कोरबा – छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले में प्रसव के बाद मां-बच्चे की मौत हो गई है. परिजनों ने डॉक्टर पर इलाज में लापरवाही का आरोप लगाया है. परिजनों का आरोप है कि उप स्वास्थ्य केंद्र दीपका में डॉक्टर नहीं होने पर नर्स ने प्रसव कराया था. जिस कारण उनकी हालत बिगड़ गई. फिर शव का पोस्मार्टम नहीं किए जाने पर मेडिकल कॉलेज के डीन ने डॉक्टर को नोटिस जारी किया है.

जानकारी के मुताबिक दीपिका उप स्वास्थ्य केंद्र में नमिता स्वाईन नाम की महिला को प्रसव के लिए भर्ती कराया गया था. प्रसूता का सफल प्रसव कराने के बाद महिला और नवजात बच्चे की एकाएक तबीयत बिगड़ गई. जिसके बाद अचानक दोनों को जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया. यहां नमिता स्वाई और उसके नवजात की मौत हो गई.

महिला नमिता के पति निरंजन स्वाई गेवरा में एसएमएस कंपनी में मुंशी के पद पर काम करता है. निरंजन ने बताया कि पत्नी और नवजात की मौत होने की जानकारी के संबंध में जिला अस्पताल ने अस्पताल पुलिस चौकी को सूचना उपलब्ध कराई. वहां से पोस्टमार्टम किए जाने का निर्देश दिया गया. इस मामले में अनावश्यक विलंब किया गया.

इस मामले में डॉक्टर ज्योति साहू और डॉक्टर आरके दिव्य को पोस्टमार्टम करने की जिम्मेदारी दी गई थी. बताया गया कि समय पर डॉ ज्योति के पहुंच गई थी, लेकिन डॉक्टर दिव्य ने अकारण टालमटोल किया. जिस कारण परिजन नाराज हो गए. इस वजह से 8 घंटे बीतने पर भी प्रसूता और नवजात के शव का पोस्टमार्टम नहीं किया जा सका.

मेडिकल कॉलेज के डीन वाय डी बढ़गईया ने बताया कि इस मामले की शिकायत उन्हें मिली है. जिस पर ड्यूटी पर तैनात लापरवाह डॉक्टर आर के दिव्य को नोटिस जारी कर किया गया. साथ ही इस मामले में पुलिस अधीक्षक से शिकायत करने की बात कही है.

By GiONews Team

Editor In Chief