जांजगीर – जिले के सक्ती तहसील में एक दिलचस्प वाकया हुआ, जब स्वास्थ्य विभाग ने भूपेश बघेल के साथ ही अपने विभागीय मंत्री टीएस सिंहदेव को भी मुख्यमंत्री बना डाला।

दरअसल, सक्ती बीएमओ ने टीकाकरण के प्रमाण पत्र कार्ड में उपर में बायी तरफ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की फोटो लगाई है और दायी तरफ स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव की। बीएमओ ने कार्ड में दोनों को मुख्यमंत्री बना दिया। फोटो के नीचे नाम तो सही लिखा गया है, लेकिन दोनों का पदनाम मुख्यमंत्री छत्तीसगढ़ लिख दिया गया है। यह कार्ड टीका लगवाने वाले हितग्राहियों को बांट भी दिए गए है। कार्ड अब सोशल मीडिया में तेजी से वायरल हो रहे हैं। यह सब कुछ स्वास्थ्य महकमे की लापरवाही से हुआ है।

सक्ती बीएमओ ने जो गड़बड़ी वाले कार्ड छपवाए थे, उसे 26 जून को टीकाकरण केंद्रों में हितग्राहियों को वितरण भी कर दिया गया। हालांकि बाद में गलती की जानकारी होने पर उन कार्डों को रोक दिया गया है। आनन फानन में नए कार्ड छपवाकर अब आने वाले हितग्राहियों को दिया जा रहा है। साथ ही जिन हितग्राहियों को त्रुटिपूर्ण कार्ड मिला है, उनसे भी सम्पर्क कर नए कार्ड देने की बात जिम्मेदारों द्वारा कही जा रही है।

लापरवाही सामने आने के बाद अब स्वास्थ्य विभाग के जिम्मेदार अधिकारी पल्ला झाड़ने की कोशिश कर रहे हैं। गलती एक दूसरे पर थोपकर बचने का प्रयास किया जा रहा है। सीएमएचओ का कहना है कि कार्ड कम पड़ने पर स्थानीय स्तर पर छपवाने की सुविधा बीएमओ को दी गई है। सक्ती बीएमओ ने अपने स्तर पर कार्ड छपवाया था। इधर सक्ती बीएमओ का कहना है कि प्रिंटिंग प्रेस से छपने के बाद कर्मचारी कार्ड लेकर आए थे, और जल्दबाजी में सीधे टीकाकरण केंद्रों में बांट दिए।

इस मामले में बीएमओ अनिल चौधरी ने मीडिया से बात करते हुए बताया कार्ड छपवाने के लिए प्रिंटिंग प्रेस में दिया गया था, जहां से प्रिंटिंग में गलती हुई। प्रिंटिंग प्रेस से कार्ड लाकर कर्मचारियों ने जल्दबाजी में सीधे टीकाकरण केंद्रों में कार्ड भेज दिया। एक दिन ही कुछ केंद्रों में यह कार्ड बंट पाया था। नए कार्ड छपवा लिए गए हैं। जिनको त्रुटिपूर्ण कार्ड मिला है, उनको भी नया कार्ड दिया जाएगा।


वहीं जांजगीर के सीएमएचओ डाॅ एसआर बंजारे ने पत्रकारों को बताया, सक्ती बीएमओ ने अपने स्तर पर कार्ड छपवाया था। विकासखण्ड में बंटे त्रुटिपूर्ण कोविड टीकाकरण कार्ड के सम्बंध में बीएमओ से जानकारी ली गई है। वहीँ अब खबर आ रही हैं कि, बीएमओ को तत्काल प्रभाव से हटा दिया गया है।

By GiONews Team

Editor In Chief