नईदिल्ली – भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने गुरुवार को प्रदेश में तीन अधिकारियों के 14 ठिकानों पर एक साथ दबिश दे सबकों चौंका दिया। दबिश से पहले तीनों अधिकारियों के खिलाफ आय से अधिक सम्पत्ति का मामला भी दर्ज किया। एसीबी की टीम ने जयपुर, जोधपुर और चित्तौड़गढ़ में तीन अफसरों के 14 ठिकानों पर एक साथ छापे मारे। इस दौरान टीम के हाथ इतना अकूत खजाना लगा कि हर किसी की आंखें चौंधियां गईं। दरअसल, एक अधिकारी के घर से तो उसकी आय से 1450 फीसदी ज्यादा संपत्ति बरामद हुई। जानकारी के मुताबिक, एसीबी की टीम ने सबसे पहले जयपुर विकास प्राधिकरण (जेडीए) के इंजीनियर निर्मल गोयल के घर कार्रवाई की।

641 ग्राम सोना, करीब 8 किलो चांदी, 2000 डॉलर और 245 यूरो के साथ करोड़ों का संपत्ति

सोनी ने बताया कि जेडीए के अधिशाषी अभियंता गोयल की सैलरी करीब डेढ़ लाख के करीब है। लेकिन उन्होंने अपने सेवाकाल में खर्च और परिसम्पतियों पर लगभग छह करोड़ रुपये का निवेश किया है, जो उनकी वैध आय का लगभग 1450 प्रतिशत अधिक होने का अनुमान है। ब्यूरो की चार टीमें गोयल के जयपुर के मानसरोवर पॉश इलाके में चार निवास स्थानों की तलाशी ली है।

बताया जा रहा है कि एसीबी की टीम ने चित्तौड़गढ़ में जिला परिवहन अधिकारी मनीष शर्मा के घर पर भी कार्रवाई की। यहां टीम के बाद करीब दो करोड़ रुपये के निवेश के कागजात मिले। इसके अलावा एक लाख रुपये नगद, विदेश यात्राओं के दस्तावेज, महंगी बाइक और गाड़ियां भी बरामद किए गए। मनीष कुमार शर्मा ने अपने सेवाकाल में खर्च और परिसम्पत्तियों पर 1.84 करोड़ रुपये का निवेश किया है, जो उनकी वैध आय से 232 प्रतिशत अधिक होने का अनुमान है। ब्यूरो की पांच टीमें शर्मा के छह स्थानों की तलाशी ली। इसमें पहली टीम को शर्मा के चितौड़गढ़ स्थित फ्लैट की तलाशी में नकद 99 हजार 500 रुपये, एक इनफील्ड बाइक, एक एसयूवी, विदेश यात्राओं से संबंधित दस्तावेज मिले हैं। इनके उदयपुर व जयपुर में एक एक फ्लैट को सील किया गया है।

By GiONews Team

Editor In Chief