रायपुर – छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के महादेवघाट स्थित खारून नदी सुसाइड स्पॉट बन गई है. आए दिन यहां कोई न कोई अपनी जान देने के इरादे से खारून नदी में कूद रहा है. सोमवार की शाम भी कुछ ऐसा ही देखने को मिला. एक ही परिवार के 4 सदस्य समेत 5 लोगों ने खारून नदी में छलांग लगा दी. गोताखोरों की मदद से सभी की जान बचाई गई. आत्महत्या की कोशिश करने की वजह साफ नहीं पाई है.

पूरा मामला डीडी नगर थाना क्षेत्र का है. ब्राह्मणपारा निवासी एक ही परिवार के दो महिला और दो बच्चे आज शाम करीब 4 बजे आत्महत्या करने खारून नदी पहुंचे थे. एनीकट के किनारे खड़े होकर सभी लोग बहते पानी में कूद गए. पानी के तेज बहाव में सभी बह रहे थे, तभी उन पर गोताखोरों की नजर पड़ी. तत्काल गोताखोर उन्हें बचाने के लिए पानी में उतर गए. कड़ी मशक्कत के बाद सभी को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया.

एक ही परिवार के जिन लोगों ने खारून नदी में आत्महत्या करने की कोशिश की, उनमें शुभलक्ष्मी मिश्रा (52 वर्ष), अंकिता मिश्रा (31 वर्ष), इशांत मिश्रा (7 वर्ष) और हर्षिता मिश्रा (5 वर्ष) शामिल है. इसके अलावा कबीर नगर निवासी कक्कू उर्फ राजा शराब के नशे में लक्ष्मण झूला से पानी में कूद गया. इसे भी गोताखोर की मदद से बचा लिया गया. आत्महत्या की कोशिश के कारण का पता नहीं चल सका है. सभी को इलाज के लिए निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

डीडी नगर पुलिस के मुताबिक आत्महत्या का प्रयास करने वाली शुभलक्ष्मी और अंकिता रिश्ते में मां-बेटी है. बेटी अंकिता मिश्रा का कुछ समय पहले अपने पति से तलाक हो चुका है. जिस कारण वो अपने दोनों बच्चों के साथ मां-बाप के घर पर रहती है. लेकिन पिता के अपशब्द कहने और प्रताड़ना से तंग आकर इन लोगों ने आत्महत्या करने का इरादा बनाया था.

यही वजह है कि शाम करीब 4 बजे के आस-पास मां-बेटी और उसके दोनों मासूम बच्चें खारून नदी में खुदकर आत्महत्या करने का प्रयास किया. लेकिन नदी में मौजूद गोताखोरों ने अपनी जान से खेलकर सभी को सुरक्षित बाहर निकाल लिया. गोताखोरों ने पुलिस को घटना की जानकारी दी. फिलहाल पूरे मामले की जांच की जा रही है.

By GiONews Team

Editor In Chief