बिलासपुर। बिलासपुर में कमरा बंद कर युवक ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। उसकी लाश तीन दिन तक कमरे के भीतर फंदे पर लटकती रही और किसी को भनक तक नहीं लगी। शव से बदबू आने पर पड़ोसियों ने पुलिस को बुलाया और कमरे का दरवाजा तोड़ा, तब अंदर युवक की लाश सड़ चुकी थी और उसमें कीड़े लग गए थे। घटना सरकंडा थाना क्षेत्र की है।

बहतराई निवासी दुर्गेश गोड़ (20) घर में अकेले रहता था। वह नशा लेने का आदी भी था। तीन दिन से वह आसपास नहीं दिख रहा था। पड़ोसियों ने भी उसके गायब होने पर ध्यान नहीं दिया। हालांकि, उसके कमरे का दरवाजा अंदर से बंद था। अचानक कमरे से बदबू आने पर पड़ोसियों ने कमरे में झांक कर देखा, तब लाश फंदे पर लटक रही थी। उन्होंने इस घटना की सूचना पुलिस को दी।

पुलिस ने नाक बंद कर तोड़ा दरवाजा…….
सरकंडा पुलिस मौके पर पहुंची, तब कमरे से बदबू आ रही थी। किसी तरह नाक बंद कर पुलिसकर्मियों ने दरवाजा तोड़ा, तब अंदर युवक की लाश फांसी पर लटक रही थी। स्वीपर बुलवा कर शव को नीचे उतारा गया। एएसआई रमेश ध्रुव ने बताया कि पूछताछ में पता चला कि युवक आदतन नशेड़ी था। माना जा रहा है कि तीन दिन पहले यानी होलिका दहन की रात ही युवक ने फांसी लगा ली होगी।

मां ने छोड़ दिया, पिता की हो चुकी है मौत…..
पुलिस को पूछताछ में पता चला कि दुर्गेश गोंड की मां बचपन में छोड़कर चली गई थी। उसके पिता मंतराम की भी मौत हो गई थी। इसके चलते उसके भाई-बहन बिल्हा क्षेत्र के मुढ़ीपार में अपने बड़े पापा के साथ रहते थे। वहीं, दुर्गेश अकेले रहता था। उसके शव को परिजन अंत्येष्टि के लिए गांव ले गए हैं।

By GiONews Team

Editor In Chief