Thursday, October 6, 2022

देश के 4 राज्यों में बाढ़ जैसे हालात…. छत्तीसगढ़ सहित इन जगहों पर तेज हवाओं के साथ होगी बारिश…

छत्तीसगढ़। देश के चार राज्यों में बाढ़ जैसे हालात हैं. कहीं पर बांध टूटने से तो कहीं पर भारी बारिश से रिहायशी इलाकों में पानी घुस गया है. इसकी वजह से लाखों लोगों पर असर पड़ा है. छत्तीसगढ़ के धमतरी में बांध टूटने से कई गांवों में पानी घुस गया है. वहीं, गुजरात के सूरत में बाढ़ जैसे हालात हैं तो ओडिशा में पिछले दिनों से हो रही भारी बारिश से बाढ़ आ गई है. एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीम लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने का काम कर रही है. मध्य प्रदेश के कई इलाकों में भी बाढ़ जैसे हालात हैं. मौसम विभाग के अनुसार, आज ओडिशा, बंगाल, झारखंड, विदर्भ में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश होने की उम्मीद है. बारिश का यह सिलसिला 21 अगस्त तक चलेगा.

क्षेत्रिय मौसम विभाग के अनुसार, छत्तीसगढ़ में आज बारिश होगी लेकिन 20 अगस्त से भारी बारिश होने की उम्मीद है. मौसम विभाग के मुताबिक 20-22 अगस्त तक प्रदेश के ज्यादातर हिस्सों में अच्छी बारिश की संभावना है. बस्तर, रायपुर, बिलासपुर और दुर्ग संभाग के कई हिस्सों में भारी बारिश की संभावना है. मध्य प्रदेश में फिलहाल बारिश पर ब्रेक लग गया है लेकिन कुछ इलाकों में छिटपुट बारिश की संभावना है. शहडोल, रीवा, जबलपुर संभाग के जिलों में गरज चमक के साथ बौछार पड़ने की उम्मीद है. मौसम विभाग ने उज्जैन, नर्मदापुरम, भोपाल, चंबल, ग्वालियर संभाग में कहीं-कहीं बौछार पड़ने का अलर्ट जारी किया है. प्रदेश में 20-21 अगस्त को मौसम करवट लेगा और तेज बारिश हो सकती है.

ओडिशा के 12 जिले बाढ़ से प्रभावित……

ओडिशा के 12 जिले बाढ़ से प्रभावित हैं. लुना ,चित्राटोला एवं पैका नदियों के बीच महानदी घाटी क्षेत्र, जगतिसिंहपुर जिले में कुजंग एवं नौगांव, तथा पुरी में गोप, निमपारा, अष्टरंग, डेलांग, पिपली और कनास क्षेत्रों में पानी घुस गया है, खुर्दा, पुरी, कटक, केंद्रपाड़ा, जगतिसिंहपुर, संबलपुर, बारगढ़, सोनेपुर, बौध और आंगुल जिलों के बाढ़ के कहर से लोगों को अपना घर छोड़ना पड़ा है. बाढ़ से सबसे ज्यादा प्रभावित जिले आंगुल, बारगढ़, बौद्ध, कटक, जगतिसिंहपुर, जाजपुर, केंद्रपारा, खुर्दा, नयागढ़, पुरी ,संबलपुर और सुबर्णपुर हैं. मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने बृहस्पतिवार को राज्य के बाढ़ प्रभावित 12 जिलों का हवाई सर्वेक्षण किया और अगले 15 दिनों के लिए पीड़ितों के लिए (खाद्य) राहत की घोषणा की है.भुवनेश्वर मौसम विज्ञान केंद्र ने बताया कि आज प्रदेश में मूसलाधार बारिश होने का अनुमान है. शुक्रवार की सुबह उत्तरी खाड़ी के ऊपर बने कम दबाव के क्षेत्र के मजबूत होने और इसके गंगीय पश्चिम बंगाल, उत्तरी ओडिशा, छत्तीसगढ़ और झारखंड में उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने का अनुमान है.

GiONews Team
Editor In Chief

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

छत्तीसगढ़। देश के चार राज्यों में बाढ़ जैसे हालात हैं. कहीं पर बांध टूटने से तो कहीं पर भारी बारिश से रिहायशी इलाकों में पानी घुस गया है. इसकी वजह से लाखों लोगों पर असर पड़ा है. छत्तीसगढ़ के धमतरी में बांध टूटने से कई गांवों में पानी घुस गया है. वहीं, गुजरात के सूरत में बाढ़ जैसे हालात हैं तो ओडिशा में पिछले दिनों से हो रही भारी बारिश से बाढ़ आ गई है. एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीम लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने का काम कर रही है. मध्य प्रदेश के कई इलाकों में भी बाढ़ जैसे हालात हैं. मौसम विभाग के अनुसार, आज ओडिशा, बंगाल, झारखंड, विदर्भ में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश होने की उम्मीद है. बारिश का यह सिलसिला 21 अगस्त तक चलेगा.

क्षेत्रिय मौसम विभाग के अनुसार, छत्तीसगढ़ में आज बारिश होगी लेकिन 20 अगस्त से भारी बारिश होने की उम्मीद है. मौसम विभाग के मुताबिक 20-22 अगस्त तक प्रदेश के ज्यादातर हिस्सों में अच्छी बारिश की संभावना है. बस्तर, रायपुर, बिलासपुर और दुर्ग संभाग के कई हिस्सों में भारी बारिश की संभावना है. मध्य प्रदेश में फिलहाल बारिश पर ब्रेक लग गया है लेकिन कुछ इलाकों में छिटपुट बारिश की संभावना है. शहडोल, रीवा, जबलपुर संभाग के जिलों में गरज चमक के साथ बौछार पड़ने की उम्मीद है. मौसम विभाग ने उज्जैन, नर्मदापुरम, भोपाल, चंबल, ग्वालियर संभाग में कहीं-कहीं बौछार पड़ने का अलर्ट जारी किया है. प्रदेश में 20-21 अगस्त को मौसम करवट लेगा और तेज बारिश हो सकती है.

ओडिशा के 12 जिले बाढ़ से प्रभावित……

ओडिशा के 12 जिले बाढ़ से प्रभावित हैं. लुना ,चित्राटोला एवं पैका नदियों के बीच महानदी घाटी क्षेत्र, जगतिसिंहपुर जिले में कुजंग एवं नौगांव, तथा पुरी में गोप, निमपारा, अष्टरंग, डेलांग, पिपली और कनास क्षेत्रों में पानी घुस गया है, खुर्दा, पुरी, कटक, केंद्रपाड़ा, जगतिसिंहपुर, संबलपुर, बारगढ़, सोनेपुर, बौध और आंगुल जिलों के बाढ़ के कहर से लोगों को अपना घर छोड़ना पड़ा है. बाढ़ से सबसे ज्यादा प्रभावित जिले आंगुल, बारगढ़, बौद्ध, कटक, जगतिसिंहपुर, जाजपुर, केंद्रपारा, खुर्दा, नयागढ़, पुरी ,संबलपुर और सुबर्णपुर हैं. मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने बृहस्पतिवार को राज्य के बाढ़ प्रभावित 12 जिलों का हवाई सर्वेक्षण किया और अगले 15 दिनों के लिए पीड़ितों के लिए (खाद्य) राहत की घोषणा की है.भुवनेश्वर मौसम विज्ञान केंद्र ने बताया कि आज प्रदेश में मूसलाधार बारिश होने का अनुमान है. शुक्रवार की सुबह उत्तरी खाड़ी के ऊपर बने कम दबाव के क्षेत्र के मजबूत होने और इसके गंगीय पश्चिम बंगाल, उत्तरी ओडिशा, छत्तीसगढ़ और झारखंड में उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने का अनुमान है.