Thursday, October 6, 2022

सेमरताल के हायर सेकेंड्री स्कूल में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया आजादी का पर्व

बिलासपुर– स्वतंत्रता दिवस का अमृत उत्सव शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला सेमरताल में अति उत्साह और सादगी के साथ संपन्न हुआ। इस ऐतिहासिक दिन को यादगार बनाने के लिए शाला परिसर को तोरन, तिरंगा गुब्बारे और रंगोली से खासतौर पर सजाया गया था। समस्त शिक्षकों, विघार्थियों व ग्रामवासियों ने भारतीय ध्वज वाली बैज, टेटू, स्टीकर, रिबन और झंण्डे लगाए हुए थे। घर घर तिरंगा फहराने की छूट की वजह से इस बार लोगों में अतिरिक्त उमंग स्पष्ट दिखाई दे रहा था। आजादी के महापर्व की शुरुआत शानदार झाँकी के साथ किया गया, जिसमें बारहवी की छात्रा रितु भारती, ज्योति धीवर, प्राची सिंह और पायल धीवर ने क्रमशः भारत माता, छत्तीसगढ़ महतारी, रानी लक्ष्मीबाई , रानी दुर्गावती और सरस्वती का श्रृंगार किया था, जो आकर्षण का प्रमुख केन्द्र रही। स्कूल की प्राचार्या सुनीता शुक्ला, प्रबंध समिति के अध्यक्ष इंजीनियर लक्ष्मीकुमार गहवई, प्रधानपाठक बलराम पटेल, पंचगण विकास कौशिक, अमित राव, पूर्णिमा धीवर ने एक साथ शा. बालक पूर्व मा. शाला में परंपरानुसार ध्वजारोहण किया। इस बीच गाँधी चौक में महात्मा गाँधी प्रतिमा एवं स्वामी विवेकानंद की पर माल्यार्पण भी किया गया। विवेकानंद चौक पर ग्राम के व्यापारियों ने भी ध्वाजारोहण किया। स्वतंत्रता दिवस का मुख्य कार्यक्रम शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला सेमरताल के सांस्कृतिक मंच पर हुआ, जहाँ ग्राम पंचायत सेमरताल के सरपंच राजेन्द्र साहू ने ध्वजारोहण किया। इस अवसर पर भारत माता, छत्तीसगढ़ महतारी, महात्मा गाँधी और संविधान निर्माता भीमराव अंबेडकर की तस्वीरों की पूजा समस्त अभ्यागतों ने किया। विघालय की ओर से मंचासीन आगंतुको का तिलक और पुष्पाहार के साथ स्वागत किया गया। आजादी के अमृतोत्सव में प्रबंध समिति के अध्यक्ष इंजीनियर लक्ष्मीकुमार गहवई ने बच्चों और ग्रामवासियों को संबोधित करते हुए बताया कि आजादी के पूर्व देश के कैसे हालात थे। आजादी के बाद तात्कालीन सरकार ने साहूकारों के कर्ज में डूबी जनता के लिए बैंको का राष्ट्रीयकरण किया। जनकल्याणकारी कार्यों से देशवासियों ने राहत की श्वास ली। उन्होंने बताया कि बड़ी मेहनत से गाँव में हाईस्कूल की स्थापना की गई। सरपंच राजेन्द्र साहू ने स्वतंत्रता दिवस की बधाई देते हुए विघार्थियों को खूब पढ़ाई करने के लिए कहा। ताकि वे अपने सपनों को साकार कर सके। प्राचार्य सुनीता शुक्ला ने भी उपस्थित ग्रामीणों व बच्चों को स्वंतंत्रता दिवस की बधाई दी। मंच को वरीष्ठ नागरिक व सेवा निवृत्त शिक्षक आर के वर्मा, पनाराम धीवर, रमई साहू ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम का संचालन व्याख्याता अनिल वर्मा ने किया। आभार प्रदर्शन व्याख्याता सीमा ठाकुर ने किया। स्वतंत्रता दिवस के कार्यक्रम में स्कूल के सभी शिक्षक, विघार्थी, गाँव के जनप्रतिनिधी और पालकगण उपस्थित थे।

GiONews Team
Editor In Chief

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

बिलासपुर– स्वतंत्रता दिवस का अमृत उत्सव शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला सेमरताल में अति उत्साह और सादगी के साथ संपन्न हुआ। इस ऐतिहासिक दिन को यादगार बनाने के लिए शाला परिसर को तोरन, तिरंगा गुब्बारे और रंगोली से खासतौर पर सजाया गया था। समस्त शिक्षकों, विघार्थियों व ग्रामवासियों ने भारतीय ध्वज वाली बैज, टेटू, स्टीकर, रिबन और झंण्डे लगाए हुए थे। घर घर तिरंगा फहराने की छूट की वजह से इस बार लोगों में अतिरिक्त उमंग स्पष्ट दिखाई दे रहा था। आजादी के महापर्व की शुरुआत शानदार झाँकी के साथ किया गया, जिसमें बारहवी की छात्रा रितु भारती, ज्योति धीवर, प्राची सिंह और पायल धीवर ने क्रमशः भारत माता, छत्तीसगढ़ महतारी, रानी लक्ष्मीबाई , रानी दुर्गावती और सरस्वती का श्रृंगार किया था, जो आकर्षण का प्रमुख केन्द्र रही। स्कूल की प्राचार्या सुनीता शुक्ला, प्रबंध समिति के अध्यक्ष इंजीनियर लक्ष्मीकुमार गहवई, प्रधानपाठक बलराम पटेल, पंचगण विकास कौशिक, अमित राव, पूर्णिमा धीवर ने एक साथ शा. बालक पूर्व मा. शाला में परंपरानुसार ध्वजारोहण किया। इस बीच गाँधी चौक में महात्मा गाँधी प्रतिमा एवं स्वामी विवेकानंद की पर माल्यार्पण भी किया गया। विवेकानंद चौक पर ग्राम के व्यापारियों ने भी ध्वाजारोहण किया। स्वतंत्रता दिवस का मुख्य कार्यक्रम शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला सेमरताल के सांस्कृतिक मंच पर हुआ, जहाँ ग्राम पंचायत सेमरताल के सरपंच राजेन्द्र साहू ने ध्वजारोहण किया। इस अवसर पर भारत माता, छत्तीसगढ़ महतारी, महात्मा गाँधी और संविधान निर्माता भीमराव अंबेडकर की तस्वीरों की पूजा समस्त अभ्यागतों ने किया। विघालय की ओर से मंचासीन आगंतुको का तिलक और पुष्पाहार के साथ स्वागत किया गया। आजादी के अमृतोत्सव में प्रबंध समिति के अध्यक्ष इंजीनियर लक्ष्मीकुमार गहवई ने बच्चों और ग्रामवासियों को संबोधित करते हुए बताया कि आजादी के पूर्व देश के कैसे हालात थे। आजादी के बाद तात्कालीन सरकार ने साहूकारों के कर्ज में डूबी जनता के लिए बैंको का राष्ट्रीयकरण किया। जनकल्याणकारी कार्यों से देशवासियों ने राहत की श्वास ली। उन्होंने बताया कि बड़ी मेहनत से गाँव में हाईस्कूल की स्थापना की गई। सरपंच राजेन्द्र साहू ने स्वतंत्रता दिवस की बधाई देते हुए विघार्थियों को खूब पढ़ाई करने के लिए कहा। ताकि वे अपने सपनों को साकार कर सके। प्राचार्य सुनीता शुक्ला ने भी उपस्थित ग्रामीणों व बच्चों को स्वंतंत्रता दिवस की बधाई दी। मंच को वरीष्ठ नागरिक व सेवा निवृत्त शिक्षक आर के वर्मा, पनाराम धीवर, रमई साहू ने भी संबोधित किया। कार्यक्रम का संचालन व्याख्याता अनिल वर्मा ने किया। आभार प्रदर्शन व्याख्याता सीमा ठाकुर ने किया। स्वतंत्रता दिवस के कार्यक्रम में स्कूल के सभी शिक्षक, विघार्थी, गाँव के जनप्रतिनिधी और पालकगण उपस्थित थे।