Sunday, November 27, 2022

Special Report: कोरोना @ कटघोरा

बिलासपुर– कोरोना ‘हॉटस्पॉट’ कटघोरा में बढ़ते पॉज़िटिव मरीजों से प्रशासन के साथ ही कोरबा, बिलासपुर और जांजगीर जिले के रहवासी सकते में हैं। प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या अब 31 हो गई है। जिनमें से 22 केस अकेले कटघोरा में मिले हैं। वहीं कोरबा में 1 और बिलासपुर के 1 केस को मिलाकर बिलासपुर संभाग में अब तक 24 केस सामने आए हैं।

प्रदेश में कोरोना के 21 एक्टिव केस

प्रदेश में कोरोना के अब तक सामने आए पॉजिटिव 31 केस में कोरबा जिले के 23 केस है। इसके अलावा रायपुर में पांच, दुर्ग, बिलासपुर, राजनांदगांव के एक-एक मामले शामिल हैं। यहां के सभी मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। अब कटघोरा की राज्य के लिए प्रमुख चुनौती बनकर उभरा है। इसे हॉटस्पॉट घोषित कर सील कर दिया गया है।

कटघोरा में ऐसे फैला कोरोना का संक्रमण

कटघोरा की जामा मस्जिद में दो मार्च को तब्लीगी जमात के 16 लोग महाराष्ट्र के कामठी से आए थे। इसमें एक किशोर सबसे पहले कोरोना पॉजिटिव मिला था। इसके बाद ही यहां संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ने लगी। 11 अप्रैल की आधी रात 7 लोगों के कोरोना संक्रमित होने की रिपोर्ट आई। इसमें दो महिला व पांच पुरुष शामिल थे। जिसमें एक ही परिवार के युवक व उसकी दो बहनें संक्रमित हुई हैं। यह परिवार पुरानी बस्ती में ही रहता है। पुरानी बस्ती के ही तीन परिवारों के एक-एक सदस्य संक्रमण का शिकार हुए।

रविवार शाम एक बार फिर कटघोरा के पुरानी बस्ती के ही छह और लोगों के कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि एम्स रायपुर ने की। इसमें तीन महिला व तीन पुरुष की रिपोर्ट पॉजिटिव आई।

कोरबा, बिलासपुर, जांजगीर जिले में अलर्ट
कटघोरा में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए कोरबा, जांजगीर और बिलासपुर जिले में प्रशासन अलर्ट हो गया है, जिले की सीमाओं को पूरी तरह सील कर दिया गया है, साथ ही कटघोरा से संपर्क में आए लोगों की जांच की जा रही है। कटघोरा में कोरोना के बढ़ते मामलों ने बिलासपुर और जांजगीर जिले के लोग दहशत में हैं।

कलेक्टर किरण कौशल ने कहा

जमातियों को 23 मार्च को ही होम क्वारंटाइन कर दिया गया था। पुलिस का पहरा लगाया गया था। उसके बाद कहीं नहीं निकले हैं। जो भी उनकी गतिविधियां सामने आई हैं, वह लॉकडाउन के पहले की है। भोजन व अन्य सामग्री भी उन्हें बाहर से उपलब्ध कराई जा रही थी। किसी तरह की कोई चूक नहीं हुई है। संक्रमण की जो रिपोर्ट आ रही है, वह लॉकडाउन के पहले संक्रमित हुए लोग हैं।

प्रदेश में अब तक 3945 की जांच, 3856 सैंपल निगेटिव

प्रदेश में अब तक 3945 संदिग्धों की जांच की गई है। इनमें 3856 सैंपल निगेटिव हैं। 58 सैम्पलों की जांच चल रही है।

GiONews Team
Editor In Chief

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

बिलासपुर– कोरोना ‘हॉटस्पॉट’ कटघोरा में बढ़ते पॉज़िटिव मरीजों से प्रशासन के साथ ही कोरबा, बिलासपुर और जांजगीर जिले के रहवासी सकते में हैं। प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या अब 31 हो गई है। जिनमें से 22 केस अकेले कटघोरा में मिले हैं। वहीं कोरबा में 1 और बिलासपुर के 1 केस को मिलाकर बिलासपुर संभाग में अब तक 24 केस सामने आए हैं।

प्रदेश में कोरोना के 21 एक्टिव केस

प्रदेश में कोरोना के अब तक सामने आए पॉजिटिव 31 केस में कोरबा जिले के 23 केस है। इसके अलावा रायपुर में पांच, दुर्ग, बिलासपुर, राजनांदगांव के एक-एक मामले शामिल हैं। यहां के सभी मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। अब कटघोरा की राज्य के लिए प्रमुख चुनौती बनकर उभरा है। इसे हॉटस्पॉट घोषित कर सील कर दिया गया है।

कटघोरा में ऐसे फैला कोरोना का संक्रमण

कटघोरा की जामा मस्जिद में दो मार्च को तब्लीगी जमात के 16 लोग महाराष्ट्र के कामठी से आए थे। इसमें एक किशोर सबसे पहले कोरोना पॉजिटिव मिला था। इसके बाद ही यहां संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ने लगी। 11 अप्रैल की आधी रात 7 लोगों के कोरोना संक्रमित होने की रिपोर्ट आई। इसमें दो महिला व पांच पुरुष शामिल थे। जिसमें एक ही परिवार के युवक व उसकी दो बहनें संक्रमित हुई हैं। यह परिवार पुरानी बस्ती में ही रहता है। पुरानी बस्ती के ही तीन परिवारों के एक-एक सदस्य संक्रमण का शिकार हुए।

रविवार शाम एक बार फिर कटघोरा के पुरानी बस्ती के ही छह और लोगों के कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि एम्स रायपुर ने की। इसमें तीन महिला व तीन पुरुष की रिपोर्ट पॉजिटिव आई।

कोरबा, बिलासपुर, जांजगीर जिले में अलर्ट
कटघोरा में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए कोरबा, जांजगीर और बिलासपुर जिले में प्रशासन अलर्ट हो गया है, जिले की सीमाओं को पूरी तरह सील कर दिया गया है, साथ ही कटघोरा से संपर्क में आए लोगों की जांच की जा रही है। कटघोरा में कोरोना के बढ़ते मामलों ने बिलासपुर और जांजगीर जिले के लोग दहशत में हैं।

कलेक्टर किरण कौशल ने कहा

जमातियों को 23 मार्च को ही होम क्वारंटाइन कर दिया गया था। पुलिस का पहरा लगाया गया था। उसके बाद कहीं नहीं निकले हैं। जो भी उनकी गतिविधियां सामने आई हैं, वह लॉकडाउन के पहले की है। भोजन व अन्य सामग्री भी उन्हें बाहर से उपलब्ध कराई जा रही थी। किसी तरह की कोई चूक नहीं हुई है। संक्रमण की जो रिपोर्ट आ रही है, वह लॉकडाउन के पहले संक्रमित हुए लोग हैं।

प्रदेश में अब तक 3945 की जांच, 3856 सैंपल निगेटिव

प्रदेश में अब तक 3945 संदिग्धों की जांच की गई है। इनमें 3856 सैंपल निगेटिव हैं। 58 सैम्पलों की जांच चल रही है।