Thursday, October 6, 2022

दिल्ली जाकर संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं से मिले आंदोलनकारी, राकेश टिकैत उत्तर प्रदेश चुनाव बाद कभी भी आ सकते है छत्तीसगढ़……

नवा रायपुर । पिछले 52 दिन से चल रहे आंदोलन में किसान नेता राकेश टिकैत की एंट्री हो गई है । राकेश टिकैत उत्तर प्रदेश चुनाव के बाद कभी भी छत्तीसगढ़ आ सकते हैं । इससे पहले उन्होंने राज्य सरकार से इस मुद्दे पर फोन पर बात करने का आश्वासन दिया है । नई राजधानी प्रभावित किसान कल्याण समिति के अध्यक्ष रूपन चंद्राकर और कार्यकारी अध्यक्ष कामता प्रसाद रात्रे मंगलवार को दिल्ली पहुंचे थे । वहां महाराष्ट्र से आए किसानों की ओर से दिल्ली किसान आंदोलन के नेताओं का एक सम्मान समारोह था । कार्यक्रम के बाद रायपुर से गए किसान नेताओं से उनसे मुलाकात की । उनको गांव और किसानों की मौजूदा समस्याओं की जानकारी दी । उन्हें बताया , वे लोग दिल्ली आंदोलन की रणनीति पर ही नवा रायपुर में पिछले 51-52 दिनों से आंदोलन कर रहे हैं ।

किसानों ने उन्हें अपने आंदोलन में आमंत्रित किया । नई राजधानी प्रभावित किसान कल्याण समिति के कार्यकारी अध्यक्ष कामता प्रसाद रात्रे ने बताया , राकेश टिकैत ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव खत्म होने के बाद रायपुर आने की बात कही है । उससे पहले वे राज्य सरकार से फोन पर चर्चा कर समाधान की कोशिश करेंगे ।

नवा रायपुर के आंदोलकारियों ने संयुक्त किसान मोर्चा के योगेंद्र यादव और डॉ . सुनीलम से भी मुलाकात कर अपनी बात पहुंचाई है । टिकैत के घर ठहरेंगे किसान छत्तीसगढ़ के आंदोलनकारी किसान नेता दिल्ली से सिसौली के लिए रवाना हो गए हैं । मुजफ्फरनगर के इस गांव में राकेश टिकैती का पुश्तैनी घर है । रात को किसान नेता टिकैत के घर ही ठहरेंगे । रात में उनकी किसान संगठनों के साथ चर्चा होगी ।

इन मांगों को लेकर चल रहा आंदोलन

सन 2005 से स्वतंत्र भू क्रय – विक्रय पर लगे प्रतिबंध को तत्काल प्रभाव से हटाया जाए । प्रभावित 27 ग्रामों को घोषित नगरीय क्षेत्र की अधिसूचना निरस्त की जाए । सम्पूर्ण ग्रामीण बसाहट का पट्टा दिया जाए । प्रभावित क्षेत्र के प्रत्येक वयस्क व्यक्ति को 1200 वर्ग फीट विकसित भूखण्ड का वितरण किया जाए । आपसी सहमति , भू – अर्जन के तहत अर्जित भूमि के अनुपात में शुल्क आवंटन । अर्जित भूमि पर वार्षिकी राशि का भुगतान तत्काल दिया जाए । सशक्त समिति की 12 वीं बैठक के निर्णयों का पूर्णतया पालन हो । मुआवजा प्राप्त नहीं हुए भू – स्वामियों को चार गुना मुआवजे का प्रावधान हो ।

GiONews Team
Editor In Chief

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

नवा रायपुर । पिछले 52 दिन से चल रहे आंदोलन में किसान नेता राकेश टिकैत की एंट्री हो गई है । राकेश टिकैत उत्तर प्रदेश चुनाव के बाद कभी भी छत्तीसगढ़ आ सकते हैं । इससे पहले उन्होंने राज्य सरकार से इस मुद्दे पर फोन पर बात करने का आश्वासन दिया है । नई राजधानी प्रभावित किसान कल्याण समिति के अध्यक्ष रूपन चंद्राकर और कार्यकारी अध्यक्ष कामता प्रसाद रात्रे मंगलवार को दिल्ली पहुंचे थे । वहां महाराष्ट्र से आए किसानों की ओर से दिल्ली किसान आंदोलन के नेताओं का एक सम्मान समारोह था । कार्यक्रम के बाद रायपुर से गए किसान नेताओं से उनसे मुलाकात की । उनको गांव और किसानों की मौजूदा समस्याओं की जानकारी दी । उन्हें बताया , वे लोग दिल्ली आंदोलन की रणनीति पर ही नवा रायपुर में पिछले 51-52 दिनों से आंदोलन कर रहे हैं ।

किसानों ने उन्हें अपने आंदोलन में आमंत्रित किया । नई राजधानी प्रभावित किसान कल्याण समिति के कार्यकारी अध्यक्ष कामता प्रसाद रात्रे ने बताया , राकेश टिकैत ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव खत्म होने के बाद रायपुर आने की बात कही है । उससे पहले वे राज्य सरकार से फोन पर चर्चा कर समाधान की कोशिश करेंगे ।

नवा रायपुर के आंदोलकारियों ने संयुक्त किसान मोर्चा के योगेंद्र यादव और डॉ . सुनीलम से भी मुलाकात कर अपनी बात पहुंचाई है । टिकैत के घर ठहरेंगे किसान छत्तीसगढ़ के आंदोलनकारी किसान नेता दिल्ली से सिसौली के लिए रवाना हो गए हैं । मुजफ्फरनगर के इस गांव में राकेश टिकैती का पुश्तैनी घर है । रात को किसान नेता टिकैत के घर ही ठहरेंगे । रात में उनकी किसान संगठनों के साथ चर्चा होगी ।

इन मांगों को लेकर चल रहा आंदोलन

सन 2005 से स्वतंत्र भू क्रय – विक्रय पर लगे प्रतिबंध को तत्काल प्रभाव से हटाया जाए । प्रभावित 27 ग्रामों को घोषित नगरीय क्षेत्र की अधिसूचना निरस्त की जाए । सम्पूर्ण ग्रामीण बसाहट का पट्टा दिया जाए । प्रभावित क्षेत्र के प्रत्येक वयस्क व्यक्ति को 1200 वर्ग फीट विकसित भूखण्ड का वितरण किया जाए । आपसी सहमति , भू – अर्जन के तहत अर्जित भूमि के अनुपात में शुल्क आवंटन । अर्जित भूमि पर वार्षिकी राशि का भुगतान तत्काल दिया जाए । सशक्त समिति की 12 वीं बैठक के निर्णयों का पूर्णतया पालन हो । मुआवजा प्राप्त नहीं हुए भू – स्वामियों को चार गुना मुआवजे का प्रावधान हो ।