Tuesday, September 27, 2022

केंद्र सरकार के द्वारा जूते- चप्पल पर जीएसटी दर में वृद्धि, विरोध में व्यापारियों ने नगर विधायक को ज्ञापन सौंपा..

बिलासपुर – केंद्र सरकार की ओर से जूते- चप्पल पर जीएसटी दर में वृद्धि की गई है। इसका व्यापारी वर्ग की ओर से हर जगह लगातार विरोध किया जा रहा है। इसी कड़ी में बिलासपुर शहर में भी बिलासपुर होलसेल शू चेंबर, बिलासपुर फुटवियर निर्माता संघ, और बिलासपुर चिल्हर फुटवियर विक्रेता संघ ने नगर विधायक शैलेष पाण्डेय को ज्ञापन सौंपा। साथ ही केन्द्र सरकार द्वारा जूते- चप्पलों पर जीएसटी में दर वृद्धि को गलत व निराधार बताया।

नगर विधायक शैलेष पाण्डेय ने कहा मोदी जी टैक्स प्रेमी है देश की जनता पहले ही पेट्रोल डीजल रसोई गैस की महंगाई से परेशान है और अब जीएसटी वृद्धि दर से समस्त फूट वीयर व्यापारी नाराज व केन्द्रीय वित्त मंत्रालय द्वारा पारित आदेश से दुखी हैं। उन्होंने बताया कि 1000 तक के जूते- चप्पल का उपयोग विद्यार्थी, ग्रामीण के साथ ही निम्न व मध्यम श्रेणी के लोग करते हैं। जीएसटी दर बढ़ने से इसका सीधा असर देश की गरीब जनता पर पड़ेेगा। साथ ही थोक व चिल्हर व्यापारियों को भी नुकसान झेलना पड़ेेगा। केंद्र सरकार को इस आदेश को वापस लेना चाहिए।

ज्ञापन देने के दौरान चेयर पर्सन रमेश कुमार गंगवानी, अध्यक्ष प्रभाकर मोटवानी, सचिव शिवकुमार गंगवानी, इंद्र गुरबानी, श्रीचंद दयालानी, मनीष मोटवानी, पप्पी मखीजा सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।

GiONews Team
Editor In Chief

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

बिलासपुर – केंद्र सरकार की ओर से जूते- चप्पल पर जीएसटी दर में वृद्धि की गई है। इसका व्यापारी वर्ग की ओर से हर जगह लगातार विरोध किया जा रहा है। इसी कड़ी में बिलासपुर शहर में भी बिलासपुर होलसेल शू चेंबर, बिलासपुर फुटवियर निर्माता संघ, और बिलासपुर चिल्हर फुटवियर विक्रेता संघ ने नगर विधायक शैलेष पाण्डेय को ज्ञापन सौंपा। साथ ही केन्द्र सरकार द्वारा जूते- चप्पलों पर जीएसटी में दर वृद्धि को गलत व निराधार बताया।

नगर विधायक शैलेष पाण्डेय ने कहा मोदी जी टैक्स प्रेमी है देश की जनता पहले ही पेट्रोल डीजल रसोई गैस की महंगाई से परेशान है और अब जीएसटी वृद्धि दर से समस्त फूट वीयर व्यापारी नाराज व केन्द्रीय वित्त मंत्रालय द्वारा पारित आदेश से दुखी हैं। उन्होंने बताया कि 1000 तक के जूते- चप्पल का उपयोग विद्यार्थी, ग्रामीण के साथ ही निम्न व मध्यम श्रेणी के लोग करते हैं। जीएसटी दर बढ़ने से इसका सीधा असर देश की गरीब जनता पर पड़ेेगा। साथ ही थोक व चिल्हर व्यापारियों को भी नुकसान झेलना पड़ेेगा। केंद्र सरकार को इस आदेश को वापस लेना चाहिए।

ज्ञापन देने के दौरान चेयर पर्सन रमेश कुमार गंगवानी, अध्यक्ष प्रभाकर मोटवानी, सचिव शिवकुमार गंगवानी, इंद्र गुरबानी, श्रीचंद दयालानी, मनीष मोटवानी, पप्पी मखीजा सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।