Wednesday, October 5, 2022

बच्चे की किडनैपिंग हुई पर्दाफाश ….जीजा की चाहत पूरी करने के लिए साले ने रची अपहरण की साजिश…. 50 हजार में बच्चा को था बेचा…..

रायपुर। गायब हुए बच्चे को आखिरकार पुलिस ने ढूंढ निकाला। 3 साल के सुभाष सोनवानी को पुलिस ने देहरादून से बरामद किया है। इसे किडनैप करने वाले रायपुर में ही रहने वाले इरफान नाम के शख्स को भी गिरफ्तार किया गया है। इस मामले में इरफान के जीजा सलीम को भी पुलिस ने पकड़ा है और पूरी साजिश का खुलासा किया है।

एसएसपी प्रशांत अग्रवाल ने बताया कि 9 मार्च की रात राजेंद्र नगर के बूढी माई मंदिर के पास झोपड़ी के बाहर सोए हुए 3 साल के सुभाष को किडनैप किया गया था। वह अपनी मां के साथ बाहर ही सो रहा था तभी बाइक पर सवार होकर आए शख्स ने सुभाष को किडनैप कर लिया और फिर अपने साथ लेकर चला गया था। इस केस को सॉल्व करने के लिए एंटी क्राइम एंड साइबर यूनिट के साथ सिविल लाइन थाने की टीम तैयार की गई। जिसे अब कामयाबी मिली है।

बेटे की चाहत में किडनैपिंग……..

अपहरण कांड को रायपुर में ही रहने वाले इरफान नाम के शख्स ने अंजाम दिया था। इरफान के जीजा देहरादून में रहने वाले सलीम अहमद की 3 बेटियां थी। वह चाहता था कि उसे एक बेटा हो। सलीम की पत्नी से डॉक्टर ने कह दिया था कि मेडिकल दिक्कतों की वजह से वह अगले बच्चे को जन्म नहीं दे सकती, इसलिए सलीम ने अपने रिश्तेदारों को बताया कि अगर कोई उसे एक लड़का लाकर देगा तो वह मुंह मांगी कीमत देने को तैयार है। यह खबर सलीम के साले इरफान को भी लग गई उसने अपने जीजा से बात की और बच्चा लाकर देने का आश्वासन दिया।

इरफान ने तेलीबांधा में रहने वाले अपने दोस्त शेर खान के साथ मिलकर एक बच्चा किडनैप करने की प्लानिंग कर डाली। यह लोग राजेंद्र नगर और सिविल लाइन के अलग-अलग इलाकों में लगातार बच्चों की रेकी कर रहे थे। करीब 10 से 15 दिन की रेकी के बाद उन्होंने बूढ़ी माई मंदिर के पास हर रोज मां के साथ बाहर ही सोने वाले सुभाष को निशाना बनाया। बड़ी चालाकी से मौका पाकर 9 मार्च की रात वारदात को अंजाम दे डाला।

50 हजार में मासूम को बेचा……..

पुलिस के मुताबिक बच्चे का अपहरण करने के बाद इरफान ने उत्तराखंड जाने का टिकट बुक कर रखा था। वह अपनी पत्नी और बेटी के साथ उत्तराखंड के लिए रवाना भी हुआ और वहां उसने सलीम को 50 हजार में सुभाष को बेच दिया।

लगभग 1000 सीसीटीवी फुटेज की जांच…..

घटना की रात बूढ़ी माई मंदिर के पास लगे एक सीसीटीवी कैमरे में इरफान बच्चे को ले जाते हुए नजर आया था। इसके बाद अलग-अलग रास्तों पर पुलिस की टीम ने लगभग 1000 से अधिक सीसीटीवी फुटेज की जांच की। कुछ फुटेज में पुलिस को इरफान बच्चे को अपने साथ ले जाते हुए नजर आया। इरफान के बारे में पता करने पर यह भी जानकारी मिली कि रायपुर में ही चोरी के मामले में यह जेल भी जा चुका है। पुराना क्रिमिनल रिकॉर्ड होने की वजह से पुलिस अब इरफान को ट्रेस करने की जद्दोजहद में लग गई। रेलवे स्टेशन के फुटेज जांचे गए, टीम को यह पता चला कि आरोपी देहरादून भागा हुआ है।

दो-तीन दिनों तक रायपुर पुलिस की टीम देहरादून में ही रही और लोकल पुलिस को खबर किए बिना ही अपने ऑपरेशन को अंजाम दिया। देहरादून में टीम ने इरफान को ढूंढ निकाला और वही सलीम और बच्चा भी मिल गया। बच्चे को सही सलामत पुलिस रायपुर ला रही है। इरफान और उसके जीजा सलीम को इस मामले में गिरफ्तार किया गया है। इरफान का एक साथी शेर खान इस मामले में फरार है, जिसकी पतासाजी पुलिस कर रही है।

GiONews Team
Editor In Chief

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

रायपुर। गायब हुए बच्चे को आखिरकार पुलिस ने ढूंढ निकाला। 3 साल के सुभाष सोनवानी को पुलिस ने देहरादून से बरामद किया है। इसे किडनैप करने वाले रायपुर में ही रहने वाले इरफान नाम के शख्स को भी गिरफ्तार किया गया है। इस मामले में इरफान के जीजा सलीम को भी पुलिस ने पकड़ा है और पूरी साजिश का खुलासा किया है।

एसएसपी प्रशांत अग्रवाल ने बताया कि 9 मार्च की रात राजेंद्र नगर के बूढी माई मंदिर के पास झोपड़ी के बाहर सोए हुए 3 साल के सुभाष को किडनैप किया गया था। वह अपनी मां के साथ बाहर ही सो रहा था तभी बाइक पर सवार होकर आए शख्स ने सुभाष को किडनैप कर लिया और फिर अपने साथ लेकर चला गया था। इस केस को सॉल्व करने के लिए एंटी क्राइम एंड साइबर यूनिट के साथ सिविल लाइन थाने की टीम तैयार की गई। जिसे अब कामयाबी मिली है।

बेटे की चाहत में किडनैपिंग……..

अपहरण कांड को रायपुर में ही रहने वाले इरफान नाम के शख्स ने अंजाम दिया था। इरफान के जीजा देहरादून में रहने वाले सलीम अहमद की 3 बेटियां थी। वह चाहता था कि उसे एक बेटा हो। सलीम की पत्नी से डॉक्टर ने कह दिया था कि मेडिकल दिक्कतों की वजह से वह अगले बच्चे को जन्म नहीं दे सकती, इसलिए सलीम ने अपने रिश्तेदारों को बताया कि अगर कोई उसे एक लड़का लाकर देगा तो वह मुंह मांगी कीमत देने को तैयार है। यह खबर सलीम के साले इरफान को भी लग गई उसने अपने जीजा से बात की और बच्चा लाकर देने का आश्वासन दिया।

इरफान ने तेलीबांधा में रहने वाले अपने दोस्त शेर खान के साथ मिलकर एक बच्चा किडनैप करने की प्लानिंग कर डाली। यह लोग राजेंद्र नगर और सिविल लाइन के अलग-अलग इलाकों में लगातार बच्चों की रेकी कर रहे थे। करीब 10 से 15 दिन की रेकी के बाद उन्होंने बूढ़ी माई मंदिर के पास हर रोज मां के साथ बाहर ही सोने वाले सुभाष को निशाना बनाया। बड़ी चालाकी से मौका पाकर 9 मार्च की रात वारदात को अंजाम दे डाला।

50 हजार में मासूम को बेचा……..

पुलिस के मुताबिक बच्चे का अपहरण करने के बाद इरफान ने उत्तराखंड जाने का टिकट बुक कर रखा था। वह अपनी पत्नी और बेटी के साथ उत्तराखंड के लिए रवाना भी हुआ और वहां उसने सलीम को 50 हजार में सुभाष को बेच दिया।

लगभग 1000 सीसीटीवी फुटेज की जांच…..

घटना की रात बूढ़ी माई मंदिर के पास लगे एक सीसीटीवी कैमरे में इरफान बच्चे को ले जाते हुए नजर आया था। इसके बाद अलग-अलग रास्तों पर पुलिस की टीम ने लगभग 1000 से अधिक सीसीटीवी फुटेज की जांच की। कुछ फुटेज में पुलिस को इरफान बच्चे को अपने साथ ले जाते हुए नजर आया। इरफान के बारे में पता करने पर यह भी जानकारी मिली कि रायपुर में ही चोरी के मामले में यह जेल भी जा चुका है। पुराना क्रिमिनल रिकॉर्ड होने की वजह से पुलिस अब इरफान को ट्रेस करने की जद्दोजहद में लग गई। रेलवे स्टेशन के फुटेज जांचे गए, टीम को यह पता चला कि आरोपी देहरादून भागा हुआ है।

दो-तीन दिनों तक रायपुर पुलिस की टीम देहरादून में ही रही और लोकल पुलिस को खबर किए बिना ही अपने ऑपरेशन को अंजाम दिया। देहरादून में टीम ने इरफान को ढूंढ निकाला और वही सलीम और बच्चा भी मिल गया। बच्चे को सही सलामत पुलिस रायपुर ला रही है। इरफान और उसके जीजा सलीम को इस मामले में गिरफ्तार किया गया है। इरफान का एक साथी शेर खान इस मामले में फरार है, जिसकी पतासाजी पुलिस कर रही है।