Wednesday, October 5, 2022

चाइल्ड पोर्नोग्राफी पर रोक लगाने के लिये निगरानी का कोई सिस्टम नहीं, वर्षों बाद की कार्रवाई से उठे सवाल…..

छत्तीसगढ़ जिले में चाइल्ड पोर्नोग्राफी के मामले बढ़े रहे हैं। मीडिया साइट पर बच्चों एवं महिलाओं से संबंधित अश्लील फोटो वीडियो सामग्री को अपलोड किया जा रहा है। दिल्ली से एनसीआरबी की निगरानी समिति के निर्देश पर कार्रवाई जरूर हुई पर स्थानीय पुलिस ने अपने स्तर पर ऐसे लोगों को पकड़ने कोई सिस्टम नहीं बनाया। साइबर अपराधियों पर नजर नहीं रखी जा रही है।

गिरफ्तारी भी उन लोगों की हुई जिन्होंने वीडियो डाला था। वायरल करने वाले या तो पकड़े ही नहीं गए या फिर लेनदेन कर थाने से ही छोड़ दिए गए। डाले गए वीडियो भी साल या दो साल बाद जब सभी ने देख लिया तो कार्रवाई शुरू हुई। एनसीआरबी नई दिल्ली से प्राप्त साइबर रिपोर्ट पर कार्रवाई भी हुई। पुलिस की जांच में मोबाइल फोन का इस्तेमाल कर चाइल्ड पोर्नोग्राफी वीडियो फेसबुक और इंस्टाग्राम पर अपलोड करना पाया गया।

एनसीआरबी कर रही निगरानी: वीडियो सोशल शेयर करना जुर्म है। इसकी निगरानी नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो दिल्ली से करती है। पोस्ट अपलोड होते ही जानकारी टीम को मिल जाती है।

दिल्ली एनसीआरबी की सूचना पर होती है आधी-अधूरी कार्रवाई

देवरीखुर्द के तीन युवक अपलोड करने के 2 साल बाद पकड़े गए

केस-1 12 जुलाई 2021 को तोरवा पुलिस ने सोशल मीडिया में बच्चे और लड़कियों के अश्लील वीडियो अपलोड करने के मामले में देवरीखुर्द निवासी शुभम विश्वकर्मा व प्रेम कुमार पाटले को गिरफ्तार किया था। इनमें से एक छात्र था और दूसरा पर्यावरण विभाग में पदस्थ कर्मचारी का बेटा। दोनों फेसबुक में अभद्र वीडियो अपलोड किया करते थे।

जेल से कैदी ने किया अपलोड 8 माह बाद पता चला
केस-2 1 मार्च 2021 को सिविल लाइन पुलिस ने सेंट्रल जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहे जांजगीर चांपा जिले के कैदी त्रिलोचन देवांगन को गिरफ्तार किया। वह 12 जुलाई 2020 को अपलोड किया था। हत्या के मामले में 2011 से यहां बंद है।

वीडियो वायरल करने के 18 माह बाद सरकंडा से तीन युवक पकड़े गए
केस-3 22 सितंबर 2020 को सरकंडा पुलिस ने चाइल्ड पोर्नोग्राफी के मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया था। इनमें एएन तिवारी (58) बंधवापारा, कृष्णा सूर्यवंशी (48) बंधवापारा, राहुल सोनी (21) चांटीडीह सरकंडा शामिल थे। तीनों ने अपने मोबाइल से जनवरी 2019 में सोशल मीडिया पर अभद्र वीडियो अपलोड किया था।

फाइनेंस कंपनी के कर्मचारी अपलोड करता था वीडियो
केस-4 28 फरवरी 2021 को मस्तूरी पुलिस ने पोर्नोग्राफी मामले में अमरजीत सिंह को गिरफ्तार किया। वह महिलाओं और बच्चों का अश्लील वीडियो बनाकर अपलोड करता था। फाइनेंस कंपनी में काम करने वाले इस युवक ने मोबाइल से महिला और बच्चों का अश्लील वीडियो बनाया। मार्च 2020 में वीडियो को यू-ट्यूब पर अपलोड कर दिया। मामला संज्ञान में आने के बाद पुलिस ने छानबीन शुरू की। पुलिस ने साइबर टीम ने वीडियो अपलोड करने वाले युवक का पता लगाया।
एनसीआरबी की सूचना पर 15 माह बाद पता चला
केस-5 6 अप्रैल 2021 को इंस्ट्राग्राम एप एकाउंट में बच्चों से संबंधित अश्लील वीडियो डालने वाले 25 वर्षीय जयरामनगर निवासी अनुपम एक्का को मस्तूरी पुलिस ने एनसीआरबी की शिकायत पर गिरफ्तार कर लिया है। दिल्ली साइबर सेल को वीडियो जांच के दौरान पता चला की अनुपम एक्का ने 8 जनवरी 2020 को सोशल मीडिया इंस्ट्राग्राम में चाइल्ड पोर्न अपलोड किया था।

छग से 80 वीडियो अपलोड
एनसीआरबी ने छत्तीसगढ़ पुलिस को 80 चाइल्ड पोर्न वीडियो अपलोड करने की रिपोर्ट भेजी थी, जो सोशल मीडिया में पोस्ट हुआ था। इन 80 वीडियो को राज्य के नंबर से पोस्ट किया गया था।

64 साल के बुजुर्ग ने भी डाला था अभद्र वीडियो
पांच दिन पहले 25 फरवरी 2022 को पोर्न क्लिप्स शेयर करने वाले रायपुर न्यू राजेंद्र नगर के 64 वर्षीय वासुदेव थौरानी को गिरफ्तार किया गया है। मामला संवेदनशील होने के कारण कोर्ट ने बुजुर्ग को जेल भेज दिया है। वह सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते थे। कहीं से बच्चों की अश्लील वीडियो क्लिप मिली और शेयर कर दिया।

तीन साल पहले रायपुर से हुई थी पहली गिरफ्तारी
चाइल्ड पोर्न वीडियो अपलोड और शेयर करने के आरोप में रायपुर से पहली गिरफ्तारी तीन साल पहले हुई थी। खरोरा पुलिस ने टाटीबंध के बीबीए के 20 साल के छात्र रविंद्र को पकड़ा था। आरोपी ने 27 मार्च 2019 को एक वीडियो सोशल मीडिया में अपलोड किया था । इसे कई लोगों ने देखा और शेयर भी किया था।
सेटअप नहीं है, दिल्ली से माॅनिटरिंग: एएसपी
एएसपी उमेश कश्यप ने बताया कि आईपी ट्रेस करना होता है जो कठिन काम है। यहां सेटअप नहीं है। दिल्ली में एनसीआरबी इसकी माॅनिंटरिंग कर रही है। हमारे पास सूचना आती है तो ऐसे लोगों को पकड़ते हैं। अभी तक किसी को छोड़ा नहीं गया है।
इधर गिरफ्तारी

कोनी के युवक ने किया अपलोड
कोनी क्षेत्र के युवक ने सोशल मीडिया पर चाइल्ड पोर्नोग्राफी अपलोड किया। सूचना मिलने पर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है। अपराध अनुसंधान रिकार्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) नई दिल्ली की ओर से एसपी बिलासपुर को पत्र भेजा गया था। इसमें चाइल्ड पोर्नोग्राफी के संबंध में सोशल मीडिया पर अभद्र वीडियो अपलोड करने की जानकारी दी गई थी। साथ ही कार्रवाई करने के लिए कहा गया था।

एनसीआरबी ने वीडियो अपलोड करने वाले का मोबाइल नंबर भी भेजा था। पुलिस सीएसपी स्नेहिल साहू के दिशा निर्देश में जांच शुरू की। साइबर सेल की मदद से मोबाइल नंबर धारी का पता लगाया गया। आरोपी कोनी देवनगर निवासी सोमेंद्र बंजारे 18 वर्ष निकला। पुलिस उसके पास गई और पकड़कर पूछताछ की। उसने अपराध करना स्वीकार कर लिया।

GiONews Team
Editor In Chief

Stay Connected

4,364FansLike
5,464FollowersFollow
3,245SubscribersSubscribe

Latest Articles

छत्तीसगढ़ जिले में चाइल्ड पोर्नोग्राफी के मामले बढ़े रहे हैं। मीडिया साइट पर बच्चों एवं महिलाओं से संबंधित अश्लील फोटो वीडियो सामग्री को अपलोड किया जा रहा है। दिल्ली से एनसीआरबी की निगरानी समिति के निर्देश पर कार्रवाई जरूर हुई पर स्थानीय पुलिस ने अपने स्तर पर ऐसे लोगों को पकड़ने कोई सिस्टम नहीं बनाया। साइबर अपराधियों पर नजर नहीं रखी जा रही है।

गिरफ्तारी भी उन लोगों की हुई जिन्होंने वीडियो डाला था। वायरल करने वाले या तो पकड़े ही नहीं गए या फिर लेनदेन कर थाने से ही छोड़ दिए गए। डाले गए वीडियो भी साल या दो साल बाद जब सभी ने देख लिया तो कार्रवाई शुरू हुई। एनसीआरबी नई दिल्ली से प्राप्त साइबर रिपोर्ट पर कार्रवाई भी हुई। पुलिस की जांच में मोबाइल फोन का इस्तेमाल कर चाइल्ड पोर्नोग्राफी वीडियो फेसबुक और इंस्टाग्राम पर अपलोड करना पाया गया।

एनसीआरबी कर रही निगरानी: वीडियो सोशल शेयर करना जुर्म है। इसकी निगरानी नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो दिल्ली से करती है। पोस्ट अपलोड होते ही जानकारी टीम को मिल जाती है।

दिल्ली एनसीआरबी की सूचना पर होती है आधी-अधूरी कार्रवाई

देवरीखुर्द के तीन युवक अपलोड करने के 2 साल बाद पकड़े गए

केस-1 12 जुलाई 2021 को तोरवा पुलिस ने सोशल मीडिया में बच्चे और लड़कियों के अश्लील वीडियो अपलोड करने के मामले में देवरीखुर्द निवासी शुभम विश्वकर्मा व प्रेम कुमार पाटले को गिरफ्तार किया था। इनमें से एक छात्र था और दूसरा पर्यावरण विभाग में पदस्थ कर्मचारी का बेटा। दोनों फेसबुक में अभद्र वीडियो अपलोड किया करते थे।

जेल से कैदी ने किया अपलोड 8 माह बाद पता चला
केस-2 1 मार्च 2021 को सिविल लाइन पुलिस ने सेंट्रल जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहे जांजगीर चांपा जिले के कैदी त्रिलोचन देवांगन को गिरफ्तार किया। वह 12 जुलाई 2020 को अपलोड किया था। हत्या के मामले में 2011 से यहां बंद है।

वीडियो वायरल करने के 18 माह बाद सरकंडा से तीन युवक पकड़े गए
केस-3 22 सितंबर 2020 को सरकंडा पुलिस ने चाइल्ड पोर्नोग्राफी के मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया था। इनमें एएन तिवारी (58) बंधवापारा, कृष्णा सूर्यवंशी (48) बंधवापारा, राहुल सोनी (21) चांटीडीह सरकंडा शामिल थे। तीनों ने अपने मोबाइल से जनवरी 2019 में सोशल मीडिया पर अभद्र वीडियो अपलोड किया था।

फाइनेंस कंपनी के कर्मचारी अपलोड करता था वीडियो
केस-4 28 फरवरी 2021 को मस्तूरी पुलिस ने पोर्नोग्राफी मामले में अमरजीत सिंह को गिरफ्तार किया। वह महिलाओं और बच्चों का अश्लील वीडियो बनाकर अपलोड करता था। फाइनेंस कंपनी में काम करने वाले इस युवक ने मोबाइल से महिला और बच्चों का अश्लील वीडियो बनाया। मार्च 2020 में वीडियो को यू-ट्यूब पर अपलोड कर दिया। मामला संज्ञान में आने के बाद पुलिस ने छानबीन शुरू की। पुलिस ने साइबर टीम ने वीडियो अपलोड करने वाले युवक का पता लगाया।
एनसीआरबी की सूचना पर 15 माह बाद पता चला
केस-5 6 अप्रैल 2021 को इंस्ट्राग्राम एप एकाउंट में बच्चों से संबंधित अश्लील वीडियो डालने वाले 25 वर्षीय जयरामनगर निवासी अनुपम एक्का को मस्तूरी पुलिस ने एनसीआरबी की शिकायत पर गिरफ्तार कर लिया है। दिल्ली साइबर सेल को वीडियो जांच के दौरान पता चला की अनुपम एक्का ने 8 जनवरी 2020 को सोशल मीडिया इंस्ट्राग्राम में चाइल्ड पोर्न अपलोड किया था।

छग से 80 वीडियो अपलोड
एनसीआरबी ने छत्तीसगढ़ पुलिस को 80 चाइल्ड पोर्न वीडियो अपलोड करने की रिपोर्ट भेजी थी, जो सोशल मीडिया में पोस्ट हुआ था। इन 80 वीडियो को राज्य के नंबर से पोस्ट किया गया था।

64 साल के बुजुर्ग ने भी डाला था अभद्र वीडियो
पांच दिन पहले 25 फरवरी 2022 को पोर्न क्लिप्स शेयर करने वाले रायपुर न्यू राजेंद्र नगर के 64 वर्षीय वासुदेव थौरानी को गिरफ्तार किया गया है। मामला संवेदनशील होने के कारण कोर्ट ने बुजुर्ग को जेल भेज दिया है। वह सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते थे। कहीं से बच्चों की अश्लील वीडियो क्लिप मिली और शेयर कर दिया।

तीन साल पहले रायपुर से हुई थी पहली गिरफ्तारी
चाइल्ड पोर्न वीडियो अपलोड और शेयर करने के आरोप में रायपुर से पहली गिरफ्तारी तीन साल पहले हुई थी। खरोरा पुलिस ने टाटीबंध के बीबीए के 20 साल के छात्र रविंद्र को पकड़ा था। आरोपी ने 27 मार्च 2019 को एक वीडियो सोशल मीडिया में अपलोड किया था । इसे कई लोगों ने देखा और शेयर भी किया था।
सेटअप नहीं है, दिल्ली से माॅनिटरिंग: एएसपी
एएसपी उमेश कश्यप ने बताया कि आईपी ट्रेस करना होता है जो कठिन काम है। यहां सेटअप नहीं है। दिल्ली में एनसीआरबी इसकी माॅनिंटरिंग कर रही है। हमारे पास सूचना आती है तो ऐसे लोगों को पकड़ते हैं। अभी तक किसी को छोड़ा नहीं गया है।
इधर गिरफ्तारी

कोनी के युवक ने किया अपलोड
कोनी क्षेत्र के युवक ने सोशल मीडिया पर चाइल्ड पोर्नोग्राफी अपलोड किया। सूचना मिलने पर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है। अपराध अनुसंधान रिकार्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) नई दिल्ली की ओर से एसपी बिलासपुर को पत्र भेजा गया था। इसमें चाइल्ड पोर्नोग्राफी के संबंध में सोशल मीडिया पर अभद्र वीडियो अपलोड करने की जानकारी दी गई थी। साथ ही कार्रवाई करने के लिए कहा गया था।

एनसीआरबी ने वीडियो अपलोड करने वाले का मोबाइल नंबर भी भेजा था। पुलिस सीएसपी स्नेहिल साहू के दिशा निर्देश में जांच शुरू की। साइबर सेल की मदद से मोबाइल नंबर धारी का पता लगाया गया। आरोपी कोनी देवनगर निवासी सोमेंद्र बंजारे 18 वर्ष निकला। पुलिस उसके पास गई और पकड़कर पूछताछ की। उसने अपराध करना स्वीकार कर लिया।