रिश्ते को शर्मसार करने वाली वारदात : सगे भाई ने अपने ही गर्भवती बहन से किया दुष्कर्म, 11वीं क्लास में थी तब से कर रहा शोषण..

रिश्ते को शर्मसार करने वाली वारदात : सगे भाई ने अपने ही गर्भवती बहन से किया दुष्कर्म, 11वीं क्लास में थी तब से कर रहा शोषण..

भिलाई – रिश्तों को शर्मसार करने वाली वारदात सामने आई है। 33 साल की एक महिला ने अपने ही सगे बड़े भाई के ऊपर दुष्कर्म का आरोप लगाया है। महिला का कहना है कि शादी के पहले से ही उसका भाई ऐसा करता आ रहा है। पहले वह लोक लाज के डर से चुप रही। उसे लगा कि शादी के बाद सब ठीक हो जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। फिर से दुष्कर्म किया तो महिला ने अपने पति को बताया और सोमवार को भिलाई नगर थाने पहुंच कर FIR दर्ज करा दी। वहीं माता-पिता ने महिला को मानसिक रूप से बीमार बताया है।

पुलिस ने बताया कि दो दिन पहले तक महिला अपने माता-पिता के घर में ही थी। गर्भवती होने के चलते आराम करने की नीयत से ससुराल से मायके आई थी। इसके बाद बिना किसी को बताए अचानक से ससुराल चली गई। इस पर पति ने कारण पूछा तो उसने बड़े भाई के दुष्कर्म करने की बात बताई। महिला ने बताया कि वह मायके गई तो रात में उसका भाई कमरे में आ गया और दुष्कर्म किया। यह सुनकर पति ने सजा दिलाने की ठानी और पत्नी को लेकर सुबह थाने पहुंच गया।

महिला ने पुलिस को बताया कि उसका भाई भी अब शादीशुदा है। जब वह 11वीं क्लास में थी, तब पहली बार उसके भाई ने घर में अकेला पाकर उससे दुष्कर्म किया था। इसके बाद जब भी मौका मिलता, वह जबरदस्ती करता था। महिला ने पुलिस को बताया कि भाई की शादी हो गई तो उसे लगा कि अब सब कुछ ठीक हो जाएगा, लेकिन इसके बाद भी वह नहीं माना। कुछ समय बाद बहन की भी शादी हो गई, लेकिन अब वह घर आई तो उसके भाई ने फिर दुष्कर्म किया।

पुलिस ने महिला की शिकायत पर आरोपी भाई को गिरफ्तार कर लिया है। पीछे-पीछे सभी घर के लोग भी थाने पहुंच गए। पिता और बेटा काफी रो रहे थे, कि वह किसी को मुंह दिखाने लायक नहीं बचे। पिता का कहना है कि उनकी बेटी मानसिक रूप से कमजोर है। उसकी जब लव मैरिज हुई तो उन्होंने अपने होने वाले दामाद को भी यह सच्चाई बताई थी। दामाद ने प्यार का हवाला देते हुए शादी की थी। पिता का कहना है कि वह बीएसपी से रिटायर हुए और उन्हें करीब एक करोड़ रुपए मिला है। उसी के लालच में दामाद ने बेटी को उसके भाई पर झूठा आरोप लगाने के लिए मजबूर किया है।

GiONews Team

Editor In Chief