बिलासपुर – सरकंडा थाना क्षेत्र में मोपका खार के दलदल में आवास पारा बनर्जी प्लांट के पास झाड़ियों में मिली लाश की गुत्थी को मात्र 10 घंटे में ही सरकंडा पुलिस ने सुलझा लिया। इस मामले में दो आरोपी पकड़े गए हैं।

सोमवार सुबह लोगों ने मोपका के आवास पारा बनर्जी प्लॉट के पास एक लाश देखी थी, जिसकी सूचना पाकर सरकंडा पुलिस मौके पर पहुंची। जांच के दौरान मृतक के सर पर किसी हथियार से प्राणघातक हमला करने के प्रमाण मिले। शव परीक्षण के दौरान मृतक के पेंट से उसका मोबाइल भी मिला, जिसके माध्यम से उसके परिजनों से बातचीत हुई, जिसके बाद मृतक के भाई प्रफुल्ल उर्फ बब्बू सिंह द्वारा मृतक की पहचान पुष्पराज सिंह उर्फ बब्बू सिंह निवासी राजकिशोर नगर बीएसएनल टावर के पीछे के रूप में हुई। मृतक की मां बीएसएनएल की कर्मचारी है। मृतक के भाई प्रफुल्ल की रिपोर्ट पर पुलिस ने जांच शुरू की।

घटना स्थल से कुछ ही दूरी पर शराब भट्टी मौजूद है। पुलिस ने वहां सीसीटीवी फुटेज जांचा तो पाया कि मृतक अपने भाई पुरुषोत्तम तथा भांजा अजय सिंह के साथ बाइक में बैठकर जा रहा है। जिसके आधार पर पुलिस ने मृतक के भांजा अजय सिंह निवासी अटल आवास बहतराई को हिरासत में लेकर उससे पूछताछ की। पहले तो वह पुलिस को गुमराह करता रहा लेकिन फिर पुलिस की पूछताछ में टूट गया और उसने बताया कि उसने अपने मामा पुरुषोत्तम के साथ मिलकर पुष्पराज सिंह को ठिकाने लगाया था। सूचना मिलते ही पुलिस ने तुरंत किरारी मस्तूरी में रहने वाले पुरुषोत्तम सिंह को गिरफ्तार कर लिया।

उसने बताया कि अपने भाई द्वारा शराब के नशे में गाली – गलौच करने और मारपीट करने से परेशान होकर उसने अपने भांजा के साथ मिलकर लकड़ी के बत्ते से सर पर हमला कर अपने ही सगे भाई की हत्या की थी। पुलिस ने इस मामले के दोनों आरोपी मामा भांजा पुरुषोत्तम उर्फ दद्दू सिंह और अजय सिंह ठाकुर को गिरफ्तार कर लिया है। इस मामले में सीसीटीवी फुटेज से अहम सुराग मिला। खास बात यह है कि शराब के नशे की वजह से मृतक अपने ही भाई से इस कदर गाली गलौज करता था जिससे मजबूर होकर उसे अपने ही भाई की जान लेनी पड़ी। खून के रिश्ते में बहे खून के इल्जाम में अपने ही सलाखों के पीछे पहुंच चुके हैं।

By GiONews Team

Editor In Chief