ उतरा। उन्होंने मंच से अधिकारियों को चेताया, कि दूसरी फसलों के लिए किसानों को आसानी से ऋण मिलना चाहिए।

कृषि मेले के समापन में मुख्यमंत्री ने अपने उद्बोधन में कहा, रिकवरी की चिंता न कर दूसरे फसल के लिए भी लोन आसानी से मिले इसे सुनिश्चित किया जाना चाहिए। प्रदेश के सभी कलेक्टर इस बात को ध्यान दें, दूसरे फसल के लिए भी किसानों को सुविधापूर्वक ऋण मिले।

प्रदेश में 23 हजार प्रकार के धान का उपज होता है। हार्टिकल्चर की दिशा में काम करने की ज्यादा आवश्यकता है। बिलासपुर की उर्वरक जमीन, मेहनतकश किसान,पानी की उपलब्धता को देखते हुए हमे आगे बढ़ना है। किसान मेले से किसान उन्नत कृषि की तरफ बढ़ेंगे, लाभान्वित होंगे। वर्मी कंपोस्ट किसान ज्यादा से ज्यादा बनाएं। हर क्षेत्र में छग समृद्ध हो। गौठानो को भी मजबूत करने की जरूरत है। सरकारी योजना के भरोसे योजना को नहीं चलाना है, ग्रामीणों को इससे जुड़ना है। इसके लिए प्रयास किया जाना चाहिए। पशुधन में ध्यान देंगे तो दूध उत्पादन भी बढ़ेगा। बाहर से दूध न मंगाना पड़े, किसानों को इसे चुनौती के रूप में लेकर प्रयास करना चाहिए। ज्यादा से ज्यादा जिस क्षेत्र में जिसका उत्पादन हो रहा है, उसका प्रोसेसिंग प्लांट लगे। सब्सीडी दिया जाए। फूड प्रोसेसिंग प्लांट लगाने की दिशा में आगे बढ़ें।

सीएम बघेल ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा, 15 साल भाजपा ने किसानों के लिए कुछ नहीं किया, कुछ नहीं सोचा। सबसे ज्यादा किसानों ने आत्महत्या की, भूख से मरे। हमारी सरकार में किसानों के सिर से ऋण का बोझ उतरा। तीन साल में किसान,मजदूर, आदिवासी, गौ पालक सबके जेब में पैसा गया। सबसे बड़ा असर छग में मंदी का असर नहीं है।

वही कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने कहा, कि 15 साल निकल गया, पिछली सरकार ने किसानों के लिए कुछ नहीं किया, देश के पीएम बनारस से जीतकर जाते हैं, योगी यूपी में सरकार बनाते हैं, लेकिन वहां किसानों को धान का कीमत 1 हजार रुपए भी नहीं मिल रहा, ये देश का दुर्भाग्य है। यहां समर्थन मूल्य बढ़ा, तो अगले साल धान का कीमत 2800 रुपए मिलेगा।

तीन दिवसीय राज्य स्तरीय किसान समृद्धि मेले के समापन में सीएम भूपेश बघेल समेत मंत्री रविंद्र चौबे, मंत्री जयसिंह अग्रवाल, संसदीय सचिव शकुंतला साहू, महंत रामसुंदर दास, अपेक्स बैंक के चेयरमैन बैजनाथ चंद्राकर, पर्यटन बोर्ड अध्यक्ष अटल श्रीवास्तव, विधायक सहित अन्य जनप्रतिनिधि मंच में मौजूद रहे।

GiONews Team
Editor In Chief

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

बिलासपुर– राज्य स्तरीय कृषि समृद्धि मेले के समापन में पहुंचे सीएम भूपेश बघेल ने विपक्ष पर निशाना साधा कहा, 15 साल भाजपा ने किसानों के लिए कुछ नहीं किया, कुछ नहीं सोचा। सबसे ज्यादा किसानों ने आत्महत्या की, भूख से मरे। हमारी सरकार में किसानों के सिर से ऋण का बोझ उतरा। उन्होंने मंच से अधिकारियों को चेताया, कि दूसरी फसलों के लिए किसानों को आसानी से ऋण मिलना चाहिए।

कृषि मेले के समापन में मुख्यमंत्री ने अपने उद्बोधन में कहा, रिकवरी की चिंता न कर दूसरे फसल के लिए भी लोन आसानी से मिले इसे सुनिश्चित किया जाना चाहिए। प्रदेश के सभी कलेक्टर इस बात को ध्यान दें, दूसरे फसल के लिए भी किसानों को सुविधापूर्वक ऋण मिले।

प्रदेश में 23 हजार प्रकार के धान का उपज होता है। हार्टिकल्चर की दिशा में काम करने की ज्यादा आवश्यकता है। बिलासपुर की उर्वरक जमीन, मेहनतकश किसान,पानी की उपलब्धता को देखते हुए हमे आगे बढ़ना है। किसान मेले से किसान उन्नत कृषि की तरफ बढ़ेंगे, लाभान्वित होंगे। वर्मी कंपोस्ट किसान ज्यादा से ज्यादा बनाएं। हर क्षेत्र में छग समृद्ध हो। गौठानो को भी मजबूत करने की जरूरत है। सरकारी योजना के भरोसे योजना को नहीं चलाना है, ग्रामीणों को इससे जुड़ना है। इसके लिए प्रयास किया जाना चाहिए। पशुधन में ध्यान देंगे तो दूध उत्पादन भी बढ़ेगा। बाहर से दूध न मंगाना पड़े, किसानों को इसे चुनौती के रूप में लेकर प्रयास करना चाहिए। ज्यादा से ज्यादा जिस क्षेत्र में जिसका उत्पादन हो रहा है, उसका प्रोसेसिंग प्लांट लगे। सब्सीडी दिया जाए। फूड प्रोसेसिंग प्लांट लगाने की दिशा में आगे बढ़ें।

सीएम बघेल ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा, 15 साल भाजपा ने किसानों के लिए कुछ नहीं किया, कुछ नहीं सोचा। सबसे ज्यादा किसानों ने आत्महत्या की, भूख से मरे। हमारी सरकार में किसानों के सिर से ऋण का बोझ उतरा। तीन साल में किसान,मजदूर, आदिवासी, गौ पालक सबके जेब में पैसा गया। सबसे बड़ा असर छग में मंदी का असर नहीं है।

वही कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने कहा, कि 15 साल निकल गया, पिछली सरकार ने किसानों के लिए कुछ नहीं किया, देश के पीएम बनारस से जीतकर जाते हैं, योगी यूपी में सरकार बनाते हैं, लेकिन वहां किसानों को धान का कीमत 1 हजार रुपए भी नहीं मिल रहा, ये देश का दुर्भाग्य है। यहां समर्थन मूल्य बढ़ा, तो अगले साल धान का कीमत 2800 रुपए मिलेगा।

तीन दिवसीय राज्य स्तरीय किसान समृद्धि मेले के समापन में सीएम भूपेश बघेल समेत मंत्री रविंद्र चौबे, मंत्री जयसिंह अग्रवाल, संसदीय सचिव शकुंतला साहू, महंत रामसुंदर दास, अपेक्स बैंक के चेयरमैन बैजनाथ चंद्राकर, पर्यटन बोर्ड अध्यक्ष अटल श्रीवास्तव, विधायक सहित अन्य जनप्रतिनिधि मंच में मौजूद रहे।