नई दिल्ली – कोरोना वायरस के मामले में गिरावट आ रही है, लेकिन संभावित तीसरी लहर की आशंकाओं के बीच एक और संकट सामने आ गया है. डेल्टा वेरिएंट के धीरे-धीरे बढ़ते मामलों ने चिंता बढ़ा दी है. अब तक माना जा रहा था कि कोरोना वायरस से लड़ने में वैक्सीन पूरी तरह से कारगर है, लेकिन अब कुछ ऐसे तथ्य सामने आए हैं जिन्होंने सभी को हैरान कर दिया है. कहा जा रहा है कि कोरोना वायरस का डेल्टा वेरिएंट कोविड वैक्सीन की दोनों डोज लेने वालों को भी संक्रमित कर रहा है.

डेल्टा वेरिएंट कर रहे संक्रमित
इस समय दुनिया भर में कोरोना वायरस को लेकर रिसर्च जारी है और वैज्ञानिक लगातार इससे निपटने के उपाय तलाशने में जुटे हुए हैं. इस बीच 10 प्रमुख कोविड 19 विशेषज्ञों ने कहा कि कोरोना वायरस के खिलाफ वैक्सीन सुरक्षा काफी मजबूत है और जिन लोगों ने अभी तक वैक्सीन नहीं लगवाई है. उन्हें इस समय ज्यादा खतरा बना हुआ है.

वैज्ञानिकों के अनुसार भारत में पहचाने जाने वाले डेल्टा वेरिएंट कोरोना वायरस के दूसरे वेरिएंट से ज्यादा खतरनाक है. यह बड़ी ही आसानी से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में ट्रांसफर हो जाता है. रिपोर्ट के मुतबाकि पिछले वेरिएंट की तुलना में यह ज्यादा तेजी के साथ पूरी तरह से वैक्सीन लगाए गए लोगों को संक्रमित करने में सक्षम है.

दुनिया के लिए बड़ा जोखिम बना डेल्टा वेरिएंट
इस समय पूरी दुनिया के लिए कोरोना वायरस का डेल्टा वेरिएंट सबसे बड़ा जोखिम बना हुआ है. माइक्रोबायोलॉजिस्ट शेरोन पेकॉक ने कहा कि डेल्टा वेरिएंट कोरोना वायरस का अभी तक का सबसे तेज वेरिएंट है. शेरान के मुताबिक वायरस लगातार अपने में परिवर्तन करता रहता है और नए नए रूप में सामने आता है. इसका नया रूप कभी कभी असली रूप से ज्यादा खतरनाक होता है.

By GiONews Team

Editor In Chief