Friday, December 3, 2021

एसपी जनदर्शन में पहुंचे फरियादी को मिला न्याय, 420 का आरोपी जेल दाखिल..

बिलासपुर- बेरोजगार को नौकरी का सपना दिखाकर उसे धोखा देने का मामला सामने आया है,जहां बेरोजगार डी एन रवि जो सरकंडा का रहने वाला हैं उससे रोजगार का सपना दिखाकर 1 लाख 10 हजार की धोखाधड़ी की गई,दरसअल डी एन रवि का परिचित ऋषिकेश कुमार रेलवे कर्मचारी हैं जो वर्तमान में बिहार में पोस्टेड हैं, रवि और ऋषिकेश बातचीत के दौरान ऋषिकेश ने रवि को नौकरी लगवाने के झांसा दिया और झांसे में लेकर उससे 1 लाख 10 हजार 10 रुपये ले लिए,काफी दिन बीत जाने के बाद जब रवि की नौकरी नही लगी तो उसने अपने पैसे वापस मांगे जिसके बाद ऋषिकेश ने उसे घुमाना शुरू कर दिया अपने आपको ठगा हुआ पाकर इस मामले की शिकायत रवि ने एसपी जनदर्शन में कई जहां सरकंडा थाने से जांच शुरू हुई,थाना प्रभारी परिवेश तिवारी ने मामला दर्जकर आरोपी रेलवे कर्मचारी ऋषिकेश कुमार को हिरासत में लेकर बिलासपुर लाई जहां पूछताछ में ऋषिकेश ने अपना जुर्म कबूल कर लिया।

उच्च अधिकारियों से शिकायत आई काम

इस मामले में फिर एक बात निकलकर सामने आई हैं कि अपने ही अपनो को किस कदर रुपयों के लिए ठग लेते हैं ठग ये भी नही देखते की सामने वाले कि आर्थिक स्थिति कैसी है बहरहाल इस मामले से एक बात साफ है कि उच्च अधिकारियों से शिकायत के बाद फरियादियो का काम होता है…

GiONews Team
Editor In Chief

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

बिलासपुर- बेरोजगार को नौकरी का सपना दिखाकर उसे धोखा देने का मामला सामने आया है,जहां बेरोजगार डी एन रवि जो सरकंडा का रहने वाला हैं उससे रोजगार का सपना दिखाकर 1 लाख 10 हजार की धोखाधड़ी की गई,दरसअल डी एन रवि का परिचित ऋषिकेश कुमार रेलवे कर्मचारी हैं जो वर्तमान में बिहार में पोस्टेड हैं, रवि और ऋषिकेश बातचीत के दौरान ऋषिकेश ने रवि को नौकरी लगवाने के झांसा दिया और झांसे में लेकर उससे 1 लाख 10 हजार 10 रुपये ले लिए,काफी दिन बीत जाने के बाद जब रवि की नौकरी नही लगी तो उसने अपने पैसे वापस मांगे जिसके बाद ऋषिकेश ने उसे घुमाना शुरू कर दिया अपने आपको ठगा हुआ पाकर इस मामले की शिकायत रवि ने एसपी जनदर्शन में कई जहां सरकंडा थाने से जांच शुरू हुई,थाना प्रभारी परिवेश तिवारी ने मामला दर्जकर आरोपी रेलवे कर्मचारी ऋषिकेश कुमार को हिरासत में लेकर बिलासपुर लाई जहां पूछताछ में ऋषिकेश ने अपना जुर्म कबूल कर लिया।

उच्च अधिकारियों से शिकायत आई काम

इस मामले में फिर एक बात निकलकर सामने आई हैं कि अपने ही अपनो को किस कदर रुपयों के लिए ठग लेते हैं ठग ये भी नही देखते की सामने वाले कि आर्थिक स्थिति कैसी है बहरहाल इस मामले से एक बात साफ है कि उच्च अधिकारियों से शिकायत के बाद फरियादियो का काम होता है…