Monday, September 26, 2022

गैंगस्टर का भाई कुख्यात बदमाश किट्टू गिरफ्तार….बड़े भाई की मौत का बदला लेने दुसरे गैंग के लीडर और दो पुलिसकर्मियों को गोलियों से भूना था।

छत्तीसगढ़। कोटा पुलिस ने गैंगस्टर व दो पुलिसकर्मियों हत्या में शामिल बदमाश नरेंद्र सिंह उर्फ किट्टू (42) को गिरफ्तार किया है। जिसने अपने अपने भाई बृजराज की मौत का बदला लेने के लिए गैंगस्टर भानू प्रताप सिंह को गोलियों से भूनकर मार डाला था। साथ में दो पुलिसकर्मी की मौत हो गई थी। चार पुलिसकर्मी घायल हो गए थे। जो पिछले 11 साल से फरार था। आरोपी की गिरफ्तारी पर पुलिस मुख्यालय द्वारा 10 हजार और कोटा पुलिस की ओर से 5 हजार का इनाम घोषित कर रख था। नरेंद्र कोटा व उदयपुर रेंज के वांटेड था। डीएसटी साइबर सेल व कमांडो की टीम ने आरोपी को जाजगीर चांपा छत्तीसगढ़ से पकड़ा। नरेंद्र सिंह, गैंगस्टर शिवराज सिंह का छोटा भाई है।

हत्या के मामले में फरार होने के बाद से नरेंद्र सिंह दिल्ली में अंकित नाम से रह रहा था। बार-बार ठिकाने बदल रहा था। पुलिस को जांच के दौरान दिल्ली के संगम विहार स्लम एरिया में फरारी काटने की जानकारी मिली। पुलिस की भनक लगते ही आरोपी नरेंद्र दिल्ली से एमपी की तरफ भाग गया। इसके बाद उसके पीछे कमांडों की एक टीम को रवाना किया। टीम ने शिवपुरी, झांसी, सतना और जबलपुर क्षेत्रो से जानकारों हासिल की। जहां से छत्तीसगढ़ में होने की जानकारी मिली। फिर अकलतरा जिला जाजगीर चोंपा छत्तीसगढ़ से नरेंद्र को गिरफ्तार किया। टीम ने बदमाश को पकड़ने के लिए 3 दिन में 3 हजार किलोमीटर का सफर किया। इसके बाद सोमवार को गिरफ्तार किया गया।

वर्चस्व की लड़ाई में हुई थी गैंगवार……
साल 2007-08 के आसपास हाड़ौती के कुख्यात गैंगस्टर भानु प्रताप सिंह का गिरोह दो गुटों में बट गया था। इसमें से एक गुट भानु प्रताप और दूसरे गुट लाला बैरागी चला रहा था। वर्चस्व की लड़ाई में भानु प्रताप ने अपने साथी के साथ मिलकर 12 दिसंबर 2008 को गैंगस्टर लाला बैरागी पर हमला किया था। उद्योग नगर क्षेत्र के राजनगर तिराहे पर लाला बैरागी को सरेआम गोलियों से भूनकर और तलवार से काट कर हत्या कर दी थी। हत्याकांड में 40 से ज्यादा फायर हुए थे।

इन्होंने दिया था वारदात को अंजाम……

नरेंद्र सिंह उर्फ किट्टू के भाई शिवराज सिंह हाडा और साथी सूरज सिंह, गिरिराज सिंह, मोंटी तोमर, हरेंद्र सिंह, अज्जू,उर्फ अजय उर्फ बिंद्रा फौजी, अल्लू उर्फ अरविंद सिंह ने मिलकर कोर्ट में फायरिंग की थी।मामले में सभी आरोपी गिरफ्तार हो चुके थे। नरेंद्र सिंह उर्फ किट्टू फरार चल रहा था।

GiONews Team
Editor In Chief

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

छत्तीसगढ़। कोटा पुलिस ने गैंगस्टर व दो पुलिसकर्मियों हत्या में शामिल बदमाश नरेंद्र सिंह उर्फ किट्टू (42) को गिरफ्तार किया है। जिसने अपने अपने भाई बृजराज की मौत का बदला लेने के लिए गैंगस्टर भानू प्रताप सिंह को गोलियों से भूनकर मार डाला था। साथ में दो पुलिसकर्मी की मौत हो गई थी। चार पुलिसकर्मी घायल हो गए थे। जो पिछले 11 साल से फरार था। आरोपी की गिरफ्तारी पर पुलिस मुख्यालय द्वारा 10 हजार और कोटा पुलिस की ओर से 5 हजार का इनाम घोषित कर रख था। नरेंद्र कोटा व उदयपुर रेंज के वांटेड था। डीएसटी साइबर सेल व कमांडो की टीम ने आरोपी को जाजगीर चांपा छत्तीसगढ़ से पकड़ा। नरेंद्र सिंह, गैंगस्टर शिवराज सिंह का छोटा भाई है।

हत्या के मामले में फरार होने के बाद से नरेंद्र सिंह दिल्ली में अंकित नाम से रह रहा था। बार-बार ठिकाने बदल रहा था। पुलिस को जांच के दौरान दिल्ली के संगम विहार स्लम एरिया में फरारी काटने की जानकारी मिली। पुलिस की भनक लगते ही आरोपी नरेंद्र दिल्ली से एमपी की तरफ भाग गया। इसके बाद उसके पीछे कमांडों की एक टीम को रवाना किया। टीम ने शिवपुरी, झांसी, सतना और जबलपुर क्षेत्रो से जानकारों हासिल की। जहां से छत्तीसगढ़ में होने की जानकारी मिली। फिर अकलतरा जिला जाजगीर चोंपा छत्तीसगढ़ से नरेंद्र को गिरफ्तार किया। टीम ने बदमाश को पकड़ने के लिए 3 दिन में 3 हजार किलोमीटर का सफर किया। इसके बाद सोमवार को गिरफ्तार किया गया।

वर्चस्व की लड़ाई में हुई थी गैंगवार……
साल 2007-08 के आसपास हाड़ौती के कुख्यात गैंगस्टर भानु प्रताप सिंह का गिरोह दो गुटों में बट गया था। इसमें से एक गुट भानु प्रताप और दूसरे गुट लाला बैरागी चला रहा था। वर्चस्व की लड़ाई में भानु प्रताप ने अपने साथी के साथ मिलकर 12 दिसंबर 2008 को गैंगस्टर लाला बैरागी पर हमला किया था। उद्योग नगर क्षेत्र के राजनगर तिराहे पर लाला बैरागी को सरेआम गोलियों से भूनकर और तलवार से काट कर हत्या कर दी थी। हत्याकांड में 40 से ज्यादा फायर हुए थे।

इन्होंने दिया था वारदात को अंजाम……

नरेंद्र सिंह उर्फ किट्टू के भाई शिवराज सिंह हाडा और साथी सूरज सिंह, गिरिराज सिंह, मोंटी तोमर, हरेंद्र सिंह, अज्जू,उर्फ अजय उर्फ बिंद्रा फौजी, अल्लू उर्फ अरविंद सिंह ने मिलकर कोर्ट में फायरिंग की थी।मामले में सभी आरोपी गिरफ्तार हो चुके थे। नरेंद्र सिंह उर्फ किट्टू फरार चल रहा था।