फिरौती के 10 लाख से दिवाली मनाने की फिराक में थे बदमाश युवक.. पुलिस ने मंसूबों पर फेरा पानी.. चंद घण्टों में पकड़े गए नाबालिग के 7 अपहरणकर्ता..

फिरौती के 10 लाख से दिवाली मनाने की फिराक में थे बदमाश युवक.. पुलिस ने मंसूबों पर फेरा पानी.. चंद घण्टों में पकड़े गए नाबालिग के 7 अपहरणकर्ता..

बिलासपुर– तखतपुर में दिनदहाड़े अपहरण हुए बालक को पुलिस ने सकुशल बरामद कर लिया है.. 15 वर्षीय बालक हिमालया सुबह ट्यूशन पढ़ने के लिए घर से निकला था। ट्यूशन नहीं पहुंचने पर टीचर ने परिजनों को जानकारी दी थी..  जिसके बाद पुलिस जुर्म दर्ज कर बालक की तलाश कर रही थी। शाम को किडनैपर्स ने बालक के परिजनों से 10 लाख रुपए की डिमांड की थी.. आईजी रतनलाल डांगी और एसएसपी दीपक कुमार झा के नेतृत्व में टीम को देर रात मिली बड़ी सफलता मिली, और एक नाबालिग समेत 7 किडनैपर के चंगुल से बालक को छुड़ा लिया..

आईजी रात्स्नलाल डांगी ने मामले का खुलासा करते हुए बताया, कि तखतपुर के रामनगर में रहने वाले शशि कांत पांडेय के बेटे हिमालया उर्फ कृष पांडेय 9 वीं कक्षा का छात्र है। वह तखतपुर के पाठकपारा के प्राइवेट कोचिंग करता है। मंगलवार की सुबह 10 बजे वह निकला, लेकिन शाम 4 बजे तक घर नहीं लौटा। चितिंत परिजन उसे आसपास ढूंढकर परेशान हो चुके थे। जिसके बाद हिमालया के पिता ने थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई। इसी दौरान अपहृत बालक की माँ को एक अज्ञात व्यक्ति का फोन आया, जिसमे हिमालया के अपहरण करने की बात कही, और 10 लाख रु फिरौती की मांग की। रकम न देने और पुलिस को बताने पर लड़के को जान से मार देने की धमकी देकर फोन काट दिया। मामले को गंभीरता से लेते हुए आईजी रतनलाल डांगी और एसएसपी दीपक झा की अगुवाई में पुलिस की टीम ने मोबाइल का लोकेशन निकालकर आरोपियों की तलाश शुरू की।

पुलिस की टीम ने कोचिंग क्लास समेत आसपास लगे सीसीटीवी फुटेज को खंगाला, तो अपहृत बालक ट्यूशन से वापस घर आते हुए दिखा, घर के पास से वह दो लड़कों के साथ जाता दिखा। इस क्लू के आधार पर पुलिस की टीम अलग-अलग इलाकों में खोजबीन शुरू की।   इस बीच फिरौती के लिए अलग-अलग स्थानों से आई कॉल के संबंध में साइबर सेल ने लोकेशन ट्रेस कर तखतपुर के सेमरसल गांव से दो आरोपियों को घेराबंदी कर पकड़ा। दोनों आरोपियों से कड़ाई से पूछताछ करने पर उन्होंने अपहृत बालक को सकरी क्षेत्र के सैदा ग्राम के जंगल में एक निर्माणाधीन मकान में रखने की जानकारी दी। जिसके बाद पुलिस की टीम सादे ड्रेस में पहुंचकर अपहृत हिमालया सकुशल बरामद कियज़ और आरोपियों को घेराबंदी कर धरदबोचा।

पकड़े जाने पर अपहर्ताओं ने बताया, कि रकम मिलने के बाद उनकी कट्टा खरीदने की प्लानिंग थी। जिस युवक ने बच्चे की माँ को फोन किया था उसकी आवाज सुन कर बच्चे की माँ ने भी पहचान लिया था, उसने पुलिस को आरोपी का नाम बताते हुए शक जाहिर किया था। अपहृत बच्चे ने बताया कि उसको फोन दिलवाने के बहाने गांव के ही तीन परिचित युवक ले कर गए थे। थोड़ी दूर ले जाने के बाद बाकी 4 युवको ने बच्चे को चाकू दिखा कर धमकाया था। युवक इतने शातिर थे कि उन्होंने पुलिस से बचने के लिए कांफ्रेस काल से फिरौती की मांग की थी। लेकिन पुलिस के सामने उनकी प्लानिंग फेल हो गई। पुलिस ने सेमरसल में रहने वाले राममंगल यादव, जगदीश पटेल और सोमराज पटेल, बिलासपुर में रहने वाले सुरेंद्र रजक, घनश्याम यादव, और कान्हा शर्मा व एक अन्य नाबालिग को गिरफ्तार किया है। आरोपियों पास से 5 मोबाइल और एक चाकू जब्त किया गया है।

फिरौती की रकम से दिवाली मनाने की फिराक में आरोपियों ने अपने परिचित नाबालिग का अपहरण कर लिया। हालांकि पुलिस की सूझबूझ के सामने उनकी नहीं चली और पकड़े गए। बालक को सकुशल देख परिजनों के खुशी के आंसू छलक पड़े। उन्होंने पुलिस को धन्यवाद दिया, तो आईजी रतन लाल डांगी ने पुलिस की टीम को  पुरस्कृत करने की घोषणा की।

GiONews Team

Editor In Chief