Friday, December 3, 2021

तेज रफ्तार कार ने राहगीर को कुचला, घायल सड़क पर मिनटों पड़ा तड़पता रहा, बेबस बेटी, शर्मसार होती इंसानियत..

बिलासपुर – रेलवे क्षेत्र में तेज रफ्तार कार ने राहगीर को कुचल दिया। हर दिन की तरह शनिवार शाम को भी दफ्तरों की छुट्टी होने के बाद भारत माता स्कूल रोड पर वाहनों की आवाजाही जारी थी। इसी दौरान रेलवे इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट में बतौर ट्रैक मैन इंचार्ज काम करने वाले रवि कांत दत्ता अपनी बेटी के साथ पैदल ही बड़ा गिरजा चौक से भारत माता स्कूल की ओर जा रहा था। जैसे ही वह रेलवे जोनल मुख्य सुरक्षा आयुक्त के घर के सामने पहुंचा, पीछे से आ रहे तेज रफ्तार 110 सफेद रंग की कार ने पहले तो उसे टक्कर मारी और फिर उसे घसीटता हुआ करीब 100 मीटर तक ले गया।

उसके बाद अधेड़ को घायल अवस्था में छोड़कर कार चालक कार समेत भाग खड़ा हुआ। इस दुर्घटना के बाद अधेड़ के साथ मौजूद बच्ची सड़क पर गिर गई और रोने लगी। थोड़ी देर में यहां लोगों की भीड़ जमा हो गई लेकिन किसी ने भी घायल की मदद नहीं की। यहीं पर रेलवे जोनल मुख्य सुरक्षा आयुक्त के घर के सामने सुरक्षाकर्मियों की केबिन भी थी, उनसे भी लोगों ने मदद की गुहार लगाई लेकिन वे भी मदद को आगे नहीं आए। करीब 10 मिनट तक घायल सड़क पर यूं ही पड़ा तड़पता रहा।

उसके सर से तेजी से खून बह कर सड़क पर फैल रहा था। इसी दौरान वहां से गुजर रहे एक कार चालक ने मानवता का परिचय दिया और बिना किसी इंतज़ार के लोगों की मदद से लेकर वह घायल को जिला अस्पताल पहुंचा। बताया जा रहा है कि रवि कांत दत्ता की स्थिति काफी गंभीर है। उसकी छाती फट गई है, आंख बाहर निकल आई है, जिसके बाद उन्हें इलाज के लिए सिम्स रिफर कर दिया गया है।

इसी दौरान पुलिस को भी सूचना मिल गई, जिसके बाद मौके पर पहुंची तारबाहर पुलिस ने सड़क पर मौजूद खून को साफ किया। शाम के वक्त भी यहां तेज रफ्तार से गाड़ियों का आना – जाना जारी था। असल में यहां पिछले कुछ महीनों से यातायात का दबाव बढ़ गया है। इसके पीछे कारण भी मौजूद है।

कोरोना संक्रमण के दौरान रेलवे अस्पताल को भी कोविड अस्पताल में तब्दील किया गया था। तब से लेकर आज तक यहां बाईपास रोड की तरह इस्तेमाल हो रहे कंस्ट्रक्शन कॉलोनी से रेलवे अस्पताल होते हुए बंगलायार्ड को जोड़ने वाली सड़क स्थाई रूप से बंद कर दी गई है। यही कारण है कि भारत माता स्कूल रोड पर यातायात का दबाव बढ़ गया है। तो वही यहां अक्सर लापरवाह वाहन चालक तेज रफ्तार से वाहन भगाते हैं, जिस कारण यहां हर वक्त दुर्घटना की आशंका बनी रहती है।

दुर्घटना के बाद प्रत्यक्षदर्शी आक्रोश जाहिर करते हुए रेलवे जोनल मुख्य सुरक्षा आयुक्त पर बरस पड़े। तो वही यह मांग भी की गई कि इस सड़क पर रफ्तार पर रोकथाम के लिए बैरिकेड से जिगजाग बनाया जाए ताकि दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाया जा सके। फिलहाल गंभीर रूप से घायल अवस्था में रविकांत को सिम्स में भर्ती किया गया है, जहां उसके बचने की संभावना ना के बराबर बताई जा रही है। पुलिस वाहन चालक की तलाश कर रही है। घायल की बेटी चश्मदीद है जिसने अपनी आंखों से कार को देखा है पुलिस उससे पूछताछ कर जानकारी जुटा रही है।

GiONews Team
Editor In Chief

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

बिलासपुर – रेलवे क्षेत्र में तेज रफ्तार कार ने राहगीर को कुचल दिया। हर दिन की तरह शनिवार शाम को भी दफ्तरों की छुट्टी होने के बाद भारत माता स्कूल रोड पर वाहनों की आवाजाही जारी थी। इसी दौरान रेलवे इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट में बतौर ट्रैक मैन इंचार्ज काम करने वाले रवि कांत दत्ता अपनी बेटी के साथ पैदल ही बड़ा गिरजा चौक से भारत माता स्कूल की ओर जा रहा था। जैसे ही वह रेलवे जोनल मुख्य सुरक्षा आयुक्त के घर के सामने पहुंचा, पीछे से आ रहे तेज रफ्तार 110 सफेद रंग की कार ने पहले तो उसे टक्कर मारी और फिर उसे घसीटता हुआ करीब 100 मीटर तक ले गया।

उसके बाद अधेड़ को घायल अवस्था में छोड़कर कार चालक कार समेत भाग खड़ा हुआ। इस दुर्घटना के बाद अधेड़ के साथ मौजूद बच्ची सड़क पर गिर गई और रोने लगी। थोड़ी देर में यहां लोगों की भीड़ जमा हो गई लेकिन किसी ने भी घायल की मदद नहीं की। यहीं पर रेलवे जोनल मुख्य सुरक्षा आयुक्त के घर के सामने सुरक्षाकर्मियों की केबिन भी थी, उनसे भी लोगों ने मदद की गुहार लगाई लेकिन वे भी मदद को आगे नहीं आए। करीब 10 मिनट तक घायल सड़क पर यूं ही पड़ा तड़पता रहा।

उसके सर से तेजी से खून बह कर सड़क पर फैल रहा था। इसी दौरान वहां से गुजर रहे एक कार चालक ने मानवता का परिचय दिया और बिना किसी इंतज़ार के लोगों की मदद से लेकर वह घायल को जिला अस्पताल पहुंचा। बताया जा रहा है कि रवि कांत दत्ता की स्थिति काफी गंभीर है। उसकी छाती फट गई है, आंख बाहर निकल आई है, जिसके बाद उन्हें इलाज के लिए सिम्स रिफर कर दिया गया है।

इसी दौरान पुलिस को भी सूचना मिल गई, जिसके बाद मौके पर पहुंची तारबाहर पुलिस ने सड़क पर मौजूद खून को साफ किया। शाम के वक्त भी यहां तेज रफ्तार से गाड़ियों का आना – जाना जारी था। असल में यहां पिछले कुछ महीनों से यातायात का दबाव बढ़ गया है। इसके पीछे कारण भी मौजूद है।

कोरोना संक्रमण के दौरान रेलवे अस्पताल को भी कोविड अस्पताल में तब्दील किया गया था। तब से लेकर आज तक यहां बाईपास रोड की तरह इस्तेमाल हो रहे कंस्ट्रक्शन कॉलोनी से रेलवे अस्पताल होते हुए बंगलायार्ड को जोड़ने वाली सड़क स्थाई रूप से बंद कर दी गई है। यही कारण है कि भारत माता स्कूल रोड पर यातायात का दबाव बढ़ गया है। तो वही यहां अक्सर लापरवाह वाहन चालक तेज रफ्तार से वाहन भगाते हैं, जिस कारण यहां हर वक्त दुर्घटना की आशंका बनी रहती है।

दुर्घटना के बाद प्रत्यक्षदर्शी आक्रोश जाहिर करते हुए रेलवे जोनल मुख्य सुरक्षा आयुक्त पर बरस पड़े। तो वही यह मांग भी की गई कि इस सड़क पर रफ्तार पर रोकथाम के लिए बैरिकेड से जिगजाग बनाया जाए ताकि दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाया जा सके। फिलहाल गंभीर रूप से घायल अवस्था में रविकांत को सिम्स में भर्ती किया गया है, जहां उसके बचने की संभावना ना के बराबर बताई जा रही है। पुलिस वाहन चालक की तलाश कर रही है। घायल की बेटी चश्मदीद है जिसने अपनी आंखों से कार को देखा है पुलिस उससे पूछताछ कर जानकारी जुटा रही है।