Monday, September 26, 2022

किडनेपिंग…..जिस ट्रक से बिलासपुर आया था, वो पश्चिम बंगाल में पकड़ाया, ड्राइवर बोला- मैंने मार दिया…

बिलासपुर। बिलासपुर में गुजरात के एक ट्रांसपोर्टर को अगवा कर लिया गया। उसकी हत्या किए जाने की आशंका है। बिलासपुर पुलिस की सूचना के बाद पश्चिम बंगाल पुलिस ने इस मामले में मालदा से अपहरकर्ता ट्रक ड्राइवर को गिरफ्तार किया है। उसने ट्रांसपोर्टर की हत्या करने की बात स्वीकार की है। हालांकि पुलिस को उसकी कहानी पर भरोसा नहीं है। फिलहाल उससे पूछताछ जारी है। वहीं बिलासपुर पुलिस भी मालदा के लिए रवाना हो गई है। वारदात चकरभाठा थाना क्षेत्र की है।

आरोपी ट्रक चालक

जानकारी के मुताबिक, गुजरात में कच्छ के गडसिला निवासी अब्दुल रजाक ट्रांसपोर्टर हैं। वह पिछले दो-ढाई महीने से बिलासपुर के सिरगिट्‌टी स्थित गिरनार लॉजिस्टिक में कपड़े लेकर आ रहे थे। उनके साथ बेटा मो. अकरम (22) भी ट्रांसपोर्टिंग करता है। अकरम 8 अप्रैल को ट्रक लेकर माल खाली करने बिलासपुर आया था। यहां दोपहर 3 बजे वह पहुंचा और शाम 5 बजे तक ट्रक खाली किया। इसके बाद पिता अब्दुल ने उसे रात रास्ते में पेट्रोल पंप में रुक कर रात बिताने की बात कही और सुबह भाटापारा जाने के लिए बोला था।

अगले दिन 9 अप्रैल की सुबह करीब 6 बजे जब उन्होंने अकरम के मोबाइल पर कॉल किया तो वह स्विच ऑफ था। इसके बाद से लगातार बेटे से संपर्क करने का प्रयास करते रहे, लेकिन नहीं हो सका। इस पर उन्होंने अपने भाई और परिजन को इस घटना की जानकारी दी। फिर सभी अगले दिन 10 अप्रैल को बिलासपुर पहुंचे। इससे पहले ही रास्ते में उनके मोबाइल पर अलग-अलग जगह व दूसरे राज्य की लोकेशन पर फास्टैग से रुपए कटने का मैसेज आया। इस पर उन्हें अपहरण की आशंका हुई और पुलिस में शिकायत की।

भाटापारा से रायगढ़ और ओडिशा होते हुए पश्चिम बंगाल गया ट्रक

ट्रांसपोर्टर अब्दुल रज्जाक के मोबाइल पर आए मैसेज से पता चला कि ट्रक पहले भाटापारा के मोहदा में था, लेकिन फिर रायगढ़ की ओर नेशनल हाईवे से होता हुआ ओडिशा के टोल को क्रॉस करता पश्चिम बंगाल पहुंच गया है। इसके बाद पुलिस की अलग-अलग टीमों को लोकेशन के आधार पर सर्चिंग के लिए भेजा गया। पश्चिम बंगाल पुलिस से भी संपर्क किया। इसके बाद बुधवार को पश्चिम बंगाल की मालदा पुलिस ने ड्राइवर को पकड़ लिया। नाकाबंदी देख आरोपी ड्राइवर ट्रक को लॉक कर भागने की फिराक में था।

ड्राइवर बोला- मारकर राउरकेला के जंगल में फेंका
मालदा पुलिस की पूछताछ में आरोपी ड्राइवर पप्पू सरदार उर्फ सुरजीत सिंह ने मो. अकरम की हत्या कर राउरकेला और झारसुगड़ा के बीच जंगल में फेंकने की जानकारी दी है। वह पुलिस को गोलमोल जवाब भी दे रहा है। यही वजह है कि पुलिस उसकी बातों पर भरोसा नहीं कर रही है। आरोपी ट्रक ड्राइवर सुरजीत सिंह रायपुर का रहने वाला है। अब्दुल रजाक ने बताया कि दो माह पहले ही वह बिलासपुर में मिला था और मदद मांगी थी। उसका ड्राइविंग लाइसेंस देखकर काम पर रख लिया था। क्या पता था कि जिसकी मदद वह कर रहा है वह इस तरह से दगाबाजी करेगा।

नगर निगम के सभापति शेख नजीरुद्दीन ने की मदद
अब्दुल रजाक ने बताया कि बिलासपुर में उन्होंने नगर निगम के सभापति शेख नजीरुद्दीन से मदद मांगी, तब उन्हें लेकर वे SP पारुल माथुर के पास पहुंचे। उन्होंने चकरभाठा थाने में गुम इंसान दर्ज करने के निर्देश दिए। साथ ही फास्टेग मैसेज के आधार पर टोल प्लाजा में जांच के साथ ही और अन्य तकनीकी जानकारी जुटाकर तलाश शुरू कर दी।

SP बोलीं- ट्रक और ड्राइवर मिला है, अपहृत युवक की तलाश जारी
इधर, SP पारुल माथुर ने बताया कि इस घटना की सूचना के बाद से ट्रांसपोर्टर की तलाश की जा रही थी। उन्होंने खुद पश्चिमबंगाल पुलिस से संपर्क कर जानकारी दी थी। ट्रक के साथ आरोपी ड्राइवर मिल गया है। लेकिन, ट्रांसपोर्टर की जानकारी नहीं मिल पाई है। पकड़े गए ड्राइवर को लेने के लिए पुलिस पश्चिम बंगाल पहुंच गई। आरोपी ड्राइवर से पूछताछ के बाद अपहृत युवक की जानकारी मिल सकती है।

GiONews Team
Editor In Chief

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

बिलासपुर। बिलासपुर में गुजरात के एक ट्रांसपोर्टर को अगवा कर लिया गया। उसकी हत्या किए जाने की आशंका है। बिलासपुर पुलिस की सूचना के बाद पश्चिम बंगाल पुलिस ने इस मामले में मालदा से अपहरकर्ता ट्रक ड्राइवर को गिरफ्तार किया है। उसने ट्रांसपोर्टर की हत्या करने की बात स्वीकार की है। हालांकि पुलिस को उसकी कहानी पर भरोसा नहीं है। फिलहाल उससे पूछताछ जारी है। वहीं बिलासपुर पुलिस भी मालदा के लिए रवाना हो गई है। वारदात चकरभाठा थाना क्षेत्र की है।

आरोपी ट्रक चालक

जानकारी के मुताबिक, गुजरात में कच्छ के गडसिला निवासी अब्दुल रजाक ट्रांसपोर्टर हैं। वह पिछले दो-ढाई महीने से बिलासपुर के सिरगिट्‌टी स्थित गिरनार लॉजिस्टिक में कपड़े लेकर आ रहे थे। उनके साथ बेटा मो. अकरम (22) भी ट्रांसपोर्टिंग करता है। अकरम 8 अप्रैल को ट्रक लेकर माल खाली करने बिलासपुर आया था। यहां दोपहर 3 बजे वह पहुंचा और शाम 5 बजे तक ट्रक खाली किया। इसके बाद पिता अब्दुल ने उसे रात रास्ते में पेट्रोल पंप में रुक कर रात बिताने की बात कही और सुबह भाटापारा जाने के लिए बोला था।

अगले दिन 9 अप्रैल की सुबह करीब 6 बजे जब उन्होंने अकरम के मोबाइल पर कॉल किया तो वह स्विच ऑफ था। इसके बाद से लगातार बेटे से संपर्क करने का प्रयास करते रहे, लेकिन नहीं हो सका। इस पर उन्होंने अपने भाई और परिजन को इस घटना की जानकारी दी। फिर सभी अगले दिन 10 अप्रैल को बिलासपुर पहुंचे। इससे पहले ही रास्ते में उनके मोबाइल पर अलग-अलग जगह व दूसरे राज्य की लोकेशन पर फास्टैग से रुपए कटने का मैसेज आया। इस पर उन्हें अपहरण की आशंका हुई और पुलिस में शिकायत की।

भाटापारा से रायगढ़ और ओडिशा होते हुए पश्चिम बंगाल गया ट्रक

ट्रांसपोर्टर अब्दुल रज्जाक के मोबाइल पर आए मैसेज से पता चला कि ट्रक पहले भाटापारा के मोहदा में था, लेकिन फिर रायगढ़ की ओर नेशनल हाईवे से होता हुआ ओडिशा के टोल को क्रॉस करता पश्चिम बंगाल पहुंच गया है। इसके बाद पुलिस की अलग-अलग टीमों को लोकेशन के आधार पर सर्चिंग के लिए भेजा गया। पश्चिम बंगाल पुलिस से भी संपर्क किया। इसके बाद बुधवार को पश्चिम बंगाल की मालदा पुलिस ने ड्राइवर को पकड़ लिया। नाकाबंदी देख आरोपी ड्राइवर ट्रक को लॉक कर भागने की फिराक में था।

ड्राइवर बोला- मारकर राउरकेला के जंगल में फेंका
मालदा पुलिस की पूछताछ में आरोपी ड्राइवर पप्पू सरदार उर्फ सुरजीत सिंह ने मो. अकरम की हत्या कर राउरकेला और झारसुगड़ा के बीच जंगल में फेंकने की जानकारी दी है। वह पुलिस को गोलमोल जवाब भी दे रहा है। यही वजह है कि पुलिस उसकी बातों पर भरोसा नहीं कर रही है। आरोपी ट्रक ड्राइवर सुरजीत सिंह रायपुर का रहने वाला है। अब्दुल रजाक ने बताया कि दो माह पहले ही वह बिलासपुर में मिला था और मदद मांगी थी। उसका ड्राइविंग लाइसेंस देखकर काम पर रख लिया था। क्या पता था कि जिसकी मदद वह कर रहा है वह इस तरह से दगाबाजी करेगा।

नगर निगम के सभापति शेख नजीरुद्दीन ने की मदद
अब्दुल रजाक ने बताया कि बिलासपुर में उन्होंने नगर निगम के सभापति शेख नजीरुद्दीन से मदद मांगी, तब उन्हें लेकर वे SP पारुल माथुर के पास पहुंचे। उन्होंने चकरभाठा थाने में गुम इंसान दर्ज करने के निर्देश दिए। साथ ही फास्टेग मैसेज के आधार पर टोल प्लाजा में जांच के साथ ही और अन्य तकनीकी जानकारी जुटाकर तलाश शुरू कर दी।

SP बोलीं- ट्रक और ड्राइवर मिला है, अपहृत युवक की तलाश जारी
इधर, SP पारुल माथुर ने बताया कि इस घटना की सूचना के बाद से ट्रांसपोर्टर की तलाश की जा रही थी। उन्होंने खुद पश्चिमबंगाल पुलिस से संपर्क कर जानकारी दी थी। ट्रक के साथ आरोपी ड्राइवर मिल गया है। लेकिन, ट्रांसपोर्टर की जानकारी नहीं मिल पाई है। पकड़े गए ड्राइवर को लेने के लिए पुलिस पश्चिम बंगाल पहुंच गई। आरोपी ड्राइवर से पूछताछ के बाद अपहृत युवक की जानकारी मिल सकती है।