Monday, September 26, 2022

एनटीपीसी सीपत में विद्युत सुरक्षा पर राष्ट्रीय सम्मेलन.. जीवन अमूल्य, हमें सुरक्षा योद्धा की तरह काम करना चाहिए- गौतम रॉय

बिलासपुर– केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण (सीईए) और एनटीपीसी सीपत ने गुरूवार को संयुक्त रूप से विद्युत सुरक्षा पर राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया। सम्मलेन हाइब्रिड (भौतिक और डिजिटल) मोड के माध्यम से एनटीपीसी सीपत क्षेत्रीय ज्ञानार्जन संस्थान (आरएलआई) में आयोजित किया गया ।
सम्मलेन में पूरे देश से लगभग 2000 से अधिक प्रतिनिधियों ने हाइब्रिड मोड के माध्यम से सम्मेलन में भाग लिया। सीईए, एनटीपीसी, पीजीसीआईएल, सीएसपीडीसीएल, सीएसपीटीसीएल, जीईसी, केप इलेक्ट्रिक इंडिया, केएसके एनर्जी और छत्तीसगढ़ स्टेट लोड डिस्पैच सेंटर आदि के लगभग 50 वरिष्ठ प्रतिनिधियों ने एनटीपीसी सीपत रीजनल लर्निंग इंस्टीट्यूट (आरएलआई) में उपस्थित होकर सम्मेलन में भाग लिया। इसके अलावा अनेक प्रमुख व्यक्ति और प्रतिनिधि डिजिटल रूप से जुड़े।


उदघाटन सत्र में परिचयात्मक भाषण एल के एस राठौर, निदेशक आर.आई.ओ (पश्चिम), सीईए द्वारा दिया गया, उन्होंने सम्मेलन के आयोजन में सीईए टीम का नेतृत्व भी किया। उद्घाटन सत्र को गौतम रॉय, सदस्य (विद्युत प्रणाली), सीईए, रमेश कुमार, भारत सरकार के मुख्य विद्युत निरीक्षक, सीईए और अनिल कुमार पांडे, क्षेत्रीय कार्यकारी निदेशक (डब्ल्यूआर-11 और यूएसएससी), एनटीपीसी ने भी संबोधित किया।
प्रारंभ में स्वागत भाषण घनश्याम प्रजापति, मुख्य महाप्रबंधक और एचओपी (सीपत), एनटीपीसी लिमिटेड ने दिया। श्री प्रजापति ने एनटीपीसी, सीपत द्वारा अपनाई गई विद्युत सुरक्षा की कुछ सर्वोत्तम प्रथाओं पर प्रकाश डाला। धन्यवाद प्रस्ताव रामनाथ पुजारी, महाप्रबंधक (ओ एंड एम), एनटीपीसी सीपत ने दिया। कार्यक्रम की कार्यवाही का संचालन आलोक कुमार त्रिपाठी, महाप्रबंधक (आरएलआई), एनटीपीसी सीपत द्वारा किया गया ।

तकनीकी सत्रों में सीईए, एनटीपीसी, पीजीसीआईएल और केप इलेक्ट्रिक इंडिया की फैकल्टी ने सेफ्टी रेगुलेशन, इलेक्ट्रिकल एक्सीडेंट एनालिसिस एंड केस स्टडीज, ग्लोबल अर्थिंग सिस्टम और इलेक्ट्रिकल सेफ्टी में बेस्ट प्रैक्टिस पर नॉलेज शेयरिंग सेशन लिए।
इस अवसर पर सीईए के सदस्य (पावर सिस्टम) गौतम रॉय ने कहा कि हम सभी को “सुरक्षा योद्धा” के रूप में काम करना चाहिए और बहुमूल्य जीवन बचाने का प्रयास करना चाहिए। भारत सरकार के मुख्य विद्युत निरीक्षक रमेश कुमार ने विद्युत दुर्घटनाओं को रोकने के लिए आवश्यक विभिन्न कदम उठाने पर जोर दिया। अनिल कुमार पांडे, क्षेत्रीय कार्यकारी निदेशक (डब्ल्यूआर- और यूएसएससी), एनटीपीसी ने सुरक्षा के प्रति एनटीपीसी द्वारा दिखाई गई प्रतिबद्धता का उल्लेख किया। तकनीकी सत्रों की अध्यक्षता के एस मनोठिया, ईडी एसएलडीसी, छत्तीसगढ़ द्वारा किया गया और एल के एस राठौर, निदेशक आर.आई.ओ (पश्चिम), सीईए के भाषण के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ।

GiONews Team
Editor In Chief

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

बिलासपुर– केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण (सीईए) और एनटीपीसी सीपत ने गुरूवार को संयुक्त रूप से विद्युत सुरक्षा पर राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया। सम्मलेन हाइब्रिड (भौतिक और डिजिटल) मोड के माध्यम से एनटीपीसी सीपत क्षेत्रीय ज्ञानार्जन संस्थान (आरएलआई) में आयोजित किया गया ।
सम्मलेन में पूरे देश से लगभग 2000 से अधिक प्रतिनिधियों ने हाइब्रिड मोड के माध्यम से सम्मेलन में भाग लिया। सीईए, एनटीपीसी, पीजीसीआईएल, सीएसपीडीसीएल, सीएसपीटीसीएल, जीईसी, केप इलेक्ट्रिक इंडिया, केएसके एनर्जी और छत्तीसगढ़ स्टेट लोड डिस्पैच सेंटर आदि के लगभग 50 वरिष्ठ प्रतिनिधियों ने एनटीपीसी सीपत रीजनल लर्निंग इंस्टीट्यूट (आरएलआई) में उपस्थित होकर सम्मेलन में भाग लिया। इसके अलावा अनेक प्रमुख व्यक्ति और प्रतिनिधि डिजिटल रूप से जुड़े।


उदघाटन सत्र में परिचयात्मक भाषण एल के एस राठौर, निदेशक आर.आई.ओ (पश्चिम), सीईए द्वारा दिया गया, उन्होंने सम्मेलन के आयोजन में सीईए टीम का नेतृत्व भी किया। उद्घाटन सत्र को गौतम रॉय, सदस्य (विद्युत प्रणाली), सीईए, रमेश कुमार, भारत सरकार के मुख्य विद्युत निरीक्षक, सीईए और अनिल कुमार पांडे, क्षेत्रीय कार्यकारी निदेशक (डब्ल्यूआर-11 और यूएसएससी), एनटीपीसी ने भी संबोधित किया।
प्रारंभ में स्वागत भाषण घनश्याम प्रजापति, मुख्य महाप्रबंधक और एचओपी (सीपत), एनटीपीसी लिमिटेड ने दिया। श्री प्रजापति ने एनटीपीसी, सीपत द्वारा अपनाई गई विद्युत सुरक्षा की कुछ सर्वोत्तम प्रथाओं पर प्रकाश डाला। धन्यवाद प्रस्ताव रामनाथ पुजारी, महाप्रबंधक (ओ एंड एम), एनटीपीसी सीपत ने दिया। कार्यक्रम की कार्यवाही का संचालन आलोक कुमार त्रिपाठी, महाप्रबंधक (आरएलआई), एनटीपीसी सीपत द्वारा किया गया ।

तकनीकी सत्रों में सीईए, एनटीपीसी, पीजीसीआईएल और केप इलेक्ट्रिक इंडिया की फैकल्टी ने सेफ्टी रेगुलेशन, इलेक्ट्रिकल एक्सीडेंट एनालिसिस एंड केस स्टडीज, ग्लोबल अर्थिंग सिस्टम और इलेक्ट्रिकल सेफ्टी में बेस्ट प्रैक्टिस पर नॉलेज शेयरिंग सेशन लिए।
इस अवसर पर सीईए के सदस्य (पावर सिस्टम) गौतम रॉय ने कहा कि हम सभी को “सुरक्षा योद्धा” के रूप में काम करना चाहिए और बहुमूल्य जीवन बचाने का प्रयास करना चाहिए। भारत सरकार के मुख्य विद्युत निरीक्षक रमेश कुमार ने विद्युत दुर्घटनाओं को रोकने के लिए आवश्यक विभिन्न कदम उठाने पर जोर दिया। अनिल कुमार पांडे, क्षेत्रीय कार्यकारी निदेशक (डब्ल्यूआर- और यूएसएससी), एनटीपीसी ने सुरक्षा के प्रति एनटीपीसी द्वारा दिखाई गई प्रतिबद्धता का उल्लेख किया। तकनीकी सत्रों की अध्यक्षता के एस मनोठिया, ईडी एसएलडीसी, छत्तीसगढ़ द्वारा किया गया और एल के एस राठौर, निदेशक आर.आई.ओ (पश्चिम), सीईए के भाषण के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ।